और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

पाताल लोक अभिनेत्री अनिंदिता बोस का कहना है, “तनाव भरे वातावरण में मैडिटेशन खुद को शांत रखने का एक पवित्र साधन है”

Published on:28 August 2021, 16:00pm IST
पाताल लोक और रे में काम कर चुकी अनिंदिता बोस एक ऐसी अभिनेत्री हैं, जिनसे आप सब रिलेट कर पाएंगे। हेल्थ शॉट्स के साथ एक एक्सक्लूसिव बातचीत में, वह बंगाली सिनेमा से ओटीटी की दुनिया तक और एक सेलेब के जीवन में सोशल मीडिया की भूमिका, के बारे में बात कर रहीं हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 113 Likes
Anindita Bose
मिलिए अनिंदिता बोस से - चित्र : Anindita Bose

कुछ ही अभिनेता ऐसे होते हैं जो वास्तविक लगते हैं, और आपके दिमाग पर एक अमिट छाप छोड़ते हैं। ऐसी ही एक अभिनेत्री हैं अनिंदिता बोस, जिन्होंने हाल ही में लोकप्रिय ओटीटी शो ‘पाताल लोक’ और ‘रे’ में अपने प्रभावशाली प्रदर्शन से धूम मचा दी है। कुछ लोग उनकी पसंद की भूमिकाओं को ‘बोल्ड’ और ‘विवादास्पद’ कह सकते हैं, लेकिन बोस जब भी स्क्रीन पर आती हैं, उनका आत्मविश्वास और प्रभावशाली व्यक्तित्व चमकता है।

हेल्थ शॉट्स के साथ एक बातचीत में, बोस ने बंगाली सिनेमा से वेब सीरीज़ की दुनिया तक की उनकी यात्रा, उनके अच्छे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का रहस्य, और सोशल मीडिया ट्रोल्स उन्हें कैसे प्रभावित नहीं करते हैं, के बारे में बात करती हैं।

ऐसी रही मेरी अब तक की यात्रा

बोस की यात्रा 2009 में बंगाली सिनेमा में उनके प्रवेश के साथ शुरू हुई। उनका काम वास्तव में प्रभावशाली है, और हर तरह से उनकी बहुमुखी प्रतिभा को दर्शाता है। वह रूढ़ियों तो तोड़ने वाली हैं और यह बड़े पर्दे पर उसकी उपस्थिति में दिखाई देता है।

अनिंदिता कहती हैं कि – “मेरी हमेशा से यह धारणा थी कि मेरी जैसी अभिनेत्रियों के लिए यहाँ बहुत अवसर नहीं हैं, खासकर इस उद्योग में। पांच साल पहले, मैंने नोटिस करना शुरू किया कि यह सच नहीं है। बहुत सारे अभिनेता, निर्देशक और लेखक आज एक्सपेरिमेंट कर रहे हैं और इससे मेरे हौसलों को मदद मिली।

धीरे-धीरे और लगातार, मैंने कास्टिंग डायरेक्टर्स से मिलने और ऑडिशन देने की प्रक्रिया शुरू की। मुझे बहुत सारे रिजेक्शन मिले और आज भी ऐसा होता है। मगर मुझे लगता है कि जिस तरह से अभिनेताओं को यहां कास्ट किया जाता है, वह खूबसूरत है, क्योंकि इसका मतलब है कि आप इस भूमिका के लिए सही हैं।”

Anindita Bose
अनिंदिता बोस एक ऐसी अभिनेत्री हैं, जिनसे आप सब रिलेट कर पाएंगे। चित्र : Anindita Bose

विवादों से निपटने का है अपना अंदाज

जब कोई फिल्म या शो रिलीज़ होता है, तो जनता द्वारा उसकी छानबीन किया जाना तय है। कभी-कभी इसकी प्रशंसा की जाती है, जबकि अन्य अवसरों पर, इसकी आलोचना भी की जा सकती है। मगर बोस पूरी तरह से बेफिक्र रहती हैं।

वह बताती हैं “जब मैं एक पेंटिंग बनाता हूं, तो मैं उसमें सब कुछ डालता हूं, लेकिन मुझे नहीं पता कि लोग इसे कैसे समझेंगे। कुछ लोग वास्तव में यह नहीं समझ सकते हैं कि मैंने क्या बनाया है, जबकि अन्य लोग कह सकते हैं कि यह बहुत अच्छा काम है।

यह किसी को खुशी के आंसू भी दे सकता है या किसी को सच में भावुक कर सकता है। मुझे लगता है कि हम जो भी काम कर रहे हैं, उसके साथ भी ऐसा ही है, चाहे वह लॉन्ग-फॉर्मेट हो, शॉर्ट फॉर्मेट हो, फीचर फिल्म हो या कुछ और। मेरे लिए, मैं इसे इसी तरह देखती हूं।”

“हमें सब कुछ हस्ते हुए स्वीकार करना चाहिए। मेरे दिमाग में, जब मैं पाताल लोक या रे देखती हूं, तो मुझे पता है कि काम कितना अच्छा है। मुझे यकीन है कि हर कोई मेरी सोच से मेल नहीं खाएगा।”

Anindita Bose
अनिंदिता बोस का कहना है, “तनाव भरे वातावरण में मैडिटेशन खुद को शांत रखने का एक पवित्र साधन है”. चित्र : शटरस्टॉक

मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य भी है जरूरी

बोस ने अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को नियंत्रण में रखने के लिए “ध्यान” करना शुरू किया, खासकर पिछले दो वर्षों में। उनका मानना ​​है कि इससे उन्हें हर एक दिन जमीन से जुड़े रहने में मदद मिली है।

वह कहती हैं “जब भी मैं उठती हूं, मैं 10 से 15 मिनट तक ध्यान करती हूं। मुझे वास्तव में मेरे माता-पिता और मेरी बहनें, के रूप में एक अच्छा सपोर्ट मिला है। हर बार जब मैं लड़खड़ाती हूं या बुरा महसूस करती हूं, तो मुझे पता है कि मेरे पास वे हैं। शारीरिक स्वास्थ्य एक ऐसी चीज है जिस पर हमें ध्यान देते रहना है, क्योंकि यह हमारे काम का हिस्सा है। मेरे लिए, यह सिर्फ एक जीवन शैली है।”

वह नियमित सैर पर जाना, या पिलेट्स या योग में इंगेज होना पसंद करती हैं।

बोस ने अपने खाने के पैटर्न पर भी काम किया है और इससे उन्हें काफी मदद मिली है!

सोशल मीडिया और मानसिक स्वास्थ्य

सेलेब्रिटीज हमेशा सुर्खियों में रहते हैं, और सोशल मीडिया के साथ, इंटरेक्शन बढ़ा है। बोस ने स्वीकार किया कि जब यह परिवर्तन हो रहा था, तब वह थोड़ा “अशांत” महसूस कर रही थीं, क्योंकि अगर वह ऐसा नहीं करना चाहती थीं, तो भी उनके प्रोफेशन के लिए यह महत्वपूर्ण था।

Anindita Bose on mental health
सोशल मीडिया को खुद पर हावी न होने दें। चित्र: शटरस्‍टॉक

बोस कहती हैं – “क्या मैं हमेशा कुछ नया कंटेंट डालने का दबाव महसूस करती हूं? हां… लेकिन मुझे लगता है कि मैंने अपने दिमाग में यह संतुलन बना लिया है, जहां मुझे वास्तव में इस बात की परवाह नहीं है कि मेरी तस्वीर को कितने लाइक मिले हैं या मेरे फॉलोअर्स क्यों नहीं बढ़ रहे हैं। शुरू में इसने मुझे परेशान किया मगर अब इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। जो मायने रखता है वह यह है कि मैं कैमरे के सामने क्या करती हूं।”

सोशल मीडिया और ट्रोलिंग साथ-साथ चलते हैं, लेकिन सौभाग्य से, बोस इसकी शिकार नहीं हुई हैं। वह कभी-कभी बॉडी शेम्ड होती है, लेकिन आज यह वास्तव में उसे प्रभावित नहीं करती है, क्योंकि वह जैसी है, और दिखती है, उससे प्यार करती है।

अंत में

ऐसी कई महिलाएं हैं जो बोस को वैसे ही देखती हैं जैसे वह हैं। वे कहती हैं “गर्ल्स, बस खुद से प्यार करो। प्यार का सबसे शुद्ध रूप आप खुद को दे सकते हैं, जहां आप खुद को पूरी तरह से स्वीकार करते हैं, वैसे ही जैसे आप हैं। और कृपया अपने बारे में कुछ भी न बदलें। यदि आप वास्तव में अपने बारे में कुछ बदलना चाहती हैं, तो कुछ अच्छी आदतें अपनाने के लिए ऐसा करें। बस खुद के मालिक बनो बोस यही कहती हैं !”

यह भी पढ़ें : डायरी लेखन ने बदल दी उनकी जिंदगी : ये है लाइफ स्ट्रेटेजिस्ट अर्पिता भंडारी की कहानी

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।