और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

जानिए आयुर्वेद के अनुसार आप कैसे रह सकती हैं पूरी तरह स्वस्थ

Published on:5 October 2021, 11:00am IST
आयुर्वेद एक व्यापक शब्द है जिसमें अच्छे स्वास्थ्य के लिए सभी प्रकार के उपचार शामिल हैं। लेकिन बहुत कम लोगों को आयुर्वेद का बेसिक ज्ञान होगा। हम दे रहें हैं आयुर्वेद की पूरी जानकारी!
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 104 Likes
Ayurveda ke siddhanto ko banaye jeewan ka hissa
आयुर्वेद के सिद्धांतों को बनाएं जीवन का हिस्सा। चित्र: शटरस्टॉक

आयुर्वेद दो शब्दों का संयोजन है। आयु जो जीवन या दीर्घायु को इंगित करता है। वेद जिसका अर्थ है ज्ञान या विज्ञान। इसलिए, आयुर्वेद को उस ज्ञान के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जो एक चिकित्सक को बीमारियों का कारण जानने और उसे ठीक करने में मदद करता हैं। इस विज्ञान का प्राथमिक उद्देश्य ‘स्वस्थस्य स्वास्थ्य रक्षणं‘ है, जो एक व्यक्ति के स्वास्थ्य की सुरक्षा को बढ़ावा देता है।

यदि कोई व्यक्ति यह जानना चाहे कि वह स्वस्थ है या नहीं, तो वे अपनी तुलना किससे करेंगे? क्या कोई अकेला व्यक्ति है जिसे पूर्ण रूप से स्वस्थ माना जाता है? स्वास्थ्य की परिभाषा इसे स्पष्ट करेगी। 

Ayurveda sampurn shareer ko swasth rakhta hai
आयुर्वेद सम्पूर्ण शरीर को स्वस्थ रखता हैं। चित्र: शटरस्टॉक

विश्व स्वास्थ्य संगठन स्वास्थ्य को ‘पूर्ण शारीरिक, मानसिक और सामाजिक कल्याण की स्थिति के रूप में परिभाषित करता है, न कि केवल बीमारी या दुर्बलता की अनुपस्थिति’ के रूप में।

स्वास्थ्य को परिभाषित करने के मुख्य फ़ैक्टर्स

शारीरिक स्वास्थ्य जीवन की गुणवत्ता को बनाए रखने की क्षमता है जो आपको अनावश्यक थकान या शारीरिक तनाव के बिना अपनी दैनिक गतिविधियों से अधिक लाभ उठाने की अनुमति देता है। 

मानसिक स्वास्थ्य कल्याण की एक स्थिति है जिसमें व्यक्ति अपनी क्षमताओं का एहसास करता है, जीवन के सामान्य तनावों का सामना कर सकता है, प्रोडक्टिव रूप से काम कर सकता है, और अपने समाज में योगदान करने में सक्षम है। 

सामाजिक स्वास्थ्य को दूसरों के साथ बातचीत करने और सार्थक संबंध बनाने की आपकी क्षमता के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। यह इस बात से भी संबंधित है कि आप सामाजिक परिस्थितियों को कितनी आसानी से संभालते हैं। सामाजिक संबंधों का आपके मानसिक स्वास्थ्य, शारीरिक स्वास्थ्य और मृत्यु दर जोखिम पर प्रभाव पड़ता है। 

आध्यात्मिक कल्याण एक ऐसी स्थिति है जहां एक व्यक्ति आपण पूरी क्षमता, अर्थ, उद्देश्य और भीत की खुशी के साथ दिन-प्रतिदिन के जीवन की परेशानियों से निपटता हैं। 

आयुर्वेद के अनुसार स्वास्थ्य की परिभाषा 

“समादोष समग्रिष्चा समाधतु मलक्रियाः| प्रसन्ना आत्मेन्द्रिय मनः स्वस्थ इति अभिदियाते ||”

Ayurveda shareer ke saath aapke maansik swasthya ko bhi deta hai badhawa
आयुर्वेद शरीर के साथ आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी देता हैं बढ़ावा। चित्र: शटरस्टॉक

यह एक बहुत ही सुंदर श्लोक है जो आयुर्वेद में स्वास्थ्य की परिभाषा बताता है। जिन कारकों के आधार पर व्यक्ति को स्वस्थ कहा जाता है, वे हैं दोषों का संतुलन (3 प्रमुख शारीरिक कारक), अग्नि (चयापचय स्वास्थ्य), धातु (ऊतक स्वास्थ्य), माला (उत्सर्जक कार्य), साथ ही साथ एक खुशहाल अवस्था जिसमे आत्मा, इंद्रिया (इंद्रिय अंग) और मानस (मन) का संतुलन हो।

स्वास्थ्य की सरल परिभाषा 

अब जब हमें यह कहना है कि दोष (3 प्रमुख शारीरिक कारक), अग्नि (चयापचय स्वास्थ्य), धातु (ऊतक स्वास्थ्य), माला (उत्सर्जक कार्य) संतुलन में हैं, तो हमें तुलना करने के लिए आदर्श उदहर की आवश्यकता होगी। 

आयुर्वेद में, किसी व्यक्ति की आदर्श स्थिति उसके प्रकृति पर निर्भर करती है 

जब कोई व्यक्ति अपनी सामान्य गतिविधियों जैसे शारीरिक परिश्रम, नींद, उनके द्वारा खाए जाने वाले भोजन को करता है, तो शरीर की वैकृत गतिविधियाँ बदल जाती हैं। आइए बेहतर समझ के लिए एक उदाहरण लेते हैं। मान लीजिए कि एक व्यक्ति X है जिसकी वात-पित्त की प्रकृति है। यह  बताता हैं कि व्यक्ति का विशेष ढांचा शायद दुबला और लंबा होगा। व्यक्ति की अग्नि संभवत: अच्छी होगी। आंतें नियमित और ढीली तरफ होती हैं। यह व्यक्ति मध्यम मात्रा में व्यायाम करने में सक्षम है। वह मानसिक रूप से भी स्वस्थ हैं। 

अगर तनाव और चिंता ने आपके जीवन पर कब्जा कर लिया है, तो ये 4 आयुर्वेदिक तरीके आपकी मदद कर सकते हैं 

एक व्यक्ति का स्वास्थ्य उसके आहार, नियमित नींद और शारीरिक एवं मानसिक गतिविधियों पर निर्भर करता हैं। व्यक्ति के भोजन छोड़ने से उसका अग्नि प्रभावित होता हैं,  जिसके परिणामस्वरूप पित्त दोष में वृद्धि होती है। इससे जलन और खट्टे डकार आते है। यदि यह व्यक्ति बहुत अधिक गतिविधि करेगा या रात भर जागेगा,तो उसका वात दोष बहुत बढ़ जाएगा। इसका परिणाम उस व्यक्ति में कब्ज हो सकता है ।  यह पाचन क्षमता को प्रभावित कर सकता है जो आमतौर पर व्यक्ति में बहुत अच्छा होता है। इस ढांचे के व्यक्ति को अब स्वस्थ नहीं माना जाएगा।

आपकी गतिविधियों के आधार पर आपका शरीर तय करता है कि आप स्वस्थ हैं या नहीं। इसलिए, स्वास्थ्य को स्वयं द्वारा ही परिभाषित किया जाता है।

Exercise karna hai zaroori
एक्सरसाइज करना हैं जरूरी। चित्र : शटरस्टॉक

आयुर्वेद के अनुसार स्वस्थ क्या है?

स्वस्थ रहने के लिए, व्यक्ति का उद्देश्य अपने भोजन और गतिविधियों को ठीक रखना चाहिए। यह आपके प्राकृतिक ढांचे के अनुसार आपको स्वस्थ रखने में मदद करता हैं। इसका मतलब यह होता है कि एक व्यक्ति को केवल खुद को देखने और समझने की जरूरत है। एक बार जब वे इस बात से अवगत हो जाते हैं कि उनके लिए क्या स्वस्थ है, तो सारे पहलू अपने आप समझ आने लगते हैं। 

यह भी पढ़ें: हाई कोलेस्ट्रॉल बढ़ा रहा है आपकी चिंता, तो इन 10 फूड्स को आहार में शामिल करना है जरूरी

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।