वैलनेस
स्टोर

मुंबई की एक डॉक्टर बिहार में कर रही है सुरक्षित प्रसव और स्तनपान के लिए काम, मिलिए तरु जिंदल से

Updated on: 9 August 2021, 14:08pm IST
स्त्री रोग विशेषज्ञ, स्तनपान सलाहकार और लेखक तरु जिंदल की कहानी असाधारण है। बिहार के गांव की यात्रा से लेकर, अपने अनुभवों के बारे में एक किताब लिखने और अब स्तनपान के बारे में जागरूकता फैलाने की दिशा में वे लगातार काम कर रहीं हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 92 Likes
vishv stanpaan saptaah
मिलिये तरु जिंदल से. चित्र : तरु जिंदल

वर्षों पहले, मुंबई स्थित स्त्री रोग विशेषज्ञ, स्तनपान सलाहकार और लेखक तरू जिंदल ने यह अनुमान नहीं लगाया था कि उनका जीवन बदल जाएगा। यह 2014 में बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की एक परियोजना थी, जिसने उन्हें बिहार के दूर दराज इलाकों में जाने का मौका दिया। यहां उन्हें ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा की वास्तविकताओं से अवगत कराया गया। यात्रा किसी भी तरह से आसान नहीं थी और इसमें कई उतार-चढ़ाव आए। चुनौतियों को अवसर में कैसे बदलना है, तरु जिंदल की ये यात्रा हमें यही सिखाती है।

आज भी वे कार्यशालाओं और संगोष्ठियों के माध्यम से स्तनपान के बारे में जागरूकता फैला रहीं हैं। हेल्थ शॉट्स के साथ एक एक्सक्लूसिव बातचीत में, तरु अपनी इस यात्रा के बारे में हमें बता रहीं हैं।

यात्रा का प्रथम पड़ाव

शुरुआत से ही, जिंदल का पालन-पोषण मुंबई में भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र के बाहरी इलाके अणुशक्ति नगर में एक खुले वातावरण में हुआ। वह कम उम्र में बुद्धिजीवियों के साथ घुलमिल गईं थीं, और इसी के परिणामस्वरूप उनके और उनके साथियों के लिए इंजीनियरिंग या चिकित्सा जगत को चुनना स्वाभाविक हो गया था।

उनके जीवन में सबसे बड़ा प्रभाव उनके माता-पिता का रहा है, जिन्होंने उनका साथ दिया है।

तरु बताती हैं – “मेरी मां एक शिक्षक और पिता वैज्ञानिक थे। यह उनकी दृढ़ता और समर्पण है, लगातार कोशिश करते रहने की उनकी क्षमता थी, जिसने मुझे हमेशा प्रभावित किया।”

अपनी मेडिकल की पढ़ाई के दौरान ही जिंदल का रुझान साहित्य की ओर हुआ। यही वक्त था जब उन्होंने महात्मा गांधी की आत्मकथा पढ़ी, जिसने उनके विचारों को आकार दिया, और उन्हें इस बात का एहसास कराया कि वह किस तरह का जीवन जीना चाहती हैं।

taru jindal
स्त्री रोग विशेषज्ञ, स्तनपान सलाहकार और लेखक तरु जिंदल की कहानी असाधारण है। चित्र : तरु जिंदल

उनके साथी, धारव शाह, जिससे वह पहली बार बीजे मेडिकल कॉलेज, पुणे में मिली थी, हमेशा विकास के लिए उनके सबसे बड़े प्रेरकों में से एक रहे हैं। “मैं केवल 17 साल की थी जब मैं कॉलेज में धारव से मिली थी। हम महाराष्ट्र में विभिन्न सेवा-आधारित सेट-अप में शामिल थे, जिसमें आनंदवन जहां बाबा आमटे काम करते थे और गढ़चिरौली जहां डॉ अभय और रानी बंग ने बहुत अच्छा काम किया था। ये सभी विश्वसनीय डॉक्टर थे, जिन्होंने शहरी जीवन की सुख-सुविधाओं को त्याग दिया था, और ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा में काम करने के लिए दूरदराज के आदिवासी क्षेत्रों में चले गए।”

ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा और उनका सफर

जब जिंदल ने बिहार की यात्रा शुरू की, और अंत में मोतिहारी के जिला अस्पताल में पहुंची, तो उन्होंने जो देखा उसने पूरी तरह से उनका दृष्टिकोण बदल दिया। उन्हें स्त्री रोग विशेषज्ञों को प्रशिक्षित करने के साथ-साथ प्रसव की गुणवत्ता को देखने के लिए बिहार भेजा गया था। इसके साथ ही उन्होंने वहां सबसे विचलित करने वाली तस्वीरें देखीं।

वे बताती हैं कि – ”लेबर रूम के बाहर बायोमेडिकल वेस्ट पड़ा होता था और साथ ही बच्चों को जन्म देने के लिए कोई उचित प्रोटोकॉल नहीं होता था। वहां साफ-सफाई सबसे बड़ी चुनौती थी और सभी चीजों ने मिलकर जिंदल को झकझोर कर रख दिया।

“वास्तव में, नर्सों सहित वहां के चिकित्सा कर्मचारियों को मां के रक्तचाप और शिशुओं की हृदय गति की जांच करने के बारे में अधिक जानकारी नहीं थी। इससे कई शिशुओं की मौत हो जाती है। उस समय, मैंने छोड़ने का फैसला किया था, लेकिन मेरे पति ने मुझे तीन महीने की अपनी प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए कहा, “और वे तीन महीने अंततः दो साल में बदल गए।

कुछ महीनों के बाद, उनकी टीम बढ़ी – यह एक ऐसा समय था जब हम सभी कुछ करना चाहते थे, लेकिन सोच रहे थे कि कैसे किया जाए। धीरे-धीरे और लगातार, उन्होंने कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया। जिससे नर्सों में भी सुधार की भावना पैदा हुई। जो खुश थीं कि वे अंततः माताओं की डिलीवरी में मदद कर सकती हैं!

taru jindal
वे शुरुआत से ही स्वास्थ्य सेवन उत्थान के लिए कार्य कर रही हैं. चित्र : तरु जिंदल

टीम ने कर्मचारियों के दृष्टिकोण निर्माण की दिशा में काम किया, और फिर कौशल निर्माण के लिए आगे बढ़े। इसके तुरंत बाद, नर्सों और सफाईकर्मियों ने उपलब्धि की भावना महसूस की जब उन्होंने बच्चों को बचाया या प्रसव के दौरान माताओं की मदद की।

आगे की तैयारी

मोतिहारी में अपने कार्यकाल के बाद, जिंदल ने बिहार के मसरही में काम किया, जहां उन्होंने कुपोषण की बढ़ती चुनौती को हल करने की दिशा में काम किया। तरु ने गांव में एक स्वास्थ्य केंद्र शुरू किया और कुष्ठ से लेकर निमोनिया तक सब कुछ ठीक किया।

दुर्भाग्य से, ब्रेन ट्यूमर का पता चलने के बाद उन्हें यह प्रोजेक्ट छोड़ना पड़ा। लेकिन चुनौतियों का डटकर सामना करने के लिए हमेशा तैयार रहने वाली महिला ने इस दौरान ‘ए डॉक्टर्स एक्सपेरिमेंट्स इन बिहार’ किताब लिखने का फैसला किया।

आज, वह एक सफल स्तनपान सलाहकार के रूप में काम करती हैं और माताओं को स्तनपान के महत्व पर सलाह देती हैं। उनका बहुत सारा काम स्तनपान के मिथ को खत्म करने के इर्द-गिर्द घूमता है – एक ज्वलंत मुद्दा जो भारत में कम स्तनपान दर का कारण रहा है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, दो साल की उम्र तक माताओं को अपने बच्चे को स्तनपान कराने की ज़रुरत है; लेकिन आज भारत में ऐसा कम ही होता है।

वे कहती हैं “2016 में जारी किए गए राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) के आंकड़ों से पता चलता है कि पहले छह महीनों में केवल 54.9 प्रतिशत बच्चों को विशेष रूप से स्तनपान कराया जाता है। यह काफी हद तक इसलिए है क्योंकि बहुत कम डॉक्टर और नर्स स्तनपान कौशल में प्रशिक्षित होते हैं, जिसके कारण वे माताओं को सही जानकारी प्रसारित करने में असमर्थ होते हैं।”

taru jindal
स्तनपान के बारे में जागरूकता फैला रही हैं तरु. चित्र : तरु जिंदल

जरूरी है स्तनपान से जुड़े मिथ्स को तोड़ना

महिलाएं अपने पहले बच्चे को स्तनपान कराना बंद कर देती हैं, अगर वे फिर से गर्भवती होती हैं, क्योंकि उनका मानना ​​​​है कि उनका गर्भपात हो जाएगा। लेकिन जिंदल का कहना है कि यह बिल्कुल भी सच नहीं है। “स्तनपान के दौरान जो ऑक्सीटोसिन निकलता है, वह गर्भाशय को अनुबंधित करता है। इसलिए माताओं को लगता है कि गर्भपात हो सकता है। लेकिन सच्चाई यह है कि गर्भाशय तब तक इसका जवाब नहीं देगा जब तक कि यह लेबर पीरियड के करीब न हो।”

एक और मिथ जो चारों ओर घूम रहा है कि कैसे कुछ खाद्य पदार्थ और पूरक स्तन के दूध के उत्पादन को बढ़ाते हैं, लेकिन यह बिल्कुल भी सच नहीं है। दूध की आपूर्ति मांग और आपूर्ति तंत्र पर निर्भर करती है। तो, जितना अधिक दूध आप देते हैं, उतना ही अधिक स्तन में पैदा होता है। जिंदल कहती हैं, “अगर मां अच्छी तरह से स्तनपान करवा रही है, तो दोनों स्तनों द्वारा उत्पादित दूध 24 घंटों में लगभग 700-800 मिलीलीटर होगा।”

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि अगर बच्चा गलत तरीके से दूध पीता है, तो भी स्तन के दूध में कमी आती है। डॉ जिंदल महिलाओं को सही निर्णय लेने के लिए सशक्त बनाना चाहती हैं। उनका मानना है कि, ज्ञान ही शक्ति है!

यह भी पढ़ें : लड़कियां चाहें तो पहाड़ नाप सकती हैं, ये हैं भारत की वेटलिफ्टिंग ओलिंपिक मेडलिस्ट मीराबाई चानू

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।