वैलनेस
स्टोर

महामारी के दौरान गर्भवती होने को लेकर तनाव में हैं, तो प्रजनन विशेषज्ञ से जानिए इससे निपटने के उपाय

Updated on: 23 May 2021, 17:16pm IST
यदि आप कोरोना वायरस महामारी के दौरान गर्भवती होने की योजना बना रही हैं, तो आपको अपने मानसिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखने की आवश्यकता है! एक प्रजनन विशेषज्ञ उन चीजों पर प्रकाश डाल रहीं हैं, जो आप अपने मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल के लिए कर सकती हैं।
Dr. Uma Maheshwari
  • 88 Likes
अगर बेबी प्‍लान करना चाहती हैं, तो अपने मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर भी ध्‍यान दें। चित्र: शटरस्‍टॉक
अगर बेबी प्‍लान करना चाहती हैं, तो अपने मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर भी ध्‍यान दें। चित्र: शटरस्‍टॉक

महामारी से संबंधित विकसित हो रहे घटनाक्रमों ने व्यापक चिंता पैदा कर दी है। कुछ महिलाएं, जिन्होंने इस साल गर्भवती होने की योजना बनाई है, वे सोचने लगी हैं कि क्या उन्हें अपनी योजना पर आगे बढ़ना चाहिए या इसमें देरी करनी चाहिए।

एक फर्टिलिटी विशेषज्ञ के रूप में, यह एक ऐसा प्रश्न है, जिसका मैं अक्सर सामना करती हूं। मेरा हमेशा यही जवाब होता है कि गर्भावस्था से पहले भी, अपने मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ अपने शारीरिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है।

बहुत से लोग अपने मानसिक स्वास्थ्य पर पर्याप्त ध्यान नहीं देते और अंत में इसकी उपेक्षा कर देते हैं। एक बच्चे के विकास और स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ दिमाग बनाए रखना महत्वपूर्ण है। यदि आप मानसिक रूप से स्वस्थ हैं, तो आप एक नए बच्चे के साथ गर्भावस्था और जीवन की चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार हैं।

मातृत्‍व एक चुनौती भी है 

बच्चा पैदा करने की योजना बनाना बहुत रोमांचक हो सकता है, लेकिन होने वाले माता-पिता के लिए चुनौतीपूर्ण भी हो सकता है। इस समय कुछ भावनात्मक बदलावों का अनुभव होना आम बात है।

यह आपके लिए खुशी और चुतौती दोनों साथ लेकर आता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
यह आपके लिए खुशी और चुतौती दोनों साथ लेकर आता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल और शारीरिक परिवर्तन होते हैं। जब आप जीवन में एक बड़े बदलाव के लिए तैयारी करते हैं, तो आप बच्चे को पालने के लिए मौद्रिक तैयारी, आपके कामकाजी जीवन से संबंधित चुनौतियों, जिम्मेदारियों की तैयारी, शारीरिक बनावट में बदलाव, आपके स्वास्थ्य की स्थिति में बदलाव के बारे में कई तरह के विचारों का सामना कर सकती हैं।

जब आप गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हों, तो शांत रहना और तनावग्रस्त न होना महत्वपूर्ण है। तनाव गर्भवती होने की संभावनाओं को नुकसान पहुंचा सकता है। इन चीजों को लेकर चिंतित होना सामान्य है, लेकिन प्रजनन समस्याओं का सामना करने पर ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए।

कुछ लोग प्रसव पूर्व परीक्षण जैसी चीजों के बारे में तनाव महसूस कर सकते हैं, खासकर अगर उन्हें पहले कोई बुरा अनुभव हुआ हो, जैसे कि गर्भपात। यह समझ में आता है, लेकिन जब आप पेरेंंटिंग की यात्रा शुरू कर रहे हों, तो सकारात्मक मानसिकता विकसित करना भी महत्वपूर्ण है।

फैमिली प्‍लान करने से पहले जरूरी है मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान देना

घर से काम करना, दैनिक कार्यक्रम में व्यवधान, एक गतिहीन जीवन शैली, अस्थायी बेरोजगारी और परिवार के अन्य सदस्यों, दोस्तों और सहकर्मियों के साथ भौतिक संपर्क की कमी एक परिवार शुरू करने की कोशिश कर रहे जोड़े के लिए कई मानसिक स्वास्थ्य मुद्दों को जोड़ती है।

तनाव और चिंता से दूर रहना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
तनाव और चिंता से दूर रहना जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

चिंतित, असहज और उदास महसूस करना आम बात है, लेकिन यहां कुछ आसान टिप्स दी गई हैं जो गर्भधारण की कोशिश करते समय आपके भावनात्मक स्वास्थ्य की देखभाल करने में आपकी मदद कर सकती हैं। इसमें शामिल है:

  1. सक्रिय रहना/ व्यायाम करना या नियमित चलना
  2. अच्छी तरह खाने का मतलब है घर का बना पौष्टिक आहार
  3. एक दूसरे के साथ अपनी भावनाओं के बारे में ईमानदार रहना

किसी ऐसे व्यक्ति से बात करना जिस पर आप भरोसा कर सकती हैं – आपका साथी, परिवार का कोई सदस्य या कोई मित्र। अपने करीबी लोगों का एक सपोर्ट होना जिन पर आप भरोसा कर सकती हैं और गर्भवती होने से पहले बात कर सकती हैं, गर्भावस्था के दौरान और बाद में जब आपके छोटे बच्चे की देखभाल करने के लिए बहुत मददगार होगा। यह आपको तनाव के स्तर को कम रखने में भी मदद करेगा।

यह भी है जरूरी 

आराम करने के तरीके ढूंढना जैसे कोई शौक पूरा करना या जो आपको सबसे ज्यादा पसंद है उसका आनंद लेना।

शराब और ड्रग्स आपके मानसिक स्वास्थ्य के लिए खराब हो सकते हैं, जिससे अवसाद और चिंता की भावनाएँ और भी बदतर हो जाती हैं।

कभी-कभी, लोग मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से निपटने के प्रयास के रूप में शराब या नशीली दवाओं का भी उपयोग कर सकते हैं। जब आप गर्भावस्था की योजना बना रही हों, तो शराब पीना और ड्रग्स लेना बंद कर देना सबसे अच्छा है।

निरंतर तनाव गर्भ में बच्चे के विकास को प्रभावित कर सकता है

पार्टनर के साथ अपने संबंधों का ख्याल रखें। कुछ के लिए, गर्भ धारण करने की कोशिश करने से उनके रिश्ते में सुधार हो सकता है। दूसरों के लिए, गर्भ धारण करने की कोशिश करने से कुछ तनाव हो सकता है और सेक्स अनियमित हो सकता है या एक घर का काम भी बोझ महसूस हो सकता है। यह भागीदारों के बीच समस्या पैदा कर सकता है।

प्रग्नेंसी के दौरान तनाव बच्‍चे की ग्रोथ को प्रभावित करता है। चित्र-शटरस्टॉक।
प्रग्नेंसी के दौरान तनाव बच्‍चे की ग्रोथ को प्रभावित करता है। चित्र-शटरस्टॉक।

कोविड-19 संबंधित समाचारों के संपर्क को सीमित करें। महामारी के बारे में लगातार अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त करना स्वाभाविक है, लेकिन यह केवल अंतर्निहित चिंता और संक्रमित होने के डर को बढ़ाएगा। प्रमाणित वेबसाइटों, समाचार पोर्टलों और सरकारी घोषणाओं से समय-समय पर कोविड-19 अपडेट प्राप्त करने का प्रयास करें, और अपने साथियों और परिवार के साथ इससे संबंधित किसी भी बातचीत को सीमित करें।

अपने डेली रुटीन को हेल्‍दी रखें 

पर्याप्त नींद लेना, हर दिन लगातार समय पर बिस्तर पर जाएं, यहां तक ​​कि सप्ताहांत पर भी और सोने से कुछ घंटे पहले कैफीन से बचें। सोने से कम से कम दो घंटे पहले इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को बंद कर दें।

शारीरिक रूप से अलग रहें लेकिन सामाजिक रहें। महामारी के दौरान स्काइप, फेसटाइम या अन्य वीडियो चैट सेवाओं का उपयोग करने पर विचार करें।

शारीरिक और शारीरिक स्वच्छता बनाए रखें।

अनावश्यक रूप से घर से बाहर निकलने को सीमित करें।

गर्भावस्‍था में आपको कई तरह की बातें बताई जाती हैं, पर सब सच हों जरूरी नहीं। चित्र: शटरस्‍टॉक
गर्भावस्‍था में आपको कई तरह की बातें बताई जाती हैं, पर सब सच हों जरूरी नहीं। चित्र: शटरस्‍टॉक

गर्भवती होने की योजना बनाते समय सभी प्रकार की भावनाओं से गुजरना आम बात है, लेकिन किसी भी बदलती भावनाओं से अवगत होना महत्वपूर्ण है। यदि आप कुछ हफ्तों से अधिक समय से उदास महसूस कर रहे हैं और आपकी चिंता ने आपके दैनिक जीवन को प्रभावित किया है तो डॉक्टर से परामर्श लें।

अन्य चेतावनी संकेत नकारात्मक विचार और भावनाएं हैं जो सामान्य रूप से कार्य करने की आपकी क्षमता को प्रभावित करते हैं, रुचि खो देते हैं, या निराशाजनक या सामना करने में असमर्थ महसूस करते हैं। अपने मानसिक स्वास्थ्य के लिए मदद लेने में संकोच न करें।

यह भी पढ़ें – डिलीवरी के बाद महसूस होने वाली कमजोरी को दूर करने में मदद कर सकते हैं ये 5 सुपरफूड्स

Dr. Uma Maheshwari Dr. Uma Maheshwari

Dr. Uma Maheshwari is a consultant, reproductive medicine, at Cloudnine Group of Hospitals in Bengaluru