वैलनेस
स्टोर

जी हां, एक्‍सपर्ट के अनुसार पीसीओएस होने के बावजूद आप मां बन सकती हैं

Published on:6 January 2021, 16:15pm IST
आमतौर पर महिलाओं का मानना ​​है कि पीसीओएस होने का मतलब है गर्भाधारण करने में मुश्किल आना। ऐसे में ज्‍यादा महिलाएं जानना चाहती हैं कि क्‍या पीसीओएस होने पर भी वे नेचुरली प्रेगनेंट हो सकती हैं?
Dr Vaishali Joshi
  • 75 Likes
यह गर्भावस्था को रोकने का एक सुरक्षित तरीका है? चित्र: शटरस्‍टॉक

पीसीओएस एक जीवन शैली संबंधी बीमारी है, जो शहरीकरण, व्यायाम की कमी और उच्च कैलोरी वाले फास्ट फूड के सेवन के कारण होती है। यह सभी उम्र की महिलाओं में होने वाली हार्मोनल समस्याओं में से एक है। हाल ही के आंकड़ों से पता चलता है कि 10 में से कम से कम तीन महिलाओं को पीसीओएस की बीमारी होती है।

आमतौर पर यह अनियमित पीरियड्स, कम मासिक धर्म प्रवाह, मुंहासे, शरीर पर अतिरिक्त बाल, वजन बढ़ने, त्वचा के कालेपन के साथ-साथ सोनोग्राफी पर पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर (पीसीओडी) जैसी समस्याओं और हार्मोनल असंतुलन सहित उच्च इंसुलिन प्रतिरोध और पुरुष हार्मोन की अधिकता जैसी समस्याओं के रूप में होता है। यह प्रत्येक महीने असंगत ओव्यूलेशन या अंडे के गठन को जन्म दे सकता है।

पीसीओएस आमतौर पर बच्चे पैदा करने के लिए संघर्ष करने वाले दंपतियों में से लगभग 20-25% दंपतियों में सामान्य कारण है। यह एनोव्यूलेशन (anovulation) या गर्भधारण के बाद हार्मोन की कमी के परिणामस्वरूप गर्भावस्था की शुरुआत में विफलता के कारण हो सकता है (जिसे ल्यूटियल चरण दोष भी कहा जाता है)।

यह एक गलत अवधारणा है

एक गलत धारणा है कि पीसीओएस होने का मतलब है कि आप कभी भी गर्भवती नहीं हो सकती हैं। आमतौर पर पीसीओएस के साथ महिलाओं को कम से कम 3-6 महीनों के लिए गर्भावस्था के लिए स्वाभाविक रूप से प्रयास करने की सलाह दी जाती है।

पीसीओएस के बारे में जागरुकता बहुत जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
पीसीओएस के बारे में जागरुकता बहुत जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इस अवधि को कुशलता से जीवन शैली में बदलाव करने जैसे अपने जीवन में नियमित व्यायाम और वजन कम करने के लिए भी उपयोग किया जा सकता है। यह हार्मोनल असंतुलन को उलटने और सहज ओवुलेशन (ovulation) और गर्भावस्था में भी मदद देता है।

पीसीओएस का दीर्घकालिक उपचार है वजन में कमी

इस समस्‍या से ग्रस्‍त महिलाओं में वजन घटाने में आहार संशोधन का योगदान 70% है। यह सलाह दी जाती है कि कम समय में तेजी से परिणामों का वादा करने वाले कठोर आहार को न अपनाएं। बल्कि, आपको पेशेवर आहार सलाह का पालन करना चाहिए। यह आपको जीवन भर हेल्‍दी वेट मेंटेन करने में मदद करेगा।

आपको शरीर की मांसपेशियों विशेष रूप से एब्डोमिनल, कूल्हों और जांघों वाले व्यायामों को मदद करने वाले आहार लेने की आवश्यकता है। रोजाना 30 से 45 मिनट तक पैदल चलना, साइकिल चलाना और तैराकी जैसे व्यायाम आपके लिए मददगार हो सकते हैं।

चिकित्सीय सलाह हो सकती है मददगार

पीसीओएस के साथ कई महिलाओं को एक स्वस्थ और अच्छी गुणवत्ता वाले अंडे का उत्पादन करने के लिए ओव्यूलेशन प्रेरक दवाओं की आवश्यकता हो सकती है। यह आमतौर पर सोनोग्राफी (जिसे कूपिक अध्ययन कहा जाता है) द्वारा अंडे की ट्रैकिंग के साथ होता है। यह गर्भाधान की संभावना को अधिकतम करने के लिए समयबद्ध संभोग के लिए दंपतियों का मार्गदर्शन कर सकता है।

गंभीर पीसीओएस में जहां काफी अधिक पुरुष हार्मोन होते हैं, वहां पर एक या एक से अधिक अंडे के उत्पादन के लिए अंडाशय को उत्तेजित करने के लिए हार्मोनल इंजेक्शन के साथ इन दवाओं के संयोजन की आवश्यकता होती है।

पीसीओएस में चिकित्‍सक की सलाह आपके लिए मददगार हो सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
पीसीओएस में चिकित्‍सक की सलाह आपके लिए मददगार हो सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

आईवीएफ है आशा की किरण 

टेस्ट ट्यूब बेबी या आईवीएफ (इनविट्रो फर्टिलाइजेशन) का विकल्प पीसीओएस वाली महिलाओं के लिए एक आशा की किरण साबित हुआ है। गर्भवती होने के लिए वजन घटाना और नियमित व्यायाम करना उपचार में सुधार करते हैं।

अगर आपको पीसीओएस है और गर्भ धारण करने की कोशिश कर रहीं हैं, तो आपको निराश होने की जरूरत नहीं है। पीसीओएस के साथ एक महिला अनायास या चिकित्सा हस्तक्षेप की मदद से गर्भ धारण कर सकती है- लेकिन उसके लिए एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाना महत्वपूर्ण है। यह न केवल बीमारी को ठीक करता है, बल्कि एक स्वस्थ गर्भावस्था में भी मदद देता है।

यह भी पढ़ें – सी-सेक्शन डिलीवरी के बारे में प्रचलित इन मिथ्‍स को आज ही से भूल जाएं, एक्‍सपर्ट बता रहे हैं सच्‍चाई

Dr Vaishali Joshi Dr Vaishali Joshi

Dr Vaishali Joshi is a senior obstetrician and gynaecologist at Kokilaben Ambani Hospital, Mumbai.