फॉलो
वैलनेस
स्टोर

तेलुगु अभिनेत्री लक्ष्मी मांचू बता रहीं हैं, कैसे मेडिटेशन ने बदला उनका जीवन

Published on:24 November 2020, 19:00pm IST
लक्ष्मी मांचू को उनकी बेहतरीन एक्टिंग और अभिनय के लिए जाना जाता है। लेकिन इसके अलावा वे उन लोगों में से एक हैं जो अपनी फिटनेस को बनाए रखने के लिए खूब मेडिटेशन करती हैं। एक विशेष बातचीत के दौरान इस तेलुगु अभिनेत्री ने फिटनेस जर्नी के बारे में बहुत कुछ शेयर किया है।
अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी 
  • 84 Likes
अपने मेडिटेशन का सफर साझा कर रही हैं लक्ष्मी मांचू । चित्र- लक्ष्मी मांचू।

फिल्म से लेकर टेलीविजन शो और वेब सीरीज, एक्टर और प्रोड्यूसर लक्ष्मी मांचू ने सब कुछ किया है। वह तेलुगु सिनेमा और अमेरिकी टेलीविजन शो का एक अभिन्न हिस्सा हैं। उन्होंने कई सफल फिल्मों और सीरीज में काम किया है। लास वेगास उनका पहला शो था।

इसके अलावा उन्होंने डेस्पेरेट हाउसवाइफ जैसे शो में अपने काम के जरिए आलोचकों को और जनता को भी आकर्षित किया है। वह एक टेलीविजन प्रस्तुतकर्ता भी हैं। साथ ही हम यह मानते हैं कि ऐसा कुछ भी नहीं जिसे वह नहीं कर सकती हैं।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

वह दिग्गज अभिनेता मोहन बाबू की बेटीं हैं। लकिन उन्होंने इस इंडस्ट्री में अपनी खुद की एक अलग पहचान बनाई है। वह आज सबसे जानी-मानी और विश्वसनीय हस्तियों में से एक हैं।

फिटनेस से भी है उनकी पहचान

इस सब के अलावा वह अपनी फिटनेस का खास ध्यान रखती हैं। आप में से ज्यादातर लोग यह नहीं जानते होंगे कि वह अपनी फिटनेस को बनाए रखने के लिए मेडिटेशन करती है। हेल्थ शॉट्स के साथ एक खास बातचीत के दौरान उन्होंने मेडिटेशन करने के साथ अपनी जर्नी के बारे में काफी कुछ शेयर किया।

वे मेडिटेशन के जरिए अपनी मेंटल हेल्थ का ख्याल किस तरह रखती हैं। साथ ही उन्होंने अपना मंत्र भी शेयर किया जो उनकी लाइफ को खुशहाल बनाता है।

मेडिटेशन ने कैसे बदला जीवन

लक्ष्मी सिर्फ 19 साल की थी जब उन्होंने मेडिटेशन का अभ्यास करना शुरू किया। उनके मुताबिक मेडिटेशन ने उनके जीवन को पूरी तरह से बदल दिया है। हालांकि वह वास्तव में यह नहीं जानती कि उन्होंने इस क्षेत्र में किस तरह प्रवेश किया। लेकिन वह इस बात को लेकर काफी खुश हैं कि यह उनके जीवन का अभिन्न हिस्सा बन गया है।

उन्होंने कहा कि विपस्सना ( Vipassana) का कॉन्सेप्ट उनके लिए बिल्कुल नया था। मैंने पहले कभी इसके बारे में सुना तक नहीं था। लेकिन जैसे ही मुझे इसके बारे में पता चला, मैं वास्तव में इसका अनुभव करना चाहती थी। मैं उस बीज के लिए आभारी हूं जो छोटी उम्र में मेरे अंदर डाला गया था।

मैंने अभ्यास करना शुरू किया और फिर बंद कर दिया। लेकिन मुझे लगता है कि मैं इससे पहले से कहीं ज्यादा मेहनती बन गई हूं। जब आप में कुछ नया जानने या करने की जिज्ञासा होती है तो ऐसे में यह आपके बहुत काम आता है।

आज मेडिटेशन सीखने और इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए पॉडकास्ट और विडियोज की कोई कमी नहीं है और लक्ष्मी मंचू का भी यह मानना है कि इससे उन्हें भी काफी मदद मिली है। लॉकडाउन के दौरान इससे उनकी प्रैक्टिस काफी मजबूत हो गई है। क्योंकि हम में से ज्यादातर लोगों को कहीं जाना नहीं था।

अपने मेडिटेशन का सफर साझा कर रही हैं लक्ष्मी मांचू । चित्र- लक्ष्मी मांचू।

फिट रहने के लिए करती हूं मिक्स एक्सरसाइज

फिटनेस उनकी लिस्ट में सबसे ऊपर है। लेकिन ऐसा इसलिए भी है क्योंकि उन्हें अपनी बेटी निर्वाना के एनर्जी लेवल से मुकाबला करना होता है। मुझे लगता है कि मेरे लिए एक्टिव रहना बहुत जरूरी है। इसका एहसास मुझे मेरी बेटी के जन्म के बाद हुआ। क्योंकि मुझे उसके साथ रहने के लिए एनर्जी की जरूरत थी।

मैं उस दौरान सुस्त रहना नहीं चाहती थी और अपनी बेटी की ऊर्जा से मेल खाने के लिए आपको अपने शरीर को जवान, कोमल और अधिक जीवंत बनाए रखने की जरूरत होती है।

आप सिर्फ वर्कआउट जरिए ही ऐसा कर सकते हैं। इसलिए मैं बैडमिंटन खेलती हूं, सैर पर जाती हूं, पैदल चलती हूं इसके अलावा वेट ट्रेनिंग और फंक्शनल योगा भी करती हूं। ऐसा करके मैं अपने दिन को खास बनाती हूं।

सोशल मीडिया के प्रेशर को संभालना

लक्ष्मी हमेशा वास्तविक और भरोसेमंद रही हैं और उनका सोशल मीडिया इस बात का प्रमाण है। वह अक्सर अपने जीवन की छोटी-छोटी यादें सोशल मीडिया पर शेयर करती हैं। जो उनके प्रशंसकों को उनके और करीब ले आता है।

लक्ष्मी कहती हैं कि मैं इस बात से इनकार नहीं करती कि सोशल मीडिया का भी हमारे ऊपर काफी प्रेशर होता है। लेकिन यह हमें अपने प्रशंसकों के काफी नजदीक ले जाता है। वे देख सकते हैं कि हम ऑफ स्क्रीन क्या करते हैं। साथ ही इसके अलावा भी हम कौन हैं। मुझे भी लगता है कि यह वास्तव में इस बात पर निर्भर करता है कि आप उसका कितना प्रेशर लेना चाहते हैं। कभी-कभी जब आप शूटिंग कर रहे होते हैं, तो किसी विशेष दिन पर कुछ बाहर करने के लिए मुझे प्रेशर महसूस होता है, लेकिन मैं कोशिश करती हूं कि उन छोटी चीजों पर जोर न दूं।

अपना सर्वश्रेष्ठ जीवन जिएं

जो लोग मुझे देखते और मुझे फॉलो करते हैं उन्हें मेरी एक सलाह है कि आप अपना सर्वश्रेष्ठ जीवन जिएं। अगर मैं आजादी, खुशी और अपनी जिंदगी जीने की इच्छा से दूसरों को प्रेरित कर सकती हूं और उनके जीवन में अपना कोई योगदान दे सकती हूं, तो मेरे लिए इतना ही काफी है।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी  अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी 

ये बेमिसाल और प्रेरक कहानियां हमारी रीडर्स की हैं, जिन्‍हें वे स्‍वयं अपने जैसी अन्‍य रीडर्स के साथ शेयर कर रहीं हैं। अपनी हिम्‍मत के साथ यूं  ही आगे बढ़तीं रहें  और दूसरों के लिए मिसाल बनें। शुभकामनाएं!