कितनी भी बिज़ी हों, अपनी सेहत के लिए इन 6 मेडिकल टेस्ट के लिए जरूर निकालें समय

Updated on: 29 March 2022, 19:05 pm IST

उपचार से बचाव हमेशा बेहतर होता है। इसलिए आप चाहें कितनी भी बिज़ी क्यों न हों, आपको अपनी सेहत के लिए इन स्वास्थ्य जांचों के लिए समय निकालना ही चाहिए।

High BP hai toh pyaz zarur khayen
हाई बीपी है तो प्याज़ जरूर खाएं। चित्र : शटरस्टॉक

हर महिला के लिए अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना सबसे पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। उम्र के साथ हमारे शरीर में बदलाव आना शुरू हो जाता है। शरीर कमजोर होने लगता है और उम्र के साथ हमारी प्रोडक्टिविटी प्रभावित हेाने लगती है। ऐसे स्तर पर नियमित रूप से परीक्षण किया जाना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि उम्र बढ़ने से स्वास्थ्य में गिरावट का खतरा बढ़ जाता है। महिलाओं के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच उनकी भलाई सुनिश्चित करेगी।

यदि आप पहले लक्षणों को नोटिस करना शुरू करती हैं, तो ये परीक्षण रोग की गंभीरता को रोकने में मदद करेंगे।  ज्यादातर महिलाएं अपने लिए इतना कुछ नहीं करती हैं, इसलिए उनके परिवार के सदस्य समय-समय पर उनकी जांच कराने का ध्यान रख सकते हैं।

 यहां महिलाओं के लिए कुछ स्वास्थ्य जांच दी गई हैं:

  1. पैप स्मीयर टेस्ट

 पैप स्मीयर टेस्ट, जिसे पैप टेस्ट या पैपनिकोलाउ टेस्ट के रूप में भी जाना जाता है, एक स्क्रीनिंग प्रक्रिया है जिसका उपयोग आमतौर पर सर्वाइकल कैंसर का पता लगाने और उसका निदान करने के लिए किया जाता है। यह मूल रूप से गर्भाशय या गर्भाशय ग्रीवा में कैंसर या पूर्व कैंसर कोशिकाओं की उपस्थिति के लिए किया जाने वाला परीक्षण है।

कब कराएं स्वास्थ्य जांच?

डॉक्टर, आजकल हर महिला (जो 21 वर्ष से अधिक उम्र की है) को सलाह देते हैं कि हर 3 साल में कम से कम एक बार पैप स्मीयर टेस्ट करवाएं। ऐसा इसलिए है क्योंकि उनमें से कुछ महिलाओं में कैंसर या संक्रमण होने का खतरा बढ़ सकता है। यदि कोई महिला एचआईवी से पीड़ित है या अंग प्रत्यारोपण या कीमोथेरेपी के परिणामस्वरूप उनमें से किसी की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर है, तो अधिक बार पैप परीक्षण कराने की सिफारिश की जाती है।

health check up  ke fayado
समय समय पर अपनी सेहत की जांच करवाना ज़रूरी है। चित्र : शटरस्टॉक
  1. पेल्विक टेस्ट

एक पैल्विक परीक्षा योनि, गर्भाशय ग्रीवा, मूत्राशय, गर्भाशय, फैलोपियन ट्यूब, अंडाशय और मलाशय की एक शारीरिक परीक्षा है। पैल्विक एग्जामिनेशन के दौरान, डॉक्टर पहले योनि के बाहर के क्षेत्र की जांच करते हैं और फिर अन्य अंगों की जांच करते हैं। यह एक महिला के अंगों में रोगों के लक्षणों की जांच करने के लिए किया जाता है।

 स्वास्थ्य जांच कब कराएं?

डॉक्टर वार्षिक आधार पर पेल्विक जांच कराने की सलाह देते हैं। पारिवारिक इतिहास वाली महिलाओं को इसे अधिक बार करवाना पड़ सकता है।

  1. मैमोग्राम

एक मैमोग्राम एक एक्स-रे है, जो स्तन की जांच के लिए किया जाता है। यह परीक्षण स्तन कैंसर का पता लगाने और निदान करने के लिए है। यह स्तन कैंसर का शीघ्र पता लगाने में भी मदद करता है, जिसके साथ समय पर और नियमित नैदानिक ​​परीक्षण और स्तन की स्व-परीक्षा होनी चाहिए। मैमोग्राम परीक्षण के दौरान, डॉक्टर स्तन के कई एक्स-रे की सलाह दे सकते हैं। ताकि उनकी सावधानीपूर्वक जांच की जा सके।

स्वास्थ्य जांच कब कराएं?

45 से 55 साल की उम्र की महिलाओं को हर साल मैमोग्राम करवाना चाहिए। जिन लोगों का पारिवारिक इतिहास है, उन्हें डॉक्टर की सलाह के अनुसार इसे करवाना चाहिए।

  1. थायराइड फंक्शन टेस्ट

थायराइड फंक्शन टेस्ट आमतौर पर यह जांचने के लिए किया जाता है कि शरीर में थायरॉयड ग्रंथि ठीक से काम कर रही है या नहीं। हमारे शरीर की कई प्रक्रियाओं, जैसे ऊर्जा उत्पादन, चयापचय और मनोदशा को विनियमित करने के लिए इन ग्रंथियों का उचित कार्य महत्वपूर्ण है।

 कब कराएं स्वास्थ्य जांच?

प्रारंभ में, डॉक्टर आपको प्रत्येक खुराक के पूरा होने के बाद परीक्षण करवाने की सलाह दे सकते हैं। एक बार जब यह सामान्य हो जाता है, तो आप हर साल इसकी जांच करवा सकती हैं।

  1. लिपिड पैनल टेस्ट

लोगों में हृदय रोग के जोखिम का आकलन करने के लिए लिपिड प्रोफाइल का उपयोग किया जाता है।  इसमें रक्त परीक्षणों का एक संयोजन शामिल है जिसकी सहायता से हमारे रक्त में 4 प्रकार के लिपिड के स्तर को मापा जाता है।

स्वास्थ्य जांच कब कराएं?

स्वस्थ महिलाओं को हर 2-3 साल में लिपिड प्रोफाइल करवानी चाहिए।  जिन लोगों का मेडिकल इतिहास है या जिन्हें हृदय रोग या कोलेस्ट्रॉल का पारिवारिक इतिहास है, उन्हें इसे अधिक बार करवाना चाहिए।

  1. ब्लड प्रेशर टेस्ट

ब्लड प्रेशर टेस्ट यह जांचने के लिए किया जाता है कि किसी व्यक्ति का रक्त, रक्त वाहिकाओं पर कितना दबाव डाल रहा है। स्फिग्मोमैनोमीटर नामक उपकरण का उपयोग करके इसका परीक्षण किया जाता है।  उच्च या निम्न रक्तचाप का व्यक्ति के शरीर पर कुछ प्रभाव हो सकता है।  उच्च रक्तचाप से स्ट्रोक जैसी कई चिकित्सीय स्थितियां हो सकती हैं, जबकि निम्न रक्तचाप बेहोशी, चक्कर आना और यहां तक ​​कि व्यक्ति को कोमा में भी डाल सकता है।

heart ke liye test
बीपी है जरूरी जांच है ! चित्र : शटरस्टॉक

स्वास्थ्य जांच कब कराएं?

ब्लड प्रेशर की जांच बाजार से ब्लड प्रेशर मशीन खरीदकर की जा सकती है। इसे हर हफ्ते चेक किया जा सकता है।

तो लेडीज, अब जब आप महिलाओं के लिए इन स्वास्थ्य जांचों के बारे में जान गईं हैं, तो कृपया अपने स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही न बरतें। आपका स्वास्थ्य आपके हाथ में है।

यह भी पढ़े : शक्कर के विकल्प में कर रही हैं आर्टिफिशियल स्वीटनर का सेवन? इससे बढ़ सकता है कैंसर का जोखिम

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें