जानिए चार फेमस डांसर्स ने कैसे किया लॉकडाउन का पॉजिटिव इस्‍तेमाल, प्रेरणादायी हैं उनके जवाब

बिना दर्शक, क्लासेज और प्रैक्टिस सेशन्स- जानिए कैसे यह चार डांसर्स कोविड महामारी के दौरान अपनी कला के जुनून को जगाए हुए हैं।
डांस करने से सबसे ज्यादा जल्दी कैलोरीज बर्न होती हैं । चित्र: शटरस्‍टॉक
डांस करने से सबसे ज्यादा जल्दी कैलोरीज बर्न होती हैं । चित्र: शटरस्‍टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published: 30 Sep 2020, 04:24 pm IST
  • 96

एक कलाकार का कला के प्रति प्यार और जुनून ही है, जो उसे आधी रात में भी प्रैक्टिस करने की ताकत और सुबह जल्दी उठकर प्रैक्टिस पर आने की हिम्मत देता है। हर कलाकार की तरह नर्तक यानी डांसर्स भी अपने हौसले और दृढ़ निश्चय के बलबूते ही अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकल कुछ नया सीखते हैं। नई चुनौतियों से डांसर्स खुद को निखारते हैं और हमेशा अपने सपने को पूरा करने के लिए मेहनत करते हैं। इन सपनों की उड़ान को कोई रोक नहीं सकता, एक वैश्विक महामारी भी नहीं।

कथक गुरु और IAAS (रिटायर्ड) शोवना नारायण कहती हैं, “डांस सभी डांसर्स के लिए फिटनेस का जरिया है, क्योंकि हर दिन रियाज करने से आप शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहते हैं। हम डांसर्स के लिए डांस सिर्फ एक शौक नहीं होता यह हमारी आराधना है। जैसे आप हर दिन पूजा करते हैं, हम हर दिन डांस करते हैं। इस महामारी में यह प्यार कम होने के बजाय बढ़ा है। जिसका साफ उदाहरण है इंटरनेट पर डांस वीडियो की भरमार। ये सभी वीडियो बहुत बेहतरीन नहीं हैं, सभी तरह के वीडियो आपको दिखेंगे, लेकिन महत्वपूर्ण यह है कि लोग स्वस्थ और खुश रहने के लिये डांस का सहारा ले रहे हैं।”

लॉकडाउन ने हमें कुछ और सिखाया। चित्र: शोवना नारायण
लॉकडाउन ने हमें कुछ और सिखाया। चित्र: शोवना नारायण

डांस करने के बहुत फायदे होते हैं

एक एक्सरसाइज के रूप में डांस शरीर ही नहीं मस्तिष्क के लिए भी बहुत फायदेमंद है। यह सिर्फ शारीरिक श्रम ही नहीं होता, जब शरीर डांस करता है तब दिमाग भी फ्री होता है।
कुचिपुड़ी नर्तकी, यामिनी रेड्डी कहती है,“नर्तकियों को सामान्य रूप से अपनी मानसिक और शारीरिक शक्ति को बनाए रखना पड़ता है। कोविड -19 ने हमें हर समय यात्रा और प्रदर्शन के अपने व्यस्त कार्यक्रम से बाहर निकलने का समय दिया है।”

“इसके अलावा, हमारा भारतीय शास्त्रीय नृत्य प्रशिक्षण हमेशा से ऐसा रहा है जो हमें अपनी शारीरिक फिटनेस को बनाए रखने में मदद करता है। एक बार जब शरीर शारीरिक रूप से स्वस्थ हो जाता है, तो यह हमें मानसिक स्थिरता भी देता है। महामारी में हमने एक कदम पीछे लिया और हमारे काम करने के तरीकों पर पुनर्विचार किया, हमारी कला को देखा और उन नई चीजों पर विचार किया जिन्हें हम बढ़ा सकते हैं। इस महामारी ने हमें और अधिक रचनात्मक होने के लिए समय दिया है।”

यामिनी
यामिनी

शोवना कहती हैं कि नृत्य में जोश का समावेश रचनात्मकता को बढ़ाता है, जो नई रचनाओं, नई कोरियोग्राफी, नए ऑनलाइन माध्यम से वार्ता, संवाद, ज्ञान प्रदान करने वाले सत्रों और दुनिया भर के छात्रों को प्रशिक्षण प्रदान करने जैसी नई रचनाओं के माध्यम से स्पष्ट होता है।

महामारी ने डांसर्स को अपनी कलाकृतियों पर एक नया दर्जा देने का मौका दिया है

घर पर स्वस्थ और प्रोडक्टिव बने रहना सबसे अच्छी चीजों में से एक है

एक डांसर्स अपने करियर के लिए यही कर सकते हैं क्योंकि मंच प्रदर्शन में अभी कुछ समय हैं।
यामिनी बताती हैं,“कोविड -19 ने हमें नए विषयों के बारे में सोचने के लिए बैंडविड्थ प्रदान की है और इससे हमें मानसिक रूप से बहुत खुशी मिली है। व्यक्तिगत रूप से, मैं जितनी बार संभव हो सके, अपने नृत्य का अभ्यास कर रही हूं। मैंने अपने शरीर को मजबूत करने के लिए फिटनेस कक्षाएं भी ली हैं क्योंकि डांसर के रूप में हम आमतौर पर चोटिल होते हैं और हमारे शरीर की देखभाल करने का कोई समय नहीं मिलता है। मैंने अपने आहार में परिवर्तन किया है और इसमें सभी चीजों को स्वस्थ रूप से शामिल किया है। मैं मानसिक शांति के लिए कम से कम हर रोज 15 मिनट तक ध्यान करती हूं।”

कई डांसर्स ने अपने वर्कआउट को उन सीमित स्थानों के अनुसार संशोधित किया, जिनमें वे बेडरूम, रसोई, यहां तक कि कपड़े धोने के स्थान पर प्रैक्टिस कर सकते हैं। यह सत्र अक्सर लक्ष्य और तकनीक प्रशिक्षण पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

साल्सा डांसर्स अर्शिया शर्मा कहती हैं,“लोकप्रिय धारणा के विपरीत, साल्सा एकल के रूप में भी अभ्यास किया जा सकता है। अकेले किया जाने वाला साल्सा शाइन के रूप में जाना जाता है। जिसमें आप साथी के बिना नृत्य करने के लिए पर्याप्त होते हैं। यह आपको नए तरीकों से खुद को व्यक्त करने की अनुमति देता है। आम तौर पर आप में विविधता को बढ़ाता है। मैंने महामारी के दौरान स्ट्रेंथ ट्रेनिंग, बॉडी आइसोलेशन और लेडी स्टाइल की शुरुआत की और यह सब सोलो डांस है!”

“इसके अलावा, महामारी ने मुझे अपने भाई के साथ पहली बार अभ्यास कराया,” वह हंसते हुए बताती है। 21 साल की अर्शिया कहती हैं, “हमने घर के फर्नीचर को शिफ्ट किया और अभ्यास किया। हम डांसर्स के साथ बात यही है कि हम कहीं भी जगह बना सकते हैं।”

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
मीनल पाठक
मीनल पाठक

ज़ुम्बा डांसर मीनल पाठक कहती हैं, ”कोविड-19 ने कई लोगों में एक डर को बढ़ावा दिया है और लोग डर गए हैं। मैंने इस समय का उपयोग अपने जीवन में किसी समय खरीदी गई सभी पुस्तकों को पढ़ने के लिए किया। मैंने बहुत सारी चीजें दान देकर अपने घर को खाली कर दिया और नई ऊर्जा को प्रवेश करने के लिए खाली जगह दी।”

नृत्य आत्माओं को खुश करने, ऊब को खत्म करने, ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। जैसे-जैसे आइसोलेशन न्यू नॉर्मल हो रहा है, हमें उम्मीद है कि डांसर्स आपको स्वस्थ जीवन के लिए नृत्य करने के लिए प्रेरित करेंगे।

यह भी पढ़ें – कुछ खोना कुछ पाना चलता रहता है- अपने वेट लॉस और खुद से प्यार के सफर में मैंने यह सीखा

 

  • 96
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख