वैलनेस
स्टोर

लड़कियां चाहें तो पहाड़ नाप सकती हैं, ये हैं भारत की वेटलिफ्टिंग ओलिंपिक मेडलिस्ट मीराबाई चानू

Updated on: 3 August 2021, 18:08pm IST
प्रतियोगिता से ठीक पहले उनके पीएमएस दस्तक देने लगे थे और ऐंठन शुरू हो गई थी। इसके बावजूद मीराबाई चानू ने हिम्मत नहीं हारी और 2020 टोक्यो ओलंपिक में वेटलिफ्टिंग में रजत पदक जीता।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 111 Likes
मिलिए मीराबाई चानू से, मणिपुरी की रहने वाली चानू, ने 2020 टोक्यो ओलंपिक में महिला 49kg वर्ग में एक सम्मानजनक स्थान हासिल किया है।
मिलिए मीराबाई चानू से, मणिपुरी की रहने वाली चानू, ने 2020 टोक्यो ओलंपिक में महिला 49kg वर्ग में एक सम्मानजनक स्थान हासिल किया है। Mirabai-channu/ facebook

शांत और दृढ़ निश्चयी, 26 साल की, सैखोम मीराबाई चानू (Saikhom Mirabai Chanu) ने ओलंपिक में रजत पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। वे यह पदक पाने वाली पहली भारतीय महिला हैं। मणिपुरी की रहने वाली चानू, ने 2020 टोक्यो ओलंपिक में महिला 49kg वर्ग में एक सम्मानजनक स्थान हासिल किया है। चानू के लिए यह जीत बहुत मायने रखती है, विशेष रूप से 2016 रियो ओलंपिक में नाकामयाब होने के बाद। आज वे हर उस लड़की की भावना का प्रतीक है, जिसने राख से उठने की कला सीखी है।

हेल्थ शॉट्स के साथ एक एक्सक्लूसिव बातचीत में, मीराबाई ने अपने जीवन और जीत के कई पहलुओं को हमारे साथ साझा किया।

प्यार और सिर्फ प्यार

यह पहले से ही एक भावनात्मक क्षण था, जब मीराबाई मणिपुर में अपने गांव नोंगपोक काकचिंग (Nongpok Kakching) लौटी और 2 साल बाद अपने परिवार से मिलीं। लेकिन इस बार ये और भी खास था।

विजेता खिलाड़ी कहती हैं “मुझे हर जगह से लोगों का बहुत प्यार और आशीर्वाद मिल रहा है। मेरा गर्मजोशी से स्वागत किया गया है और मुझे अपने परिवार के सदस्यों के साथ बैठकर बात करने का भी मौका नहीं मिला। मैं 2 साल से घर नहीं आई थी। अब जब मैं कुछ हासिल करके लौट आई हूं, तो मेरा परिवार खुश और गौरवान्वित है। और मैं बहुत अच्छा महसूस कर रही हूं।”

हारकर भर जीतने की तैयार करना संकल्पों की शक्ति है। चित्र : Twitter/Mirabai chanu
हारकर भर जीतने की तैयार करना संकल्पों की शक्ति है। चित्र : Twitter/Mirabai chanu

पिज्जा का अद्भुत स्वाद चखने के बाद, वे घर का बना खाना – चावल, सब्जी और करी – खा रही है। चलिए जानते हैं उनके इस पूरे सफर के बारे में:

डाइट है बहुत महत्वपूर्ण

मीराबाई बताती हैं “सभी खिलाड़ियों को एक बुनियादी स्वास्थ्य और फिटनेस स्तर बनाए रखना होता है। लेकिन प्रतियोगिता के दौरान हमें वास्तव में अपने डाइट को मेन्टेन करना होता है, क्योंकि वेटलिफ्टिंग में एथलीट का वजन बहुत महत्वपूर्ण होता है। हम ऑफ ट्रैक जाने का जोखिम नहीं उठा सकते। इसलिए मैं हेल्दी चीजें खाती हूं।

हम स्वस्थ रहने और मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए मांस खाने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। मैं दूध का भी सेवन करती हूं और बाहर का या जंक फूड खाने से परहेज करती हूं। कभी-कभी मैं यह सुनिश्चित करने के लिए खुद भी खाना बनाती हूं और देखती हूँ कि 49 kg वजन बनाए रखने के लिए मैं सही खा रही हूं।”

वे एक साधारण परिवार से हैं। उनके पिता सरकारी नौकरी में और मां गृहणी हैं। वे अपने माता-पिता को अपनी जीत का श्रेय देती हैं और कहती हैं कि उन्होंने हमेशा मेरे हौसलों को पंख दिए! वे छह भाई-बहनों में सबसे छोटी हैं।

मीराबाई कहती हैं – “मेरे परिवार ने मुझे हमेशा प्रेरित किया है। मैं जो करना चाहती थी, उसका पीछा करने से उन्होंने मुझे कभी नहीं रोका। मैंने बहुत कम उम्र में ही अपने लक्ष्य निर्धारित कर लिए थे और ओलंपिक जैसी बड़ी प्रतियोगिता में पदक हासिल करने का संकल्प लिया था। मैं हमेशा उस रोमांच का अनुभव करना चाहती थी”, यह दृढ़ संकल्प ही उनकी प्रेरक शक्ति रहा है।

“जब तक मैं वह हासिल नहीं कर लेती जो मैं चाहती हूं, मैं अपनी कोशिश जारी रखती हूं। मैं दिखाना चाहती हूं कि मैं इसे कर सकती हूं, चाहे जो भी हो।”

कभी न हार मानने वाला जज्बा

2016 में, मीराबाई को पहली बार ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के अपने सपने को साकार करने का मौका मिला। वे पदक नहीं जीत सकीं, लेकिन उन्होंने निराशा को गले नहीं लगाया।

हेल्थ शॉट्स को बताते हुए वे कहती हैं, “मैंने रियो ओलंपिक के दौरान पदक हासिल करने के लिए बहुत मेहनत की थी। ओलंपिक में यह मेरा पहला अनुभव था और मुझे लगता है कि मैं वास्तव में घबरा गयी थी, और इसलिए मैं पदक नहीं ले सकी। मैं बहुत दुखी, परेशान और निराश थी। मैंने खुद से भी सवाल किया कि क्या मुझे यह (खेल में) जारी रखना चाहिए। मैं टूट गयी थी। लेकिन मेरे परिवार के सदस्यों सहित मेरे आस-पास के सभी लोगों ने समझाया कि कैसे जीवन मुझे और मौके देगा। मेरे कोच ने मुझे यह कहकर प्रेरित किया, ‘आप अभी भी बहुत कुछ कर सकती हैं और हमें भविष्य के लिए योजना बनानी चाहिए’। तभी मैंने अपनी निराशा से जल्दी उबरने, कड़ी मेहनत करने और अपनी कमियों पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया।”

असफलता के बाद सफलता की झड़ी

रियो में असफलता का सामना करने के बाद, मीराबाई ने कई चोटों और शारीरिक बीमारियों के बाद भी सफलता की इबारत लिखी। उन्होंने 2017 विश्व वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक हासिल किया, और 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में भारत के लिए पहला स्वर्ण पदक जीता। एक साल बाद, उन्होंने 2020 सीनियर नेशनल वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता, और टोक्यो ओलंपिक से कुछ महीने पहले, उन्होंने 2020 एशियाई वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता।

बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान ने मीराबाई चानू को असली दबंग कहा है। चित्र : Twitter/ Mirabai chanu
बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान ने मीराबाई चानू को असली दबंग कहा है। चित्र : Twitter/ Mirabai chanu

यही वजह है कि बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान ने ट्विटर पर मीराबाई को ‘असली दबंग’ कहकर संबोधित किया – वास्तव में वे निडर हैं!

उम्मीदों पर खरा उतरना

जब वे अखाड़े में कदम रखती हैं, तो मीराबाई भारी वजन उठाती हैं। मगर, वह उम्मीदों के भार को अपने संकल्प से अधिक नहीं होने देती।

हाल ही में, अमेरिकी जिम्नास्ट सिमोन बाइल्स ने ओलंपिक से अपना नाम वापस ले लिया और जापानी टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका ने मानसिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं का हवाला देते हुए फ्रेंच ओपन से नाम वापस ले लिया।

मीराबाई कहती हैं, ”मानसिक स्वास्थ्य बहुत जरूरी है। यदि कुछ दिनों में हम अच्छा प्रदर्शन नहीं करते हैं, तो हम अक्सर इस दबाव में चले जाते हैं कि हम इसे नहीं कर सके, और हमें आश्चर्य होता है कि क्यों। लेकिन जब मेरी बात आती है, तो मैं हमेशा सोचती हूं कि ‘आज नहीं हुआ तो कल मेरे पास है’। मैं खुद को समझाती हूं कि आज का दिन अच्छा नहीं हो सकता है, लेकिन मैं कल को बेहतर बनाऊंगी। जिंदगी हमेशा मौके देती है।”

वह समझती है कि प्रत्येक खिलाड़ी या एथलीट को अत्यधिक दबाव का सामना करना पड़ता है, जहां वे डर जाते हैं और अनिश्चित महसूस करते हैं। तभी वे यह सोचकर खुद को आश्वस्त करती है, “मैंने प्रशिक्षण के दौरान कई बार वजन उठाया है, इसलिए मैं अपने मन को समझाती हूं कि बस एक बार और करना है और अपना बेस्ट देना है। इस तरह, मैं दबाव में नहीं आती।”

नॉट आउट

टोक्यो में अपनी प्रतियोगिता से ठीक एक दिन पहले, मीराबाई के मासिक धर्म अप्रत्याशित रूप से दस्तक दे रहे थे, जिससे ऐंठन हो रही थी … तब उन्होंने क्या किया?

वह बेपरवाह होकर कहती है – ”खैर, अपने कोच के साथ एक नई रणनीति की योजना बनाने के अलावा, उन्होंने मीराबाई को चिल पिल लेने के बारे में भी बताया। “तनाव उचित था क्योंकि मैं सबसे बड़े मंच पर प्रतिस्पर्धा करने जा रही थी। लेकिन मैंने अपने सर से कहा, ‘ऐसा कुछ नहीं है, यह ठीक रहेगा’। हम पीरियड को आने से नहीं रोक सकते… वो अपने समय पर आता है। इसके बारे में ज्यादा सोचने से तनाव बढ़ता है। जिस क्षण आप अपने आप से कहती हैं कि यह जीवन का एक अभिन्न अंग है, इससे ज्यादा कुछ भी नहीं, आप केवल आगे की ओर देखेंगी। पीरियड का क्या है, यह आता रहता है।”

पॉवरपफ गर्ल्स

अगर रियो ओलंपिक में बैडमिंटन के चैंपियन पी.वी. सिंधु और पहलवान साक्षी मलिक ने भारत को गौरवान्वित किया, तो इस साल मीराबाई, सिंधु और मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन सहित बहुत सी लड़कियों ने पदक जीते। बॉक्सर एमसी मैरी कॉम ने अच्छी टक्कर दी और भारतीय महिला हॉकी टीम का प्रदर्शन भी कमाल का रहा है। मीराबाई के लिए, जो भारोत्तोलन में ओलंपिक पदक जीतने वाली केवल दूसरी भारतीय महिला हैं, 2000 में सिडनी खेलों में कर्णम मल्लेश्वरी के कांस्य पदक के बाद से, महिला शक्ति का प्रदर्शन खुशी का कारण है।

मीराबाई कहती हैं “कुछ लोग कहते हैं, ‘लड़कियां कुछ नहीं कर सकती और खेल में पदक नहीं ले सकती, लेकिन हमने साबित कर दिया है कि हम खेल में शामिल हो सकते हैं, अपने राज्य और राष्ट्र का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं। बड़े मंचों पर, और लोगों को गौरवान्वित करते हैं। मुझे व्यक्तिगत रूप से बहुत गर्व महसूस होता है कि मैं भारत के लिए पदक वापस ला सकती हूं,” , उम्मीद है कि उनकी यात्रा लड़कियों को एक महत्वपूर्ण बात सिखाती है कि “लड़कियां चाहे तो कुछ भी कर सकती हैं, अपने देश के लिए, अपने परिवार के लिए या अपने लिए”।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का मीराबाई को सन्देश, “उनकी सफलता हर भारतीय को प्रेरित करती है”, तो वह यह भी उम्मीद करती है कि अधिक भारतीय महिलाओं को अपनी यात्रा के माध्यम से प्रोत्साहित किया जाए, और खेल की ओर कदम बढ़ाएं, कड़ी मेहनत करें और वेटलिफ्टिंग को अधिक ऊंचाइयों तक ले जाएं। ठीक वैसे ही जब उन्हें भारतीय वेटलिफ्टिंग चैंपियन कुंजूरानी देवी के बारे में पता चला।

क्या वजन उठाने से महिलाएं मर्दाना दिखने लगती हैं?!?

इस प्रश्न के जवाब में मीराबाई हंसते हुए कहती हैं – “नहीं ऐसा कुछ नहीं है… और मांसपेशियों के बारे में ऐसा कुछ भी नहीं है जो किसी व्यक्ति को अच्छा न लगे! मांसपेशियां और फिटनेस महत्वपूर्ण है। वेटलिफ्टिंग का मतलब आपके शरीर को खराब करना नहीं है। जो लोग इसे पेशेवर रूप से लेना चाहते हैं, उन्हें केवल अपने परिवार और देश को गौरवान्वित करने के बारे में सोचना चाहिए। और जीवन में किसी की न सुनें। आपको जो करना अच्छा लगता है वह करें।”

नस्लवाद?

मीराबाई की ओलंपिक उपलब्धि के बाद, बॉलीवुड अभिनेता-सुपरमॉडल मिलिंद सोमन की पत्नी अंकिता कोंवर ने पूर्वोत्तर के लोगों के खिलाफ नस्लवाद पर एक चर्चा छेड़ दी। जब उन्होंने ट्वीट किया, “यदि आप पूर्वोत्तर भारत से हैं, तो आप भारतीय तभी बन सकते हैं जब आप देश के लिए पदक जीतेंगे। अन्यथा हम ‘चिंकी’, ‘चीनी’, ‘नेपाली’ या एक नए अतिरिक्त ‘कोरोना’ के रूप में जाने जाते हैं। भारत न केवल जातिवाद से पीड़ित है, बल्कि नस्लभेद से भी। अपने अनुभव से बोल रही हूं।”

लेकिन मीराबाई के अनुभव का क्या? एथलीट हमें बताती है, “मैंने सुना है कि नस्लवाद होता है, लेकिन मेरे साथ ऐसा नहीं हुआ है। अब तक, मुझे किसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ा है।” अपने राज्य से कितने खिलाड़ी सामने आए हैं, इस पर ध्यान देते हुए, वे आगे कहती हैं, ‘मणिपुर में लोग, विशेष रूप से लड़कियां, खेलों में शामिल होना पसंद करती हैं और वे इसके लिए बहुत मेहनत करती हैं।

जीत की तैयारी

“मैं जल्द ही फिर से प्रशिक्षण शुरू करूंगी। मेरे पास केवल 3 साल बचे हैं। (2024 में अगले ओलंपिक से पहले)। मेरे पास बहुत कम समय बचा है, और समय उड़ रहा है। उससे पहले कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स हैं… और मुझे इन सभी इवेंट्स के लिए अच्छी तैयारी करनी है।” और क्यों नहीं? एक सच्चे खिलाड़ी की तरह चांदी का स्वाद चखने के बाद उसकी नजर सोने पर टिकी है!

यह ही पढ़ें : ‘मेडल से पहले मन’: मानसिक स्वास्थ्य के लिए सिमोन बाइल्स का ओलंपिक को छोड़ना बताता है कि यह कितना महत्वपूर्ण है

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।