और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

अपने फेफड़ों को सीओपीडी से बचाना है? तो इन 5 तरीकों का आज ही से अभ्यास करें

Published on:23 November 2021, 09:30am IST
इस प्रदूषण भरी दुनिया में अपने फेफड़ों का ख्याल रखना महत्वपूर्ण है। अन्यथा यह क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (CPOD) का कारण बन सकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 101 Likes
CPOD se bachne ke upaay
सीपीओडी से बचने के लिए इन आदतों को छोड़ें। चित्र:शटरस्टॉक

महामारी के बाद स्वास्थ्य देखभाल के बारे में अधिक जागरूक होना अनिवार्य हो गया है, ताकि आप और आपका परिवार एक स्वस्थ जीवन शैली जी सकें। अब हमें क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (CPOD) सहित विशिष्ट स्वास्थ्य समस्याओं की गंभीरता को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यह पीड़ित लोगों पर दीर्घकालिक प्रभाव डाल सकती हैं।

जोखिम वाले कारकों में धूम्रपान, जेनेटिक्स, और पर्यावरण के विषाक्त पदार्थ जैसे सेकेंड हैंड स्मोक और प्रदूषक शामिल हैं।  भारत भर के कई शहरों में प्रदूषण और घटते तापमान के कारण सांस की समस्या वाले रोगियों के लिए अस्पताल में भर्ती होने की संख्या में वृद्धि देखी जा रही है। इसलिए यह जरूरी है कि आप और आपका परिवार अपने फेफड़ों पर तत्काल ध्यान दें।

जानिए क्या होता है सीपीओडी (CPOD) 

सीओपीडी फेफड़ों में सूजन की बीमारी है। यह फेफड़ों से वायु प्रवाह को बाधित करती है और विभिन्न लक्षणों से जुड़ी होती है, जिनमें से सबसे आम सांस लेने में कठिनाई होती है। अन्य प्रमुख लक्षणों में घरघराहट, लगातार सूखी खांसी, सीने में संक्रमण, सीने में जकड़न और थकान शामिल हैं। जो लोग सीओपीडी से पीड़ित हैं, उनमें हृदय की समस्याओं, फेफड़ों के कैंसर और अन्य संबंधित स्वास्थ्य जोखिमों की संभावना अधिक हो सकती है।

Apne lungs ka khayal rakhe
अपने फेफड़ों का ख्याल रखें। चित्र:शटरस्टॉक

जब आप सांस लेते हैं, तो हवा नली के माध्यम से जाते हुए आपके फेफड़ों तक पहुंचती है जिन्हें ब्रोन्कियल ट्यूब कहा जाता है। शरीर से दूषित हवा को बाहर निकालने के लिए भी आपका शरीर इन श्वासनालियों और फेफड़ों का ही इस्तेमाल करता है। सीओपीडी में आवश्यकता से अधिक फेफड़ों के फैलने के कारण उनका लोच खत्म हो जाता है। यह सांस छोड़ने की प्रक्रिया में भी बाधा उत्पन्न करता है। इसलिए, लंबे समय में, फेफड़ों के लिए कार्बन को बाहर निकालना मुश्किल हो जाता है।

सीओपीडी के रोगियों को क्या उपाय करना चाहिए?

यह एक पुरानी स्थिति है और इसे रोकने तथा जीवन की पर्याप्त गुणवत्ता बनाए रखने के लिए उचित चिकित्सक परामर्श आवश्यक है। लंबे समय तक ऑक्सीजन थेरेपी और वेंटिलेशन के अलावा ब्रोन्कोडायलेटर्स और बायोलॉजिक्स जैसी नई दवाएं सीओपीडी उपचार का मुख्य आधार हैं, जिनकी गंभीर मामलों में सिफारिश की जा सकती है।

यहां कुछ अन्य उपाय दिए गए हैं जिन्हें आप और आपका परिवार अपने फेफड़ों को स्वस्थ रखने और सीओपीडी को दूर रखने के लिए अपना सकते हैं। 

1. धूम्रपान छोड़ें 

धूम्रपान अक्सर सभी श्वसन समस्याओं का मूल कारण बन जाता है। नियमित धूम्रपान करने वालों को आमतौर पर समय के साथ सांस लेने में कुछ समस्याएं होने लगती हैं। इस आदत को पूरी तरह से बंद करने से आपके फेफड़ों और इस तरह आपके श्वसन की स्थिति में काफी सुधार होगा।

Smoking aapke lungs ko nuksaan pohchati hai
स्मोकिंग आपके लंग्स को नुकसान पहुंचाती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. सांस लेने के व्यायाम का अभ्यास करें

ब्रीदिंग एक्सरसाइज आपके फेफड़ों की क्षमता को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है। योग का अभ्यास करने से आपको अपनी फिटनेस बनाए रखने के साथ-साथ इन अभ्यासों की गहरी समझ प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

3. तनाव को नियंत्रित करें 

मनोवैज्ञानिक रूप से खुद पर नियंत्रण रखना आपको ऐसी किसी भी स्वास्थ्य समस्या से अकेले ही छुटकारा दिला सकता है। उच्च तनाव का स्तर चिंता का कारण बनता है। अपने आप को तनावमुक्त रखना बीमारियों की घटनाओं को कम करने का एक शानदार तरीका है।

4. घर में हवा की गुणवत्ता में सुधार करें

यह एक मिथक है कि प्रदूषण आपको तभी प्रभावित करता है जब आप बाहर कदम रखते हैं। प्रदूषण के कारण आपके घरों के अंदर की हवा भी प्रभावित होती है। आज उच्च गुणवत्ता वाले एयर प्यूरीफायर उपलब्ध हैं जो आपको आपके घर में हवा की गुणवत्ता के बारे में सूचित करेंगे और प्रदूषित हवा को बाहर निकालने में मदद करेंगे।

Healthy lungs ke liye yoga
फेफड़ों को स्वस्थ रखने के लिए योगासन करें। चित्र:शटरस्टॉक

5. नियमित रूप से व्यायाम करें

शारीरिक व्यायाम से मांसपेशियां मजबूत होती हैं, और आप फिट और स्वस्थ रहते हैं। अधिकांश दिनों में 20-30 मिनट का एरोबिक व्यायाम करें। इसमें तैरना या चलना भी शामिल हो सकता है। 

इन स्वस्थ आदतों को बनाए रखने से आप फेफड़े, हृदय और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं से दूर रहेंगे। अपने और अपने आसपास के लोगों के बेहतर भविष्य के लिए स्वस्थ जीवन शैली अपनाएं!

यह भी पढ़ें: भारत में 72 फीसदी लोग नहीं करते दिन में दो बार भी ब्रश, खराब ओरल हाइजीन है कई स्वास्थ्स समस्याओं का कारण

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।