फॉलो
वैलनेस
स्टोर

सेक्‍स पर कायम टैबू को मिटाने का प्रयास कर रही हैं डॉक्टर निवेदिता मनोकरन, जानें क्‍यों है यह जरूरी

Published on:12 January 2021, 21:14pm IST
डॉ. निवेदिता मनोकरन एक वेनेरालजिस्ट हैं, जो अपने इंस्टाग्राम अकाउंट (dr_nive_untaboos) पर अपनी पोस्ट के जरिए, भारतीयों को यौन स्वास्थ्य को लेकर शिक्षित कर रही है।
अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी 
  • 78 Likes
निवेदिता यौन स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति जागरुकता पैदा कर रहींं हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

चलो सेक्स के बारे में बात नहीं करते हैं। लेकिन वास्तव में जब सेक्स के बारे में बात करने की बात आती है, तो हम में से ज्यादातर लोग चुप रहना पसंद करते हैं। आपको याद है, जब हम बच्चे थे, तो उस दौरान जब टीवी पर कोई अंतरंग क्षण (intimate moments) प्रसारित हो रहा होता था, तब हमारे माता-पिता कैसे अचानक टीवी चैनल बदल देते थे।

खैर, हम सभी अब भी वहीं हैं। लेकिन सोशल मीडिया की बदौलत, कुछ प्रभावशाली लोग सेक्स के बारे में खुलकर बात कर रहे हैं और यौन स्‍वास्‍थ्‍य जागरुकता के बारे में जो संकोच अब तक बना हुआ है, उसे दूर करने के प्रयास कर रहे हैं। डॉ. निवेदिता मनोकरन भी उनमें से एक हैं।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

डा. निवेदिता मनोकरन भारत की एक त्वचा विशेषज्ञ और वेनेरालजिस्ट हैं, जो सिडनी में यौन और प्रजनन चिकित्सा और एचआईवी चिकित्सक के रूप में काम कर रही हैं, अपने इंस्टाग्राम अकाउंट (dr_nive_untaboos) पर काफी एक्टिव हैं।

अपने सोशल मीडिया हैंडल पर वह, निडर होकर यौन स्वास्थ्य से संबंधित हर चीज के बारे में बात करती हैं। जैसे संक्रमण, कामेच्छा, एसटीआई (STIs), गर्भ निरोधक और कई तरह की जानकारियां शेयर करती हैं। हालांकि इनकी लिस्ट बहुत लंबी है। उनकी वीडियो भले ही आपको देखने में मजेदार ना लगे, लेकिन वास्तव में वे जानकारियों से भरी हुई हैं जो बहुत काम आती हैं।

उनका विचार उन लोगों के लिए एक सुरक्षित स्थान बनाना है, जो अपने यौन स्वास्थ्य पर चर्चा करना चाहते हैं। मानो या न मानो, यह छोटी सी पहल वहां से हजारों लोगों की मदद कर रही है। आज, डॉ. निवेदिता हमारे साथ एक चेंजमेकर होने की अपनी अविश्वसनीय कहानी साझा कर रही है।

क्या काम है वेनेरालजिस्ट का

आप सोच रही होंगी कि वास्तव में एक वेनरेलाजिस्ट क्या करता है। डॉ. मनोकरन बताती हैं कि एक वेनरेलाजिस्ट एक ऐसा व्यक्ति है जो लोगों के यौन स्वास्थ्य का ख्याल रखता है। यौन स्वास्थ्य देखभाल एक यौन जरूरतों और समस्याओं के लिए एक समग्र दृष्टिकोण है।

वह यह भी उल्लेख करती है कि उसकी नौकरी के एक प्रमुख हिस्से में गैर-न्यायिक फैशन में एक विस्तृत यौन इतिहास लेना, यौन शोषण, यौन शोषण और हिंसा जैसे लाल झंडे की पहचान करना, एसटीआई के लिए परीक्षण और उपचार प्रदान करना, सही गर्भनिरोधक के बारे में सलाह देना और आत्महत्या करना भी शामिल है। जब भी जरूरत हो सही रेफरल और काउंसलिंग करें।

डॉ. निवेदिता का मानना ​​है कि यह उच्च समय है जब हम खुले तौर पर सेक्स के बारे में बात करना शुरू कर सकते हैं।

सेक्स के बारे में बात नहीं करने से एसटीआई (STIs) की संख्या बढ़ जाती है। एसटीआई के साथ जटिलताएं होने का जोखिम, यौन शोषण को पहचानने में चूक, अवांछित गर्भधारण और गर्भपात और समाप्ति की धमकी देने वाला जीवन है। सेक्‍स के बारे में कितनी जानकारी की जरूरत है, यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में अलग-अलग हो सकता है। इसके बारे में बात करके हम केवल जटिलताओं से निपटने में मदद करते हैं।

कैसे की अपने इंस्टा हैंडल (dr_nive_untaboos) की शुरुआत

मैं एक ऐसे युग में पली-बढ़ी हूं, जहां मैं कभी अपने घर पर सेक्स के बारे में नहीं बोलती थी और मेरे माता-पिता सर्जन थे। मैंने खुद से कोई यौन शिक्षा नहीं ली। इसमें से ज्यादातर लड़कियों से बात करने से आई थी। विडंबना यह है कि मैंने त्वचा विज्ञान और वेनरेलाजिस्ट में प्रशिक्षण लिया और अभी भी सेक्स के बारे में बात नहीं की थी।

वह कहती हैं, “जब मैं सिडनी चली गई तो मैंने यौन स्वास्थ्य में काम करना शुरू कर दिया, क्योंकि मुझे उस साल त्वचा विज्ञान में नौकरी नहीं मिली। मुझे इस क्षेत्र की देखभाल, सम्मान और पहचान की मात्रा पर मोहित किया गया था। मुझे इस क्षेत्र में 11 साल हो गए हैं, मैं जो भी करती हूं मुझे उसे करना बहुत पसंद है। जिस देश में पली-बढ़ी हूं, उसे इस तरह की देखभाल वापस न देने के लिए मुझे खुद पर शर्म आ रही थी। जिसे निश्चित रूप से इसकी जरूरत थी। इसी के चलते मैनें अपने इंस्टा हैंडल dr_nive_untaboos की शुरुआत की। सोशल मीडिया के अलावा लोगों तक पहुंचने का इससे बेहतर तरीका और क्या हो सकता है?

वह इस बात से सहमत हैं कि भारत में सेक्स के बारे में बात करना एक वर्जित विषय है। इसमें कोई आश्चर्य वाली बात नहीं है, है ना? डॉ. निवेदिता ने कहती हैं, “मैंने अपने हैंडल का नाम अनटैबू (untaboo) रखा, क्योंकि मैं सेक्स, मासिक धर्म, गर्भनिरोधक, घरेलू हिंसा, मानसिक स्वास्थ्य और यौन उत्पीड़न सहित कई अन्य विषयों पर जमी बर्फ को तोड़ना चाहती हूं, जिन्हें अन्यथा वर्जित विषय माना जाता है।

अगर मैं अपने दर्शकों की बात करूं, तो वे ऐसी जानकारी की तलाश में रहते हैं, जिसे खोजना मुश्किल हो, जिसके बारे में बात करना मुश्किल हो और उस पर चर्चा करना भी। वे मार्गदर्शन, आश्वासन और संसाधनों की तलाश कर रहे हैं, जो उन्हें इससे बाहर निकाल सकते हैं। मैं एनजीओ, आदि के साथ लाइव सेशन और वर्कशॉप भी आयोजित करती हूं और मुझे जो भी समर्थन मिलता है, उसके लिए आभारी हूं।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि मेरी यह यात्रा आसान नहीं थी। लेकिन वह इसमें विश्वास करती हैं और आज वह एक युवा आइकॉन हैं।

महिलाओं को समझना चाहिए कि सेक्स शिक्षा का महत्व

ऐसे शोध हुए हैं जिन्होंने यह साबित किया है कि यौन शिक्षा से यौन जीवन की उम्र बढ़ती है। यह एसटीआई और अवांछित गर्भधारण और उनसे जुड़े जोखिमों को भी कम करता है।

हालांकि, दोनों लिंगों को उचित यौन शिक्षा की आवश्यकता होती है, वह सोचती हैं कि महिलाओं को इसकी अधिक आवश्यकता है। वह बताती हैं कि हर किसी को स्वस्थ यौन जीवन जीने और चुनाव करने का अधिकार है।

वह कहती हैं, मुझसे सेक्स के बारे में अजीब सवाल पूछे गए और यह जागरूकता की कमी को दर्शाता है।

मुझे ऐसा लगता है कि ये सवाल ज्ञान, कलंक और सेक्स शब्द से जुड़े अपराध के पूर्ण अभाव से आते हैं। दुखद, लेकिन सत्य यही है! इस तरह के सवाल जैसे, मैं सेक्स करना चाहती हूं लेकिन मैं शादीशुदा नहीं हूं, मैं इस विचार को कैसे रोक सकती हूं?, मैं प्रतिदिन हस्तमैथुन करती हूं, क्या यह मेरे बच्चों को प्रभावित करेगा?, मैने और मेरे प्रेमी ने किस किया और मेरे पीरियड्स मिस हो गए, क्या मैं प्रेग्नेंट हो सकती हूं? क्या मुझे यौन संबंध बनाने के लिए दंडित किया जाएगा?’

ये है हर किसी के लिए उनका संदेश

डा. निवेदिता के अनुसार सेक्स करना सामान्य है। सेक्स करने की इच्छा होने पर शर्म करने की कोई बात नहीं है। यह जानना महत्वपूर्ण है कि सेक्स आनंददायक है, मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से। लेकिन अगर आप सेक्स के दौरान सही अच्छा महसूस नही करती हैं या मजबूर महसूस करती हैं, तो यह ठीक नहीं है। इसे संबोधित करने की आवश्यकता है। इसके बारे में बात करने के लिए एक विश्वसनीय वयस्क का पता लगाएं। यौन स्वास्थ्य की जरूरत है। आइए अब उस बदलाव को लाएं।

डॉ. निवेदिता की कहानी इस बात का परिचायक है कि अगर आपके पास सही इरादा हो, तो कुछ भी असंभव नहीं है। ऐसी दुनिया का निर्माण भी नहीं, जहां सेक्स के बारे में बात न की जाए।

यह भी पढ़ें – एक्जीक्यूटिव लीडरशिप कोच भावना दलाल से सीखें कार्यस्थल पर सेक्सिज्म से निपटना

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी  अपनी कहानी, अपनी ज़ुबानी 

ये बेमिसाल और प्रेरक कहानियां हमारी रीडर्स की हैं, जिन्‍हें वे स्‍वयं अपने जैसी अन्‍य रीडर्स के साथ शेयर कर रहीं हैं। अपनी हिम्‍मत के साथ यूं  ही आगे बढ़तीं रहें  और दूसरों के लिए मिसाल बनें। शुभकामनाएं!