80 फीसदी भारतीय महिलाएं हैं एनीमिया की शिकार! जानिए क्या है इसका कारण

आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होने के बाद भी भारतीय महिलाएं पोषण की कमी से जूझ रहीं हैं। इनमें सबसे बड़ी समस्या एनीमिया है।
ज्यादातर भारतीय महिलाएं एनीमिया कीी शिकार हैं। चित्र: शटरस्टॉक
अदिति तिवारी Updated on: 3 September 2021, 15:56 pm IST
ऐप खोलें

क्या आपको लगातार थकान महसूस होती है? या हाल ही में आपकी त्वचा बेजान और रूखी हो गई है? हो सकता है आपको सिर्फ आराम की जरूरत न हो। यह खून की कमी के कारण भी हो सकता है। एनीमिया एक ऐसी स्थिति जहां आपके शरीर में रेड ब्लड सेल्स की कमी हो जाती है। एनीमिया कई प्रकार के होते हैं, लेकिन ज्यादातर एनीमिया शरीर में आयरन की कमी के कारण होता है।

इस वजह से शरीर में आक्सीजन का स्तर कम हो जाता है और आपको थकान महसूस होती है। और आप अकेली नहीं हैं, अस्सी फीसदी भारतीय महिलाएं इसकी शिकार हैं। इसलिए जरूरी है कि हम सभी इसके कारण और बचाव के उपाय जानें।

कैसे पता चलेगा कि आप एनीमिया की शिकार हैं

एनीमिया के अधिकांश लक्षण बहुत आम होते हैं, जिसके कारण उन पर ध्यान नहीं जाता या गंभीरता से नहीं लिया जाता है। इसलिए यदि आप लंबे समय से थकान, त्वचा का पीला होना, ऊर्जा की कमी, सांस की तकलीफ, तेज दिल की धड़कन, मूडी होना, भूख कम लगना या हर वक्त मायूसी जैसे लक्षणों का अनुभव कर रहीं हैं, तो तुरंत अपने हीमोग्लोबिन की जांच करवाएं। ये सभी लक्षण एनीमिया के हो सकते हैं, जिन्हें नजरंदाज करना सही नहीं है।

क्या हैं एनीमिया के कारण

आयरन डेफिसिट एनीमिया (Iron deficit anemia) तब होता है जब आपके शरीर में हीमोग्लोबिन का उत्पादन कम होता है। हीमोग्लोबिन रेड ब्लड सेल्स का हिस्सा है, जो शरीर में आक्सीजन का संचार करता है। यदि आप पर्याप्त आयरन का सेवन नहीं कर रही हैं, या आप बहुत अधिक आयरन लॉस कर रहीं हैं, तो आपका शरीर पर्याप्त हीमोग्लोबिन का उत्पादन नहीं कर पाता और आप एनीमिया की शिकार हो जाती हैं। यहां इसके प्रमुख कारण दिए गए हैं –

हेयर लॉस एनीमिया का संकेत हो सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

1 खून की हानि (Blood Loss)

रक्त के रेड ब्लड सेल्स में आयरन होता है। यदि आपके शरीर से ब्लड लॉस होता है, तो आप एनीमिया की शिकार हो सकती हैं। भारी माहावारी (menstruation) वाली महिलाओं में एनीमिया होने का खतरा ज़्यादा होता है क्योंकि वे ज़्यादा रक्त खो देती है। पेप्टिक अल्सर (peptic ulcer), कॉलोन पॉलीप (colon polyp) या कॉलोरेक्टल कैंसर (colorectal cancer) के कारण भी एनीमिया होता है।

2 आहार में आयरन की कमी

आपके आहार से शरीर को नियमित रूप से आयरन मिलना आवश्यक है। यदि आप बहुत कम आयरन का सेवन करते हैं, तो समय के साथ आपके शरीर में आयरन की कमी हो सकती है। इससे बचने के लिए मांस, पोर्क, सी फूड, हरी सब्जियां जैसे पालक, ड्राइ फ्रूट्स, आदि खाद्य पदार्थों को अपने आहार में जरूर शामिल करें।

3 गर्भावस्था (Pregnancy)

आयरन सप्लीमेंट के बिना, कई गर्भवती महिलाओं में आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया होता है, क्योंकि उनके आयरन को अपने बढ़े हुए खून के साथ-साथ बढ़ते शिशु के लिए हीमोग्लोबिन का स्रोत बनना पड़ता है। ऐसी स्थिति में एनीमिया होने का जोखिम बढ़ जाता है।

यहां जानिए कि आप कैसे एनीमिया की कमी को दूर कर सकती हैं

थोड़ी सावधानी के साथ आप एनीमिया का इलाज कर सकती हैं। हमने एनीमिया के लिए कुछ बेहतरीन घरेलू उपचारों का अध्ययन किया है, जो आपकी ऊर्जा को बढ़ाने में मदद कर सकते है।

विटामिन सी का सेवन बढ़ाएं

एनीमिया होने के कारण आपका इम्यून सिस्टम कमज़ोर हो जाता है। ऐसे में विटामिन सी के सेवन से आप रोगों से लड़ने की क्षमता पाते है और आयरन ऐब्सॉर्ब कर पाते है। संतरा, मौसम्बी जैसे फल या एक गिलास नींबू पानी रोज़ पिएं।

ज़्यादा हरी सब्जियां खाएं

पालक, सरसों का साग और ब्रोकली जैसी हरी सब्जियों में मौजूद क्लोरोफिल (chlorophyll) ज़्यादा मात्रा में आयरन प्रदान करती है। ध्यान रखें कि पालक को पकाकर खाना सबसे अच्छा है, क्योंकि कच्ची पत्तियों में ऑक्सालिक एसिड (oxalic acid) होता है, जो शरीर में आयरन के अब्सॉर्प्शन को रोक सकता है।

आपको अपने आहार में हरी सब्जियां शामिल करनी चाहिए। चित्र : शटरस्टॉक

अनार और चुकंदर का जूस

ताज़ा चुकंदर या अनार का रस एनीमिया के लिए रामबाण इलाज है। यह खून के निरान के लिए कारगर है। चुकंदर फोलिक एसिड (folic acid) से भरपूर होता है, जिसे आप सेब या गाजर के साथ मिला सकते हैं। दूसरी ओर, अनार आयरन से भरपूर होते हैं और साथ ही कॉपर और पोटेशियम जैसे अन्य न्यूट्रीएंट्स से भी भरपूर होते हैं। यदि इन दोनों रसों का नियमित रूप से सेवन किया जाए, तो यह स्वस्थ रहने में मदद कर सकते हैं।

किशमिश और खजूर का सेवन

किशमिश तथा खजूर आयरन और विटामिन सी का कॉम्बो प्रदान करते है। यह शरीर में आयरन का अब्सॉर्प्शन बढ़ाो हैं और खून की मात्रा बनाए रखते हैं। नाश्ते के लिए या मिड मील के नाश्ते के रूप में मुट्ठी भर किशमिश और एक या दो खजूर खाएं। वे आपको तुरंत ऊर्जा देने में भी मददगार होंगे।

एनीमिया की कमी होने पर और किसी भी इलाज की शुरुआत से पहले जरूरी है कि आप एक बार अपने डॉक्टर से बात कर लें।

यह भी पढ़ें – राष्ट्रीय पोषण सप्ताह 2021 : क्यों महत्वपूर्ण हैं आपके बेबी के शुरुआती 1000 दिन

लेखक के बारे में
अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story