वैलनेस
स्टोर

एक्जीक्यूटिव लीडरशिप कोच भावना दलाल से सीखें कार्यस्थल पर सेक्सिज्म से निपटना

Published on:2 January 2021, 16:00pm IST
कार्यस्थल में सेक्सिज्म यानी लिंगभेद सचमुच होता है। आज भी ज्यादातर महिलाएं इससे जूझती हैं। एक विशेष बातचीत में, एक्ज़ीक्यूटिव लीडरशिप कोच और चेकमेट ऑफिस पॉलिटिक्स की लेखक ने हमें सेक्सिज्म से निपटने के तरीकों के बारे में बताया।
अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी 
  • 76 Likes
भावना दलाल कार्यस्‍थल पर लिंग भेद के बारे में बात कर रहीं हैं। चित्र: भावना दलाल

सेक्सिज्म यानी महिलाओं के प्रति भेदभाव अभी तक खत्म नहीं हुआ है। दुर्भाग्य से, यह हमारे जीवन के हर क्षेत्र में मौजूद है, यहां तक ​​कि कार्यस्थल पर भी, जहां महिलाओं को शीर्ष नेतृत्व पदों पर पहुंचने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ता है।

पितृसत्ता और सामाजिक कंडीशनिंग ने महिलाओं को पीढ़ियों तक उत्पीड़ित महसूस करने के लिए छोड़ दिया है। लेकिन धीरे-धीरे और लगातार, वे अपनी स्थिति से उबर रही हैं और दुनिया में अपनी सही जगह के लिए लड़ रही हैं।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

बेंगलुरु की रहने वाली भावना दलाल, लीडरशिप कोच और चेकमेट ऑफिस पॉलिटिक्स की लेखिका जैसे कई अन्य लोग हैं, जो महिलाओं को ऐसे हालात में प्रभावी ढंग से काम करने में मदद कर रहे हैं और उन्हें मजबूत बनाकर, इस स्थिति से उबारने में मदद कर रहे हैं।

उनकी कहानी भी उतनी ही प्रेरणादायक है। वे अपने 40 के दशक में एक उद्य़मी के रूप में बदल गईं, जिसे वह अपना कैरियर 2.0 कहती हैं। आईआईएम कलकत्ता से एमबीए करने वाली एक इंजीनियर, जिन्होंने अपने जीवन का पहला आधा समय सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में बिताया, जिसमें वह मुख्य रूप में अमेरिका में काम कर रही थीं, साथ ही वह दक्षिण अफ्रीका और भारत से भी जुड़ी रहीं।

जब वे भारत वापस लौटीं, तो वह कुछ ऐसा करना चाहती थीं जिससे उन्हें खुशी, संतुष्टि मिले, और एक ऐसा उद्देश्य जो भौतिक उपलब्धियों से परे हो।

हेल्थ शॉट्स के साथ एक विशेष बातचीत में, भावना ने बताया कि कैसे उन्होंने अपने कार्यस्थल पर सेक्सिज्म का सामना किया। साथ ही उन सामान्य चुनौतियों के बारे में भी जिनका कॉरपोरेट जगत में महिलाओं को अक्सर सामाना करना पड़ता है, और कैसे जरूरी नहीं है कि राजनीति नकारात्मक हो।

कार्यस्थल में सेक्सिज्म

विभिन्न देशों में काम करने के बाद, भावना को लगता है कि उन्होंने विभिन्न रूपों और परिस्थितियों में सेक्सिज्म का अनुभव किया है।

भावना दलाल

उन्होंने बताया कि, दक्षिण अफ्रीका में 21 साल की उम्र में काम करने के अलावा, रंगभेद के उन्मूलन के बाद, संयुक्त राज्य अमेरिका में अकेले रहने और एक कंपनी को स्थापित करने और चलाने के दौरान मैनें यह सब देखा है। सामान्य प्रवृत्ति लोगों को यह सोचने के लिए है कि वे अपनी भूमिका, परियोजनाओं या पारिश्रमिक के परिणामों के बिना महिलाओं का लाभ उठा सकते हैं।

इन संघर्षों के बावजूद, उन्होंने अपने पक्ष में बाधाओं को मोड़ने का फैसला किया। एक ऐसे व्यक्ति की तरह जो हमेशा रचनात्मकता, पोषण, सहानुभूति और कार्यवाई के प्रति उन्मुख रहता है। भावना ने अपने दिल की सुनने और एक एक्ज़ीक्यूटिव कोच बनने का फैसला किया।

उनका कहना है कि, मैं जिन विशिष्ट चुनौतियों के साथ अपने ग्राहकों की मदद करती हूं, वे कार्यकारी उपस्थिति का निर्माण कर रहे हैं, और उनके कौशल को प्रभावित कर रहे हैं। वे अपनी सोच को अधिक रणनीतिक बनाने के साथ ही, दृढ़ विश्वास और स्पष्‍टता के साथ संवाद करते हैं। साथ ही इसके आधार पर उच्च प्रदर्शन वाली टीमों, संचार, नेटवर्किंग कौशल और संगठनात्मक सहयोग का नेतृत्व कर रहे हैं।

महिला लीडर्स के सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करना

भावना कहती हैं कि मैं उनमें मुखरता लाकर या कभी-कभी आक्रामकता को कम करने में मदद करके महिला लीडर्स को विकसित करने में मदद करती हूं। हमें न सिर्फ सचेत और सतर्क रहने की जरूरत है। बल्कि जब हम पक्षपात को नोटिस करते हैं, तो हमें उसके बारे में बोलना चाहिए और आवाज उठानी चाहिए।

विविधता और समावेश की वास्तविक आवश्यकता और लाभों के बारे में लोगों को शिक्षित करना अक्सर मेरी नौकरी का हिस्सा होता है।

उनके नेतृत्व प्रशिक्षण का एक और महत्वपूर्ण पहलू राजनीति की समझ है, और वह उनकी पुस्तक चेकमेट ऑफिस पॉलिटिक्स के अंतर्निहित विषय में भी होता है। कार्यस्थल में राजनीति को लेकर, ज्यादातर लोगों का कहना है कि वे इससे दूर रहना चाहते हैं। दूसरी ओर, भावना को यह लगता है कि जिसे समझना महत्वपूर्ण है, वह अंतर है जो अच्छी और बुरी राजनीति के बीच मौजूद है।

भावना दलाल अपनी किताब के साथ
भावना दलाल अपनी किताब के साथ

भावना के अनुसार, अच्छे के लिए राजनीति का इस्तेमाल, जीत और उसके समाधान तक पहुंचने का प्रयास कर रहा है। सामाजिक परिवर्तन से आस्था बदलती है, जैसे ओपन रहना और चीजों को करने के नए तरीकों को स्वीकार करना।

शोध यह साबित करता है कि जब महिलाएं अच्छा करती हैं तो समुदायों को बड़ा फायदा होता है। अतीत में जबरदस्त सांस्कृतिक कंडीशनिंग है, लेकिन महिलाओं को भी कदम उठाना चाहिए और कई अवसरों का लाभ उठाना चाहिए जो अब उपलब्ध हैं। उन्हें सफलता के विचार के साथ सहज होना चाहिए। उन्हें सफल होने और न्याय करने के अपने डर को दूर करना होगा।

महिलाएं पीड़ित मानसिकता पर काबू पा सकती हैं, और इसके बजाय बाहर की तरफ बड़ा प्रभाव डालने के लिए काम कर सकती हैं। इससे उन्हें इन चुनौतियों को नेविगेट करने में मदद मिलेगी, जिससे वे व्यक्तिगत और पेशेवर रूप से विकसित होंगी।

शीर्ष तक पहुंचने की यात्रा

भावना कहती हैं कि महिलाओं को स्वाभाविक रूप से संबंध बनाने और उन्हें बनाए रखने में काफी अच्छा महसूस होता है, और मुझे लगता है कि उन्हें इस कौशल का लाभ उठाना चाहिए। मैं अक्सर महिलाओं को दावा करने और सत्ता के साथ सहज होने में पुरुषों से ज्यादा संघर्ष करते हुए देखती हूं।

मैं सभी आकांक्षी लीडर्स को अपने लिए एक भव्य दृष्टि के साथ संपर्क करने, लक्ष्य निर्धारित करने और फिर उन्हें प्राप्त करने के लिए अपने नेतृत्व कौशल को विकसित करने की सलाह देती हूं। राजनीति को अपने पक्ष में करने का पहला कदम आपके मूल्यों, विश्वासों और आशंकाओं पर स्पष्ट होना है। इसके बाद, अपने संगठन के प्रमुख निर्णय निर्माताओं और इन्फ्लूएंसर्स के बारे में पता करें।

महिला नेताओं को शीर्ष पर पहुंचने के लिए अपने व्यवसायिक कौशल के अलावा अपनी भावनात्मक बुद्धिमत्ता को बढ़ाना होगा। भावना के अनुसार, उन्हें अपनी भावनाओं को समझना और महसूस करना सीखना चाहिए। साथ ही आवश्यकता पड़ने पर कुछ अलग करने की क्षमता भी विकसित करनी चाहिए।

विकास के लिए आपको अपने कंफर्ट जोन से बाहर आने की आवश्यकता है, जिसका अर्थ है कि राजनीति पर करीब से नज़र डालना, अंतर्निहित शक्ति की गतिशीलता को समझना, और यह जानना कि आपके संगठन में चीजें कैसे होती हैं।

एक महिला बेहतर लीडर कैसे बन सकती है

हालांकि भावना को लगता है कि संगठनों में महिला नेतृत्व कार्यक्रमों में अतिरिक्त संसाधनों और प्रयासों में निवेश करना महत्वपूर्ण है, ऐसे में महिलाओं के लिए शिक्षा महत्वपूर्ण है।

महिलाएं बेहतर लीडर साबित हो सकती हैं।
महिलाएं बेहतर लीडर साबित हो सकती हैं।

महिला नेतृत्व के रूप में एक ब्रांड बनाने का उद्देश्य, आम समस्या वाले क्षेत्रों के एक पैटर्न को उजागर करना है। मैं इस बात पर जोर देना चाहूंगी कि हमें लिंगों के बीच एक ध्रुवता नहीं बनानी चाहिए। यह कोई लेबल नहीं है कि एक लिंग दूसरे की तुलना में नेतृत्व में बेहतर है। लिंग खुद ही अब विकसित हो रहा है।

भावना की कहती हैं कि जिस तरह से सब कुछ एक मर्दाना (masculine) और स्त्रैण (feminine) घटक है, उसी तरह नेतृत्व के गुणों को इन दो तरीकों से विभाजित किया जा सकता है।

मर्दाना (masculine) विशेषताओं में मुखरता, निर्णायकता, परिणाम और कार्य-आधारित व्यवहार शामिल हैं, इसी तरह स्त्रैण (feminine) विशेषताएं सहानुभूति, रचनात्मकता और सहयोग की ओर उन्मुख होती हैं। किसी भी लीडर के लिए, इन दोनों लक्षणों का संतुलन असाधारण रूप से प्रभावी और सफल होने के लिए महत्वपूर्ण है।

मैनें अनुभवी लीडर्स का खूबसूरती से अनुभव किया है। इस दृष्टिकोण से, महिलाएं स्वाभाविक रूप से स्त्रैण (feminine) विशेषताओं का प्रदर्शन करती हैं। बेहतर लीडर बनने के लिए, उन्हें इन दोनों पहलुओं का लाभ उठाना सीखना चाहिए और अपनी कमजोरियों को विकसित करते हुए अपनी ताकत पर विशेष ध्यान चाहिए।

अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी  अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी 

ये बेमिसाल और प्रेरक कहानियां हमारी रीडर्स की हैं, जिन्‍हें वे स्‍वयं अपने जैसी अन्‍य रीडर्स के साथ शेयर कर रहीं हैं। अपनी हिम्‍मत के साथ यूं  ही आगे बढ़तीं रहें  और दूसरों के लिए मिसाल बनें। शुभकामनाएं!