World Autism Awareness Day : जानिए क्या है ऑटिज्म और कहीं आपका बच्चा भी तो इससे पीड़ित नहीं!

Published on: 2 April 2022, 08:00 am IST

क्या आपका बच्चा भी सामाजिक ढांचे में अजीब सा बर्ताव करने लगता है? यदि हां... तो यह ऑटिज्म के कारण हो सकता है। आज विश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस पर जानिए इस मानसिक विकार के बारे में।

kya hai autism
World Autism Awareness Day 2022 : क्या है ऑटिज्म, इसके लक्षण, कारण और इलाज।

सीडीसी के आंकड़ों से पता चला है कि ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (Autism Spectrum Disorder) लड़कियों की तुलना में लड़कों में 4.3 गुना अधिक प्रवण है? मगर अभी भी इसके बारे में जागरूकता की कमी है। ऐसे में इस मासिक विकार के बारे में आपको विस्तार से जानने की ज़रूरत है। ताकि बच्चे की स्थिति को समझा जा सके और उसकी देखभाल अच्छे से हो। तो क्या है ऑटिज्म (What Is Autism)? यह जानने से पहले समझ लेते हैं इस दिवस का महत्व।

क्या है विश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस?

वर्ल्ड ऑटिज्म अवेयरनेस डे (world autism awareness day 2022) 2 अप्रैल को मनाया जाता है। यह दिन ऑटिज्म से पीड़ित लोगों के अधिकारों के लिए जागरूकता फैलाता है। यह स्थिति आमतौर पर बचपन के दौरान शुरू होती है और वयस्कता तक जारी रहती है। यह दिवस लोगों को ऑटिज्म से पीड़ित लोगों को समझने और स्वीकार करने के लिए प्रेरित करता है, दुनिया भर में समर्थन को बढ़ावा देता है और लोगों को प्रेरित करता है।

विश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस 2022: थीम

विश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस 2022 का विषय (world autism awareness day theme 2022) “Inclusive Quality Education for All” है। यह विषय सबकी शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करेगा।

ऑटिज्म (Autism) क्या है?

ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर मस्तिष्क के विकास से जुड़ी एक ऐसी स्थिति है। यह इस बात को प्रभावित करती है कि कोई व्यक्ति दूसरों के साथ कैसा व्यवहार करता है और सामाजिकता को प्रभावित करता है, जिससे सामाजिक संपर्क और संचार में समस्या होती है। विकार में व्यवहार के सीमित और दोहराव वाले पैटर्न शामिल हैं। ऑटिज्म स्पेक्ट्रम विकार में “स्पेक्ट्रम” शब्द लक्षणों और गंभीरता की विस्तृत श्रृंखला को संदर्भित करता है।

यह ऑटिज्म स्पेक्ट्रम विकार बचपन में शुरू होता है और अंततः समाज में काम करने में समस्याएं पैदा करता है। अक्सर बच्चे पहले वर्ष के भीतर ऑटिज्म के लक्षण दिखाते हैं। इसलिए माता – पिता के लिए इसके लक्षणों समझना ज़रूरी है।

Bachcho ke liye healthy diet
सुनिश्चित करें कि आपका बच्चा हेल्दी डाइट का पालन करता है। चित्र:शटरस्टॉक

क्या होता हैं ऑटिज्म के लक्षण (Signs of Autism)?

मेयो क्लीनिक के अनुसार नवजात बच्चों में ऑटिज्म के लक्षण 12 से 18 हफ्तों बाद दिखने लग जाते हैं। मगर कुछ मामलों में यह लक्षण पहले भी दिखाई दे सकते हैं।

आंखों से आंखें मिलाकर बात ना कर पाना
शब्दों का प्रयोग ना करके बड़बड़ाना
अकेले रहना
किसी अन्य से घुलने मिलने में दिक्कत महसूस करना
बोलने में दिक्कत महसूस करना

ऑटिज्म का क्या कारण है (Causes of Autism)?

एएसडी का सटीक कारण अज्ञात है। सबसे वर्तमान शोध दर्शाता है कि कोई एक कारण नहीं है। कुछ जोखिम कारकों में शामिल हैं:

पारिवारिक हिस्टरी
बड़े माता-पिता से पैदा होना
जन्म के समय कम वजन
लेट प्रेगनेंसी प्लान करने के कारण
चयापचय असंतुलन
वायरल संक्रमण का एक मातृ इतिहास
प्रीमेच्योर डिलीवरी के कारण

क्या है ऑटिज्म का इलाज (Treatment of Autism)?

सबसे प्रभावी उपचारों में प्रारंभिक थेरेपी शामिल है। इन कार्यक्रमों में बच्चे का नामांकन जितनी जल्दी होगा, उनका दृष्टिकोण उतना ही बेहतर होगा। याद रखें, ऑटिज्म जटिल है। एक ऑटिस्टिक व्यक्ति – चाहे वह बच्चा हो या वयस्क – उनके लिए उपयुक्त सहायता कार्यक्रम खोजने में समय लगता है। इसके अलावा संतुलित खानपान और एक्सरसाइज़ भी मदद कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : सिर्फ स्वाद ही नहीं, आपकी सेहत के लिए भी फायदेमंद है कच्चा आम, यहां जानिए कैसे

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें