क्या आप जानती हैं कि आपकी आंखें क्यों फड़कती हैं? तो जानिए क्या हो सकते हैं इसके कारण

Published on: 27 November 2021, 20:00 pm IST

क्या आप इस बात से परेशान हैं कि आपकी आंखें बार-बार क्यों फड़कती हैं? आपको बता दें कि यह एक सामान्य स्थिति है, और इससे आपकी दृष्टि को कोई नुकसान नहीं होता। इसके बारे में और जानने के लिए पढ़ें।

Janiye aankh fadakne ka kaaran
जानिए क्या है आंख फड़कने का कारण। चित्र:शटरस्टॉक

आंख फड़कने की अनैच्छिक और असामान्य क्रिया से कई लोग परेशान होते हैं। यदि आपकी एक पलक लंबे समय के लिए फड़कती है, तो आप जानते हैं कि यह कितना कष्टप्रद हो सकता है। यह तब होता है जब आप अपनी ऊपरी या निचली पलक में ऐंठन या हल्की हलचल महसूस करते हैं। यह किसी भी आंख या दोनों में हो सकता है, और एक मिनट, घंटे या दिन में कई बार तक चल सकता है।

लगभग आंखों के फड़कने से कोई हानि नहीं होती है, लेकिन अगर सिर्फ एक आंख का फड़कना लगातार बना रहता है, तो यह एक गंभीर न्यूरोलॉजिकल स्थिति का संकेत हो सकता है। इसका निदान और उपचार एक नेत्र चिकित्सक द्वारा किया जाना चाहिए।

NIMS के नेत्र विज्ञान विभाग के सहायक प्रोफेसर, डॉ राहुल सिंह, हेल्थशॉट्स को बताते हैं कि आंख फड़कना क्या है और यह वास्तव में क्यों होता है।

Eye twitching harmful nahi hota hai
आंखें फड़कना कोई हानिकारक संकेत नहीं होता है। चित्र:शटरस्टॉक

तो आंख फड़कने का क्या मतलब होता है? 

डॉ सिंह कहते हैं, “पलक का फड़कना, या टिक, या मायोकिमिया, पलक की एक अनैच्छिक, दर्द रहित गति है। ये मामूली और बार-बार होने वाली हलचलें हैं जो धुंधली दृष्टि, असामान्य प्रकाश और चेहरे की ऐंठन के साथ नहीं होती हैं। वे बिना इलाज के चले जाते हैं। ऐंठन किसी भी समय और बिना किसी निश्चित अवधि के हो सकती हैं। आमतौर पर एक समय में एक आंख ही फड़कती है। 

आंखों का फड़कना पूरी तरह से हानिरहित होता है, लेकिन यह बहुत कष्टप्रद है! आपको अपनी आंखों की रोशनी के बारे में चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है। 

इसके लिए डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यह स्थिति आमतौर पर दोनों आंखों या एक को प्रभावित करती है। शायद ही कभी किसी गंभीर बीमारी का संकेत हो। ऐंठन बिना किसी वाजिब कारण के हो सकती है। डॉ सिंह कहते हैं, “लेकिन थकान, तनाव, अपर्याप्त नींद, शारीरिक परिश्रम, या दवा के दुष्प्रभाव, विशेष रूप से मिर्गी की दवा, धूम्रपान, शराब, तंबाकू, या कैफीन का अत्यधिक सेवन आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है।”

आंखों का फड़कना कैसे बंद हो सकता है? 

जानिए आंखों को फड़कने से रोकने के कुछ प्रभावी टिप्स: 

  • पर्याप्त नींद लेने की कोशिश करें 
  • तनाव के स्तर को कम करें 
  • धूम्रपान, शराब और कैफीन को कम करें 
  • आर्टिफ़िशियल टियर्स से बचें।

डॉ राहुल कहते हैं, “यदि आपकी आंखें बहुत फड़क रहीं हैं, तो अपने नेत्र रोग विशेषज्ञ से संपर्क करें। ताकि ब्लेफेराइटिस, ड्राय आई, और नर्वस सिस्टम के विकारों के संकेतों को दूर किया जा सके।”

Paryapt nind na lene ke kaaran bhi aankhe fadakti hai
पर्याप्त नींद न लेने के कारण भी आपकी आंखें फड़कती है। चित्र-शटरस्टॉक.

ये लक्षण बताते हैं कि आपकी आंखों का फड़कना गंभीर हो गया है 

  • एक सप्ताह से अधिक समय तक आंख फड़कना 
  • पलकों का पूर्ण रूप से बंद होना 
  • चेहरे की मांसपेशियों का प्रभावित होना 
  • ऊपरी पलक का गिरना 
  • आंख का लाल होना
  • सूजन या डिस्चार्ज होना

दुर्लभ मामलों में, आंख फड़कना एक गंभीर स्थिति बन सकती है

डॉ राहुल कहते हैं, “आंखों के फड़कने की गंभीर स्थिति को ब्लेफेरोस्पाज्म के रूप में जाना जाता है। यह स्थिति प्रकाश, धुंधली दृष्टि के प्रति असामान्य संवेदनशीलता के साथ होती है। इसमें चेहरे की मांसपेशियां भी शामिल होती हैं। इसके लिए बोटुलिनम टॉक्सिन (botulinum toxin) और मायेक्टोमी (myectomy) जैसे उपचार उपलब्ध हैं।”

दुर्लभ अवसरों पर, पार्किंसंस रोग (Parkinson’s disease), मल्टीपल स्केलेरोसिस (multiple sclerosis), बेल्स पाल्सी (Bell’s Palsy) , टॉरेट सिंड्रोम (Tourette syndrome) या डिस्टोनिया (dystonia) जैसे विकार भी पलक फड़कने का कारण बन सकते हैं।

यह भी पढ़ें: सर्दियों के मौसम में इन 7 गलतियों से बचना है जरूरी, वरना बढ़ सकता है ब्लड शुगर लेवल

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें