महिमा चौधरी ने किया ब्रेस्ट कैंसर से संघर्ष का खुलासा, शेयर की अपनी कहानी

अभिनेत्री महिमा चौधरी ने अपने स्तन कैंसर से ग्रस्त होने की खबर सोशल मीडिया पर साझा की है, और उन्होंने बहादुरी के साथ इसका मुकाबला करने का फैसला किया है, यहां जानिए उनकी कहानी!
महिमा चौधरी को हुआ स्तन कैंसर। चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 10 June 2022, 14:04 pm IST
ऐप खोलें

हर साल महिलाओं की एक बड़ी संख्या स्तन कैंसर की चपेट में आ जाती है। और यह संख्या बढ़ रही है। इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में कैंसर से पीड़ित लोगों की संख्या 2025 तक बढ़कर 29.8 मिलियन होने का अनुमान है। कैंसर रोग के कुल 40 प्रतिशत में से 10.5 प्रतिशत स्तन कैंसर के मामले हैं। हाल के दिनों में, कई प्रसिद्ध महिलाएं अपनी कैंसर फाइट के बारे में खुलकर सामने आई हैं, जिससे अन्य सरवाईवर्स को इससे लड़ने की ताकत मिली है। बॉलीवुड एक्ट्रेस महिमा चौधरी ने इस बार अपने ब्रेस्ट कैंसर डायग्नोसिस और इलाज की कहानी सोशल मीडिया के जरिए शेयर करने की हिम्मत जुटाई है।

परदेस एक्ट्रेस की हालत का खुलासा अभिनेता अनुपम खेर ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट के जरिए किया। जब उन्होंने उन्हें अपनी फिल्म द सिग्नेचर में एक भूमिका की पेशकश करने के लिए बुलाया, तब उन्हें पता चला कि महिमा स्तन कैंसर से लड़ रही हैं। वास्तव में, जब अनुपम खेर का फोन आया, तो वे एक अस्पताल में अपना इन्फ़्यूज़न करवा रही थी!

वीडियो में चौधरी इस बात को लेकर भावुक हो गईं कि अनुपम खेर उनका हौंसला बढ़ा रहे हैं। अनुपम खेर ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में उन्हें ‘हीरो’ कहा और उन्होनें कहा ​​​​कि “हमारे पास वास्तविक जीवन के हीरो नहीं हैं और इसी की हमें तलाश है।”

अभिनेत्री ने लिखा, “उनका अनुभव दुनिया भर में इतनी सारी महिलाओं को उम्मीद देगा।” महिमा सेट पर वापस आ गई हैं और “एक नई उड़ान के लिए तैयार हैं”।

जैसा कि होता है, अनुपम खेर की पत्नी, अभिनेता-राजनेता किरण खेर को 2021 में मल्टीपल मायलोमा, एक प्रकार का रक्त कैंसर का पता चला था। इसके अलावा, पिछले कुछ वर्षों में, बॉलीवुड में कई महिलाओं – पुरानी अभिनेत्री मुमताज से लेकर लेखक-निर्देशक ताहिरा कश्यप खुराना से लेकर सोनाली बेंद्रे और लिज़ा रे तक – ने कैंसर के विभिन्न रूपों के साथ अपने संघर्षों के बारे में बात की है।

यहां देखें महिमा चौधरी की पोस्ट

स्तन कैंसर क्या है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, “स्तन की ग्रंथि ऊतक में नलिकाओं (85%) या लोब्यूल (15%) में स्तन कैंसर उत्पन्न होता है। समय के साथ, कैंसर बढ़ सकता है और आसपास के स्तन ऊतक, पास के लिम्फ नोड्स या शरीर के अन्य अंगों पर आक्रमण कर सकता है। यदि एक महिला की स्तन कैंसर से मृत्यु होती है, तो यह व्यापक मेटास्टेसिस के कारण होता है।”

महिमा चौधरी को कैसे पता चला कि उन्हें ब्रेस्ट कैंसर है?

महिमा ने अपने इंस्टाग्राम वीडियो में कहा, “मुझे कैंसर का कोई लक्षण नहीं था और मेरे नियमित वार्षिक चेकअप में इसका पता चला था।” उन्होंने खुलासा किया कि कैसे उनका चेकअप करने वाले व्यक्ति ने उन्हें एक ऑन्कोलॉजिस्ट से मिलने के लिए कहा। जिसने उन्हें बताया कि उनकी बॉडी में कैंसर कोशिकाएं हैं, जो कैंसर बन सकती हैं। उनकी बायोप्सी के बाद, उन्हें कैंसर का पता नहीं चला, लेकिन उसके शरीर से जो छोटी-छोटी कोशिकाएं निकाली गईं, उनमें से कुछ कैंसर बन गईं। उन्हें कीमोथेरेपी से गुजरना पड़ा, वे कहती हैं, “मैं अब पूरी तरह से ठीक हूं, और बेहतर हो रही हूं।”

क्यों महत्वपूर्ण है स्तन कैंसर का जल्दी निदान?

कैंसर का जल्दी पता चलने के कारण उनका इलाज करना आसान हो गया। इसलिए, यह समझना महत्वपूर्ण है कि यदि रोग की पहचान जल्दी हो जाए, तो उपचार अत्यधिक प्रभावी हो सकता है। 30 वर्ष की आयु से अधिक की सभी महिलाओं को अपनी स्थिति का खुद पता लगाना चाहिए और गांठ की जांच करनी चाहिए, जो कैंसर के कारण हो सकती हैं। जागरूकता की कमी और शुरुआती जांच में लापरवाही स्तन कैंसर से होने वाली मौतों के प्रमुख कारणों में से एक है।

5 घंटे की शारीरिक गतिविधि कैंसर को रोकने में कर सकती है मदद। चित्र : शटरस्टॉक

मानसिक रूप से कैंसर से कैसे लड़ें?

वीडियो में, महिमा ने बताया कि कैसे उन्होंने अपने माता-पिता को सूचित तक नहीं किया क्योंकि हर कोई ‘कैंसर’ शब्द से डरता है। हालांकि, उन्होंने बहुत सी महिलाओं से सीखा जो कीमोथेरेपी के लिए आई थीं, और सीधे काम पर चली गईं। उन्होंने याद किया कि कैसे एक युवा लड़के, जिसका कैंसर का इलाज चल रहा था, ने वास्तव में उन्हें बताया कि यह वह दवा है जो उसे बेहतर बना रही है और वह खेलने में सक्षम है। उन्हें देखकर उन्हें लगा कि मजबूत दिमाग से अपनी हालत से जूझना जरूरी है।

अपने जोखिम को कम करने के लिए आप क्या कर सकती हैं?

सीडीसी के अनुसार, इन सरल टिप्स का पालन करके कोई भी स्तन कैंसर के जोखिम को कम कर सकता है:

स्वस्थ वजन बनाए रखना।
नियमित रूप से व्यायाम करना।
शराब के सेवन को सीमित करना।
हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी या मौखिक गर्भ निरोधकों का उपयोग कम से कम करना।
यदि संभव हो, तो अपने बच्चों को स्तनपान कराना।

यह भी पढ़ें : धरती मेरी मां हैं और ये पेड़ मेरे बच्चे, मिलिए राजस्थान की ट्री वुमेन अनुपमा तिवाड़ी से 

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी

हेल्थशॉट्स कम्युनिटी का हिस्सा बनें

ज्वॉइन करें
Next Story