बेबी ने ब्रेस्ट पर काट लिया है, तो पुदीने की पत्तियां दिला सकती हैं राहत, यहां हैं पुदीना के 7 फायदे

Published on:17 June 2022, 17:30pm IST

गर्मी में पुदीने की हेल्दी ड्रिंक यानी जलजीरा का मज़ा किसने नहीं लिया होगा। वहीं पुदीने की चाय आपकी बॉडी को डिटॉक्स करने में मदद करती है। यहां हैं पुदीने के और भी कई फायदे। 

1/8

औषधीय गुणों के कारण भारत में पुदीना की पत्तियों (Mint leaf) का प्रयोग सैंकड़ों सालों से होता आया है। आज से दो सदी पहले तक सूखी खांसी में आराम पहुंचाने के लिए पुदीने की पत्तियों को छाती पर मसला जाता था। यह पाचन समस्याओं को दूर करने का रामबाण उपाय तो है ही। आइए जानते हैं पुदीना स्वास्थ्य के लिए कितना फायदेमंद है।

2/8

आंतों को रखता है स्वस्थ : पुदीना स्टमक मसल्स को रिलैक्स करता है और बाइल फ्लो को भी सही करता है। पिपरमिंट ऑयल किसी भी तरह के बॉवेल सिंड्रोम जैसे कि अपच, खट्टी डकार, पेट दर्द से राहत पहुंचाता है। यह डायजेस्टिव सिस्टम को भी ठीक करता है।

3/8

बेहतरीन माउथ फ्रेशनर : हम विज्ञापनों में मुंह की गंध दूर करने के उपाय देखते हैं। इनमें से ज्यादातर में पुदीना के एसेंसे को ही शामिल किया जाता है। पिपरमिंट का प्रयोग टूथपेस्ट, माउथवॉश और च्युइंग गम में किया जाता है। इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं, जो दांतों या मसूड़ों में रहने वाले बैक्टीरिया को आसानी से मार देते हैं। ये बैक्टीरिया ही सांसों की दुर्गंध का कारण बनते हैं।

4/8

पीरियड क्रैम्प से राहत दिलाता है : लोकल में अब भी यह देसी इलाज खूब प्रचलित है। पुदीना की पत्तियां मसल्स को रिलैक्स करती हैं। इसलिए पीरियड शुरू होने पर पुदीने का शरबत या पुदीने की चाय पिलाई जाती है। आयुर्वेद भी इसकी पुष्टि करता है। कुछ जगहों पर पुदीना की पत्तियों को पोटली में बांधकर दर्द वाली जगहों की सिंकाई भी की जाती है। जिससे आराम मिलता है। 

5/8

स्किन हेल्थ के लिए नायाब है पुदीना : ब्यूटी प्रोडक्ट्स में पुदीना या पुदीना की पत्तियाें का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर किया जाता है। एंटीबैक्टीरियल और कूलिंग प्रोपर्टी के कारण इनका इस्तेमाल किया जाता है। इसमें मेन्थॉल, नेचुरल एंटीऑक्सिडेंट और फ्लेवेनोइड्स प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है। इसलिए क्लींजर, टोनर, एस्ट्रिंजेंट और मॉइस्चराइजर के रूप में इसका इस्तेमाल किया जाता है।

6/8

7/8

पिंपल्स को दूर करता है : पुदीने की पत्तियों में मौजूद सैलिसिलिक एसिड और विटामिन ए स्किन में सीबम ऑयल के स्राव को नियंत्रित करता है। इससे मुंहासे को ठीक करने में मदद मिलती है। पुदीने की पत्तियां एंटीबैक्टीरियल, एंटिफंगल और एंटीइन्फ्लेमेटरी गुणों वाली होती हैं। एक्ने और पिंपल्स के कारण स्किन रेड हो जाती है या रैशेज हो जाते हैं, इसका प्रभावी इलाज करती हैं पुदीने की पत्तियां। 

8/8

NEXT GALLERY