माथे की झुर्रियां एजिंग का ही नहीं, हार्ट अटैक का भी हो सकती हैं संकेत, यहां हैं हृदय रोगों के 8 असामान्य लक्षण

Published on: 5 December 2021, 16:00 pm IST

माथे की झुर्रियों को एजिंग और मुंह की दुर्गंध को खराब ओरल हाइजीन से जोड़ा जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि ये हार्ट डिजीज के असामान्य लक्षण हो सकते हैं? इसलिए जरूरी है कि आप इससे संबंधित अन्य लक्षणों को भी जानें।

Forehead wrinkles heart disease ke signs hai
उम्र का बढ़ना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, जिसे रोकना असंभव है। चित्र:शटरस्टॉक

ठंड का मौसम आपकी हार्ट हेल्थ के लिए और भी मुश्किल भरा हो सकता है। इसलिए जरूरी है कि आप इस मौसम में अपने दिल का खास ख्याल रखें। यहां हमारे विशेषज्ञ कुछ ऐसे असामान्य लक्षणों की ओर आपका ध्यान दिला रहे हैं, जिन्हें अभी तक हृदय संबंधी रोगों से नहीं जोड़ा जाता। मगर नए अध्ययन बता रहे हैं कि ये माथे पर आईं झुर्रियां या मुंह की दुर्गंध भी हार्ट अटैक के संकेत हो सकते हैं। 

सर्दियां और हार्ट हेल्थ 

हृदय रोग के बढ़ते शोर-शराबें में कुछ असामान्य लक्षण हो सकते हैं। इन लक्षणों को नजरअंदाज करना सही नहीं है। सीवीडी (CVD) या कोरोनरी वेसल डिजीज के सूक्ष्म संकेत आपको कान, नाखून, माथा, खोपड़ी और मुंह में दिख सकते हैं। इसलिए, हृदय रोग से बचने के लिए इन क्षेत्रों पर नज़र रखना एक अच्छा विचार हो सकता है। 

Stress ho sakta hai hypercholesterolemia ka kaaran
ज्यादा स्ट्रेस हो सकता है हाइपरकोलेस्ट्रोलेमिया का कारण। चित्र:शटरस्टॉक

पुरुष रोगियों में सीवीडी के कारण होने वाली मौतों की पूर्ण संख्या में गिरावट आई है। लेकिन महिलाओं में यह बढ़ी है। सीवीडी के अधिक सामान्य लक्षण हृदय संबंधी हो सकते हैं। जैसे कि अचानक से सीने में परेशानी और हृदय की पंप करने की कम क्षमता। हृदय रोग से संबंधित अन्य लक्षणों में डिस्पनिया, धड़कन, हाइपोटेंशन और सिंकोप शामिल हैं।

जानिए क्या है हृदय रोग से संबंधित असामान्य लक्षण 

सीवीडी के कुछ असामान्य संकेत भी होते हैं। इसलिए, हृदय रोग का संकेत देने वाली निम्नलिखित बातों पर नज़र रखना एक अच्छा विचार हो सकता है। ध्यान रखें कि हृदय रोग से होने वाली सभी मौतों में से एक चौथाई मौत अचानक होती हैं। इसलिए हमेशा सतर्क रहें।

1. माथे की झुर्रियां 

यूरोपियन सोसाइटी ऑफ कार्डियोलॉजी कांग्रेस 2018 में प्रस्तुत शोध के अनुसार, जिन लोगों के माथे पर कई गहरी झुर्रियां हैं, उनमें सीवीडी से मरने का अधिक खतरा हो सकता है। इन लोगों के माथे पर उनकी उम्र की अपेक्षा आम लोगों से अधिक झुर्रियां होती हैं।

जांचकर्ताओ ने पाया कि झुर्रियां जितनी अधिक होगी, हृदय की मृत्यु दर उतनी ही ज्यादा रहेगी। उन्होंने अनुमान लगाया कि  माथे की झुर्रियां एथेरोस्क्लेरोसिस से संबंधित हो सकती हैं। इसके अलावा, कोलेजन प्रोटीन में परिवर्तन और ऑक्सीडेटिव तनाव दोनों एथेरोस्क्लेरोसिस और शिकन विकास में भूमिका निभाते हैं।

2. वर्टेक्स गंजापन

वर्टेक्स गंजापन, या मेल-पैटर्न गंजापन जो सिर के मुकुट पर  होता है, इसे सीवीडी के बढ़ते जोखिम के साथ जोड़ा गया है। हालांकि, जांचकर्ताओं ने सीवीडी और गंजेपन के बीच किसी संबंध की पहचान नहीं की है। यह वर्टेक्स गंजेपन की डिग्री पर निर्भर करता है, कि सीवीडी का जोखिम कितना ज्यादा है। 

3. खराब मौखिक स्वास्थ्य

दांतों के खराब होने और मसूड़ों की बीमारी जैसे खराब मौखिक स्वास्थ्य के मार्करों को उच्च सीवीडी जोखिम से जोड़ा जाता  है। खराब ओरल हेल्थ और हृदय रोग के बीच लिंक के लिए एक संभावित स्पष्टीकरण यह हो सकता है कि मुंह से बैक्टीरिया शरीर में प्रवेश करता है।  जिससे ब्लड वेसल की क्षति और सूजन हो जाती है। यह हृदय रोग में योगदान कर सकती है। लेकिन धूम्रपान करने वालों में यह संबंध अस्पष्ट हो जाता है।

Bad oral health heart disease ke sign hai
दांतों के खराब होने और मसूड़ों की बीमारी हार्ट डिजीज के संकेत हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. पैर और टखने की सूजन

यह इस बात का संकेत हो सकता है कि आपका हृदय रक्त को उतनी प्रभावी ढंग से पंप नहीं करता जितना उसे करना चाहिए। जब हृदय पर्याप्त तेजी से पंप नहीं कर पाता है, तो रक्त नसों में वापस आ जाता है और सूजन का कारण बनता है। दिल की विफलता के कारण गुर्दे का शरीर से अतिरिक्त पानी और सोडियम निकालना कठिन हो जाता है।  इससे भी सूजन हो सकती है |

5. गले या जबड़े का दर्द

गले या जबड़े का दर्द शायद दिल से संबंधित नहीं है। हालांकि अधिक संभावना है यह दर्द मांसपेशियों की समस्या, सर्दी या साइनस की समस्या के कारण भी  होता है। 

लेकिन अगर आपकी छाती के बीच में दर्द या दबाव है जो आपके गले या जबड़े तक फैल गया है तो अवश्य दिल के दौरे या एंजाइना हो सकता है। इसका तुरंत जांच करवाना जरूरी है। 

6. असामान्य थकावट या चक्कर आना 

यह भी एलर्जी , कान के संक्रमण, आदि के साथ कोरोनरी वेसल डीजीज के कारण भी हो सकती है।  घबराएं नहीं! अगर ऐसा बार-बार होता है तो चेक करवाएं |बिना किसी अन्य कारण के बार-बार थकावट होना भी ठीक संकेत नहीं हैं। अत: अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

7. खर्राटे लेना

खर्राटे लेना सामान्य है। लेकिन असामान्य रूप से जोर से खर्राटे लेना जो हांफने या घुटन जैसा लगता है, स्लीप एपनिया का संकेत हो सकता है। ऐसा तब होता है जब आप रात में सोते समय कई बार थोड़ी देर के लिए सांस लेना बंद कर देते हैं। यह आपके हृदय पर अतिरिक्त दबाव डालता है।

Snore karna heart ke liye acha nahi hai
खर्राटे लेना हार्ट के लिए सही संकेत नहीं है। चित्र: शटरस्‍टॉक

8. अचानक पसीना आना

बिना किसी स्पष्ट कारण के रात को सर्द मौसम या एयर कंडीशनर के चलते हुए भी पसीने से तर-बतर होना दिल के दौरे का संकेत हो सकता है।

यदि ये लक्षण आपके मन को तंग कर रहें हैं, तो कुछ मामूली हृदय जांच जरूर करवाएं। आजकल की भाड़ दौड़ भारी ज़िंदगी में ब्लड टेस्ट या ईसीजी (ECG) जैसे वार्षिक जांच आवश्यक है। 

यह भी पढ़ें: स्किन एलर्जी से लेकर कैंसर तक दे सकते हैं इलैक्ट्रिक केतली और टोस्टर जैसे किचन एप्लाइंसेस

Dr. S.S. Moudgil Dr. S.S. Moudgil

Dr. S.S. Moudgil is senior physician M.B;B.S. FCGP. DTD. Former president Indian Medical Association Haryana State.

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें