आखिर कब खत्म होगा कोविड- 19? एक्स्पर्ट्स दे रहे हैं इस सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले सवाल का जवाब

कोरोनावायरस महामारी के कारण हम सब लंबे समय से एक अलग तरह का जीवन जी रहे हैं, जिसकी हमें आदत नहीं है। और हर व्यक्ति यही जानना चाहता है कि इस तनाव और बंदिशों भरे जीवन से हम कब सामान्य जीवन में लौट पाएंगे।
जल्द ही आप सामान्य जीवन की ओर बढ़ेंगे। चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 15 September 2021, 13:36 pm IST
ऐप खोलें

बिना लॉकडाउन, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के खुली हवा में सांस लेना क्या होता है, हम भूल चुके हैं। आज से 18 महीने पहले कोरोना वायरस महामारी ने भारत में दस्तक दी थी और तब से लेकर आज तक हमें हर दिन इंतजार है इसके खत्म होने का।

आखिर कब खत्म होगा कोविड – 19? यह वो सवाल है, जिसका जवाब पूरी दुनिया जानना चाहती है। दुनिया भर के एक्स्पर्ट्स की इस विषय पर अपनी-अपनी राय है। हो सकता है कि उनकी राय जानने के बाद आप निराश हो जाएं, मगर सच्चाई क्या है यह आपके लिए जानना बेहद ज़रूरी है।

कोरोना वायरस के समाप्त होने की क्या संभावना है?

मिनियापोलिस में मिनेसोटा विश्वविद्यालय (University of Minnesota in Minneapolis) में सेंटर ऑफ इंफेक्शियस डिजीज रिसर्च एंड पॉलिसी (Center of Infectious Disease Research and Policy) के निदेशक माइकल ओस्टरहोम ने चेतावनी दी है कि ”सर्दियों में कोरोनोवायरस बीमारी में “आसानी से” एक और उछाल आ सकता है।”

उनका कहना है कि सर्दियों के बाद हमें पतझड़ के मौसम में भी इसकी एक लहर देखने को मिल सकती है। जबकि उससे पहले कोविड-19 के मामलों में तेजी से गिरावट भी हम देख सकते हैं।

‘सर्दियों में कोरोनोवायरस बीमारी में “आसानी से” एक और उछाल आ सकता है।” चित्र : शटरस्टॉक

क्या वैक्सीनेशन से कोरोना वायरस के खत्म होने की कोई आशा नहीं है?

भले ही हर दिन लाखों लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है, मगर दुनिया भर में अरबों लोगों को अभी भी टीका लगाया जाना बाकी है। हमेशा ऐसे लोग होंगे जो वायरस की चपेट में आ सकते हैं। उदाहरण के लिए नवजात शिशु, वे लोग जो टीका नहीं लगवा सकते हैं, और जिन्होनें टीका लगवाया, परंतु उनकी इम्युनिटी अभी भी कम है! ये सभी कोविड-19 की चपेट में कभी भी आ सकते हैं और दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं।

SARS CoV-2 वायरस म्यूटेट कर सकता है

एक और सबसे बड़ा खतरा यह है कि कोविड – 19 वायरस खुद को किसी ऐसे वर्जन या वेरिएंट में म्यूटेट कर सकता है, जिस पर किसी भी वैक्सीन का कोई असर न हो। एक्स्पर्ट्स का कहना है कि यह अब और भी ज़्यादा मुमकिन है क्योंकि बच्चों के स्कूल खुल गए हैं, लोग ऑफिस जा रहे हैं और लॉकडाउन भी नहीं है।

सभी को वैक्सीन लगना जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक

तो, कैसे खत्म होगा कोविड-19 ?

यकीनन यह बात तो स्पष्ट है कि यह वायरस अगले कुछ महीनों में जाने वाला नहीं है। मगर विशेषज्ञों कि मानें तो 95% टीकाकरण और शरीर में मजबूत इम्यूनिटी से हम इसके जोखिम को कम कर सकते हैं।

ब्लूमबर्ग के वैक्सीन ट्रैकर के अनुसार, दुनिया भर में वैक्सीन की 5.66 बिलियन से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। अफ्रीका के अधिकांश देशों ने केवल दो-खुराक के साथ अपनी आबादी के 5% से कम को कवर करने के लिए पर्याप्त टीका दिया है। भारत ने केवल लगभग 26% को कवर करने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की है।

यह भयानक संकट हमेशा हमारे साथ रहेगा, लेकिन हल्के रूप में। जिस क्षण हम कोविड को हरा पाएंगे, वह तब नहीं होगा जब हम इसे मानव आबादी से मिटा देंगे, बल्कि तब होगा जब हम टीकाकरण और प्राकृतिक प्रतिरक्षा के स्तर पर पहुंच जाएंगे। जहां हमारे पास इससे डरने का कोई कारण नहीं बचेगा।

यह भी पढ़ें : डायबिटीज के मरीजों के लिए क्यों गंभीर हो जाता है कोविड – 19, वैज्ञानिकों ने ढूंढा इसका कारण

लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story