वैलनेस
स्टोर

World Liver Day 2021 : आपकी जीवनशैली की ये आदतें पहुंचाती हैं आपके लिवर को सबसे ज्‍यादा नुकसान

Published on:18 April 2021, 14:00pm IST
वर्ल्ड लिवर डे, दुनिया भर में हर साल 19 अप्रैल को मनाया जाता है। यह दिन लिवर से संबंधित समस्याओं और बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
lehsun ki chutney ka zyaada sewan aapke liver ko damage kar sakti hai
लहसुन की चटनी का ज्यादा सेवन आपके लिवर को डैमेज कर सकती हैं। चित्र : शटरस्टॉक

अमेरिकन लिवर फाउंडेशन के अनुसार अमेरिका में हर साल 33,000 लोग लिवर कैंसर की वजह से अपनी जान गंवा देते हैं! भारत की स्थिति भी बहुत अलग नहीं है। यहां भी युवाओं में लिवर संबंधी समस्‍याओं के जोखिम बढ़ रहे हैं। इसलिए यह जरूरी है कि वर्ल्‍ड लिवर डे के अवसर पर आप लिवर के स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति और ज्‍यादा जागरुक हो।

वर्ल्ड लिवर डे (World Liver Day)

हर साल 19 अप्रैल वर्ल्ड लिवर डे (World Liver Day) के अवसर पर विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कार्यक्रमों, अभियानों और रैलियों का आयोजन किया जाता है। जिससे लोग इसकी देखभाल पर ध्यान दें। यह दिन लोगों को लिवर की कार्य प्रणाली के बारे में शिक्षित करता है और इसके संबंध में छोटी और बड़ी समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करता है। इस दिन का उद्देश्य लिवर से जुड़ी समस्याओं के बारे में जागरूकता फैलाना है।

मस्तिष्क के बाद लिवर को शरीर के सबसे जटिल अंग के रूप में जाना जाता है। यह पाचन प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। दवा सहित आप जो कुछ भी खाते या पीते हैं, वह लिवर से होकर गुजरता है।

हमारे शरीर में लिवर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जैसे :

संक्रमण और बीमारी से लड़ना
रक्त शर्करा का विनियमन
शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालना
कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करता है
ब्लड क्लॉटिंग में मदद (गाढ़ा)
पित्त जारी करना (एक तरल जो पाचन में वसा को तोड़ता है)

लिवर आपके शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है. चित्र : शटरस्टॉक
लिवर आपके शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है. चित्र : शटरस्टॉक

बहुत संवेदनशील है यह अंग

आप इसके बिना जीवित नहीं रह सकते। यह एक ऐसा अंग है जो आसानी से डैमेज हो जाता है, यदि आप इसकी अच्छी देखभाल न करें। हमारी कुछ आदतों की वजह जाने-अनजाने लिवर डैमेज हो सकता है। इसलिए, आपको इनके बारें में जाना बेहद ज़रूरी है-

1. कम पानी पीना या गलत समय पर पीना

पानी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और लिवर को चोट पहुंचाने से रोकता है। उचित जलयोजन रक्त को पतला बनाता है। इसलिए, लिवर के लिए रक्त को फ़िल्टर करना और विषाक्त पदार्थों को निकालना आसान होता है। कई लोग भोजन के तुरंत पहले पानी पी लेते हैं।

जबकि कुछ लोग भोजन के दौरान बार-बार पानी पीते हैं। ऐसा करना लिवर की कार्यप्रणाली को प्रभावित करता है। इसलिए पानी खूब पिएं, लेकिन भोजन के दौरान नहीं!

2. ज्यादा चीनी का सेवन करना

चीनी सीधे लिवर को नुकसान पहुंचाती है। चीनी शराब की तरह विषाक्त है और कोकीन की तुलना में ज्यादा एडिक्टिव है। फ्रुक्टोज यानि सफेद चीनी (उर्फ, रिफाइंड शुगर) या कॉर्न सिरप किसी भी खुराक में लीवर द्वारा सहन नहीं किया जाता है।

इन शर्करा को वसा में बदल दिया जाता है और अंततः यह लिवर रोग का कारण बनता है। इसलिए फल, सब्जी, नारियल चीनी जैसी प्राकृतिक शर्करा का इस्तेमाल करें। आपका लिवर स्वाभाविक रूप से इस चीनी को पचाने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

बहुत ज्‍यादा चीनी आपके लिवर को नुक्सान पहुंचा सकती है! चित्र: शटरस्‍टॉक
बहुत ज्‍यादा चीनी आपके लिवर को नुक्सान पहुंचा सकती है! चित्र: शटरस्‍टॉक

3. नमक का अधिक सेवन

बहुत अधिक नमक का सेवन आपके लिवर की मुख्य आर्टरी में रक्तचाप को बढ़ाता है, जिससे अंततः लिवर डिजीज हो सकती है। प्रति दिन 2,300 मिलीग्राम के बराबर नमक यानि 1 चम्मच से ज्यादा नमक नहीं खाना चाहिए।

नमक का उपयोग करने के बजाय, अपने भोजन को मसालों के साथ पकाने की कोशिश करें। यह भी जान लें कि ज्यादातर फास्ट फूड, प्रोसेस्ड और प्री-पैकेज्ड रेडीमेड फूड, बेक्ड सामान और ब्रेड में अक्सर ज्यादा नमक होता है।

4. शराब पीना

जब हम शराब का सेवन करते हैं, तो लिवर शराब को एक कम विषाक्त पदार्थ में परिवर्तित करने के लिए अपनी ऊर्जा को बदल देता है। जिससे यह अन्य महत्वपूर्ण कार्यों को करने के लिए कमज़ोर हो जाता है। हालांकि, मॉडरेशन में शराब पीना लिवर की रक्षा के लिए महत्वपूर्ण है। तो, ऐसे में भोजन के साथ शराब पीना खाली शराब पीने से अधिक सुरक्षित है।

ज्यादा शराब पीने से आपका लिवर डैमेज हो सकता है। चित्र- शटरस्टॉक।
ज्यादा शराब पीने से आपका लिवर डैमेज हो सकता है। चित्र- शटरस्टॉक।

5. ज्यादा मात्रा में ट्रांस फैट खाना

ट्रांस फैट एक मैन मेड फैट है, जो अक्सर फास्ट फूड, प्रोसेस्ड और प्री-पैकेज्ड रेडीमेड फूड्स (यानी, रेडी-मेड बेक्‍ड गुड्स, चिप्स, अनाज, ग्रेनोला और प्रोटीन बार) में पाए जाते हैं। समय के साथ-साथ ट्रांस वसा के नियमित सेवन से लिवर की कोशिकाओं में बहुत अधिक वसा होती है।

लिवर की कोशिकाएं सूजने लगती हैं, जिससे लिवर टिशू सख्त और दाग़दार हो जाते हैं। इसलिए, कुछ खरीदने से पहले लेबल की जांच करें। यहां तक ​​कि अगर यह ट्रांस वसा का “0” ग्राम लिखा है, तो भी इसमें थोड़ी मात्रा हो सकती है।

अपने लिवर की उम्र लंबी करनी है तो अपनाएं ये टिप्‍स

लहसुन, अंगूर, गाजर, हरी पत्तेदार सब्जियां, सेब और अखरोट खाएं

जैतून के तेल का प्रयोग करें

नींबू, नींबू का रस और ग्रीन टी लें

वैकल्पिक अनाज जैसे क्विनोआ और बाजरा को प्राथमिकता दें

क्रूसिफायर सब्जियां (गोभी, ब्रोकोली और फूलगोभी) खाएं

खाने में हल्दी का इस्तेमाल करें

यह भी पढ़ें : क्‍या कैंसर के जोखिम को कम करने में मददगार है लौंग, आइए पता करते हैं

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।