मिलिये मिस ट्रांस ग्लोबल 2021 श्रुति सितारा से, जिन्होंने अपने समुदाय का नाम रौशन किया है

Updated on: 5 May 2022, 15:08 pm IST

मिस ट्रांस ग्लोबल 2021 श्रुति सितारा ने अपनी जिंदगी के सफर से लेकर अपने सबसे मजबूत सपोर्ट सिस्टम तक, सबके बारे में यहां खुलकर बात की है।

miss trans global sruthy sithara
श्रुति सितारा: 2021 की मिस ट्रांस ग्लोबल। चित्र - Sruthy Sithara

कुछ साल पहले तक, श्रुति सितारा का जीवन बिल्कुल अलग था। केरल की रहने वाली 28 वर्षीय श्रुति ने मिस ट्रांस ग्लोबल 2021 का खिताब जीतकर इतिहास रच दिया। वह इस शहर की पहचान बन गई हैं। वह मिस ट्रांस ग्लोबल 2021 जीतने वाली पहली भारतीय हैं। मगर वे इसे अपनी व्यक्तिगत जीत नहीं मानती हैं। श्रुति के लिए, यह ताज एक उन्हें याद दिलाता है कि कैसे ट्रांस समुदाय समान स्तर पर है, और इसमें उत्कृष्टता प्राप्त करने की क्षमता है।

चूंकि सौंदर्य प्रतियोगिता वर्चुअली आयोजित की गई थी, इसलिए विजेता घोषित होने से पहले, सितारा को कई राउंड का हिस्सा बनना पड़ा। तैयारी काफी कठिन थी और छह महीने तक चली, लेकिन जैसा कि वे कहती हैं, अंत भला तो सब भला। उन्होंने ट्रांस महिलाओं के लिए अंतरराष्ट्रीय ब्यूटी पैजेंट जीतकर देश को गौरवान्वित किया, जिसमें ऑस्ट्रेलिया, फिलीपींस, यूके, इंडोनेशिया और जापान जैसे 16 देशों के प्रतियोगियों ने भाग लिया।

इस ऐतिहासिक जीत के बाद हेल्थशॉट्स ने श्रुति के साथ उनके सफर के बारे में खास बातचीत की। साथ ही, एक ट्रांस महिला के रूप में उनके द्वारा सामना किए गए संघर्षों और उनके लिए भविष्य के बारे में भी बात की।

” ट्रांस समुदाय के लिए एक नया कदम है सौंदर्य प्रतियोगिता “

केरल के शहर वैकोम में जन्मी श्रुति सितारा ने एक साधाहरण जीवन जिया। शुरुआत में, वह एक लड़की की तरह महसूस करने लगी, और इसने उसे भ्रमित कर दिया। उन्होनें जेंडर डिस्फोरिया का अनुभव किया लेकिन लंबे समय तक खामोशी से पीड़ित रही।

वह कहती हैं “मेरे भाई और अन्य पुरुष मित्र मुझे उन खेलों में भाग लेने के लिए कहते थे जिन्हें मर्दाना माना जाता है, लेकिन मुझे कभी दिलचस्पी नहीं थी। यह कुछ समय तक चलता रहा, और मुझे समझ नहीं आ रहा था कि समस्या क्या है। कोच्चि में अपने कॉलेज के वर्षों के दौरान ही मैंने ट्रांसजेंडर व्यक्तियों के साथ बातचीत की। तभी मुझे समझ में आया कि मैं उनमें से एक हूं, और श्रुति सितारा के रूप में सामने आई।”

बड़े होने के दौरान, वह ब्यूटी क्वीन सुष्मिता सेन और ऐश्वर्या राय बच्चन को देखती थीं, और हमेशा उनके जैसा बनना चाहती थीं। उनका कई वर्षों का सपना आखिरकार इस ताज को जीतने के बाद सच हो गया। मगर, सीतारा को लगता है कि यह उनके लिए और भी बड़ा महत्व रखता है।

वह साझा करती है – “क्राउन के बाद जीवन वास्तव में बदल गया है – न केवल मेरा जीवन, बल्कि ट्रांसजेंडर समुदाय के बारे में धारणा भी।”

ट्रांसफोबिया से श्रुति सितारा की लड़ाई

हालांकि भारत में The Transgender Persons (Protection of Rights) Act, है, लेकिन इसका कार्यान्वयन संतोषजनक नहीं है। 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में लगभग 500,000 ट्रांसजेंडर व्यक्ति हैं। और वे मारे जाने, प्रताड़ित किए जाने या यौन उत्पीड़न के निरंतर भय में रहते हैं।

लोकप्रिय रेडियो जॉकी और एंकर अनन्या कुमारी एलेक्स, जिन्होनें कथित तौर पर कुछ महीने पहले आत्महत्या कर ली, सितारा की दोस्त थीं। उनकी मृत्यु नें श्रुति पर गहरा प्रभाव डाला। ऐसा माना जाता है कि एलेक्स एक असफल लिंग पुष्टिकरण सर्जरी से काफी परेशान थी।

milye miss trans global sruthy sithara se
ट्रांस समुदाय के लिए एक नया कदम है सौंदर्य प्रतियोगिता. चित्र : शटरस्टॉक

यह सितारा के लिए सिर्फ एक घटना नहीं थी; वह हमेशा ट्रांस समुदाय के उत्थान में सबसे आगे रही है। वास्तव में, वह उन पहले चार ट्रांसजेंडरों में से थीं, जिन्हें केरल सरकार द्वारा सरकारी नौकरी के लिए नियुक्त किया गया था।

वह आगे कहती हैं “मैंने ट्रांसजेंडर सेल, सामाजिक न्याय विभाग में एक परियोजना सहायक के रूप में काम किया। ट्रांस समुदाय के अन्य सदस्यों की तरह, मैंने कई चुनौतियों का सामना किया है, खासकर मेरे शुरुआती वर्षों में। मगर मुझे अपने परिवार, खासकर मेरे पिता का समर्थन मिला है। वह मेरा सबसे बड़ा सपोर्ट हैं।

श्रुति सितारा , एक रोल मॉडल

वे मानती हैं कि ट्रांस कम्युनिटी की धारणा को बदलने के लिए शिक्षा एक महत्वपूर्ण साधन है। उनका मानना ​​है कि समाज में कई भ्रांतियां हैं जिन्हें दूर करने की जरूरत है।

सितारा कहती हैं “लोग सोचते हैं कि ट्रांसजेंडर यौनकर्मी, भिखारी और अपराधी होते हैं। तथ्य यह है कि आईटी, फिल्मों और मेकअप उद्योग में ट्रांस व्यक्ति हैं, और हमें इसे स्वीकार करने की आवश्यकता है। हम और लोगों की तरह ही हैं।”

श्रुति का भविष्य उज्ज्वल है, और वह जागरूकता पैदा करने के लिए हर अवसर का उपयोग करना चाहती है। इसके अलावा, वह जोर देकर कहती है कि ट्रांस कम्युनिटी के खिलाफ भेदभाव खत्म होना चाहिए।

उनका कहना है कि “कुछ लोग ट्रांस महिलाओं को बॉडी शेम भी करते हैं। हार्मोन थेरेपी के परिणामस्वरूप शारीरिक परिवर्तन होते हैं, लेकिन लोग हमारा मजाक उड़ाते हैं। लोग इन चीजों को सार्वजनिक रूप से भी बताते हैं। और इससे समाज में टोक्ससिटी आती है।

यह भी पढ़ें : Year Ender 2021 : मिलिये उन 6 पावर गर्ल्स से, जिन्होंने दुनिया के देखने का नजरिया बदल दिया

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।