मेरे शरीर का हर उभार, हर इंच खूबसूरत है, बॉडी पॉजिटिव होने का संदेश दे रहीं हैं इलियाना डिक्रूज

Published on: 9 February 2022, 12:35 pm IST

इलियाना डिक्रूज ने बॉडी पॉज़िटिविटी पर एक अच्छा संदेश दिया है। चलिये पता करते हैं कि क्या शरीर की नकारात्मक छवि से मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं?

ileana nein share kiye body positivity thoughts
इलियाना डिक्रूज ने इंस्टाग्राम पर शेयर किए बॉडी पॉजिटिव थॉट्स। इलियाना डिक्रूज

बॉडी पॉज़िटिविटी के बारे में कई बातें हुई हैं, खासकर पिछले कुछ वर्षों में। लेकिन अब भी, ऐसे कई टूल्स उपलब्ध हैं जो कुछ ही क्लिक में आपके शरीर को टोन कर सकते हैं। हां, यह बेहद सरल है, और आपको सेल्फ एस्टीम की झूठी भावना प्रदान कर सकते हैं। बॉलीवुड अभिनेत्री इलियाना डिक्रूज ने इस मुद्दे को खुलकर संबोधित किया है। जैसा कि उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट में लिखा है, वह ऐसे ऐप्स को हटाकर “हर इंच, हर कर्व को सेलिब्रेट कर रही हैं।”

हाल ही में वायरल हुई एक पोस्ट में इलियाना को लाल रंग की बिकनी में बॉस की तरह अपने कर्व्स फ्लॉन्ट करते हुए देखा जा सकता है!

यहां देखें उनकी पोस्ट

शारीरिक छवि खराब मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी हुई है। खुद को परफेक्ट दिखाने की जद्दोजहद में आप एंग्जाइटी की भावनाओं को जन्म दे सकते हैं। यह एक व्यक्ति को मानसिक रूप से कमजोर कर सकता है।

आईविल में मनोवैज्ञानिक सलाहकार सृष्टि जेटली ने इस बारे में हेल्थशॉट्स के साथ विस्तार से बात की। वे बताती हैं, “हमारा शरीर एक ऐसा बर्तन है जो हमारे मन और आत्मा में रहता है। हमारा इससे गहरा जुड़ाव होता है, मगर हम इससे अंजान रहते हैं। शरीर पर पूरा ध्यान देने से उल्टे – सीधे विचार मन में आते हैं, जो हमारे शरीर की छवि को प्रभावित कर सकते हैं। हमारे शरीर की छवि यह है कि हम खुद को कैसे देखते हैं, जो इस बात को प्रभावित करता है कि हम अपने शरीर को कितना प्यार करते हैं। ”

शारीरिक छवि और मानसिक स्वास्थ्य के बीच संबंध

जेटली बताती हैं कि हमारे शरीर की छवि और हमारे मनोवैज्ञानिक कल्याण के बीच एक गोलाकार संबंध है। संज्ञानात्मक स्तर पर, यह प्रभावित करता है कि हम अपने शरीर के वजन, और आकार को कैसे देखते हैं। हमारे शरीर की छवि भी हमें भावनात्मक रूप से प्रभावित करती है। एक नकारात्मक शरीर की छवि विभिन्न चिंताओं और असुविधाओं का कारण बन सकती है, जो शरीर से संबंधित व्यवहारों को जन्म देती है जो बिल्कुल सहायक नहीं होते हैं।

ileana dcruz se janiye body positivity
”मेरे शरीर का हर उभार, हर इंच खूबसूरत है” – इलियाना डिक्रूज

लेकिन ऐसा क्यों होता है? “ऐसा इसलिए क्योंकि हमारे मन में अच्छी बॉडी की परिभाषा परफेक्शन है, जो कि सामाजिक-सांस्कृतिक दबावों से आती है। बचपन से हमें यही सिखाया गया है। हम जैसे देखते हैं, हमारा मन-मस्तिष्क भी वैसा ही काम करना शुरु कर देता है। सामाजिक रूढ़ियों का हम पर बहुत प्रभाव पड़ता है।

वह आगे कहती हैं “हमें यह याद रखने की ज़रूरत है कि कैसे हमारे शरीर लगातार बदल रहे हैं और वे कभी भी एक जैसे नहीं रहेंगे। यह आत्म-स्वीकृति हमें खुद को प्यार करने का मौका देती है।”

हम एक हेल्दी बॉडी इमेज कैसे बना सकते हैं?

एक हेल्दी बॉडी इमेज की यात्रा में, हमें खुद को गले लगाना होगा और सेल्फ लव की संस्कृति का निर्माण करना होगा, जहां हम खुद को सुधारने को, गलती के रूप में नहीं देखते हैं। हमारे शरीर के लिए प्यार किसी शर्त पर निर्भर नहीं होना चाहिए।

जेटली कहती हैं “खुद से यह पूछकर शुरू करें कि सुंदर होने और खुद से प्यार करने का क्या मतलब है? सकारात्मक सोच विकसित करने में इस भावनात्मक कंडीशनिंग और पैटर्न को आपको छोड़ना होगा। जिसकी वजह से हम अक्सर खुद से नफरत करने लगते हैं। इससे घृणा शर्म और आत्म-दया विकसित होती है। हर बार जब आप खुद को अपने शरीर की छवि के प्रति दया और शर्म से घृणा करते हुए पाते हैं, तो इसे अपनाना शुरू करें।”

आपको खुद से पूछना होगा कि ये खामियां क्या हैं और इन्हें कौन परिभाषित करता है। ये खामियां ही आपको बनाती हैं, और यही मायने रखता है!

यह भी पढ़ें : World Cancer Day: लेडीज, कोई भी पार्टी आपके हेल्थ चेकअप से ज्यादा जरूरी नहीं है: ताहिरा कश्यप खुराना

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।