क्या आपने कभी सोने से ठीक पहले शरीर में झटके महसूस किए हैं? पता करें कि ऐसा क्यों होता है

Published on: 29 November 2021, 20:00 pm IST

जैसे ही आप सो जाते हैं, अचानक आपके हाथ और पैर में झटके लगते हैं, और आपको ऐसा लगता है कि जैसे आप कहीं से गिर रहे हैं। इन्हें हाइपनिक जर्क के नाम से जाना जाता है!

Nind ki kami bhi hai dull brain ka kaaran
नींद की कमी भी है मंदबुद्धि का कारण। चित्र : शटरस्टॉक

क्या आप लगभग सो चुके होते हैं और अचानक झटके के साथ जाग जाते हैं? यदि आपने खुद को पहले कभी इस स्थिति में पाया है, तो इसका सामना करने वाली आप अकेली नहीं हैं, और यह बिल्कुल सामान्य है। सोते समय इस भयानक, गिरने की भावना को हाइपनिक जर्क कहा जाता है। इसे स्लीप ट्विच और स्लीप स्टार्ट के नाम से भी जाना जाता है।

आइए, इसके बारे में और जानें!

हाइपनिक जर्क क्या होते हैं?

आप में से कई लोगों ने एक सपने का अनुभव किया होगा जहां आप ऊंचाई से गिरते हैं। मगर जमीन के करीब आते ही अपने आप को अपने बिस्तर पर पाते हैं। इसे हाइपनिक जर्क कहा जाता है। अपोलो स्पेक्ट्रा, दिल्ली के कंसल्टेंट फिजिशियन और डायबेटोलॉजिस्ट, डॉ विपुल रुस्तगी हेल्थशॉट्स को बताते हैं कि जब हम सो जाते हैं तब ऐसा अनैच्छिक मांसपेशियों के संकुचन के कारण होता है। 

वह कहते हैं, “इस स्थिति के दौरान आप चौंकने, कूदने या ऊपर से गिरने, तेज़ दिल की धड़कन और सांस लेने के सपने देखने का अनुभव करते हैं।” 

यह सामान्य है, और इससे कोई गंभीर विकार संबंधित नहीं है। लेकिन उनका क्या कारण है? खैर, वास्तव में कोई नहीं जानता!

यहां एक विशेषज्ञ हाइपनिक जर्क्स के बारे में बता रहें हैं 

ज्यादातर मामलों में, हाइपनिक झटके शायद ही ध्यान देने योग्य होते हैं और इसका कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है। यह बिना किसी गंभीर चिकित्सा स्थिति के कारण होता है। डॉ रुस्तगी कहते हैं, “जब आप सपने में गिरने लगते हैं, तो आपको अचानक झटका लगता है। ये सामान्य हैं और किसी भी उम्र या लिंग के लोगों के साथ हो सकता है। हालांकि, इन झटके के पीछे के कारण अभी स्पष्ट नहीं हैं।”

Hypnik jerk ka koi vishesh kaaran nahi hotaहाइपनिक झटके शायद ही ध्यान देने योग्य होते हैं और इसका कोई स्पष्ट कारण नहीं होता है। चित्र: शटरस्टॉक

जानिए हाइपनिक जर्क के पीछे का संभावित कारण 

  1. व्यायाम शरीर को उत्तेजित करते हैं। इसलिए, इन झटके के पीछे यह कारण हो सकता है। 
  2. तनावपूर्ण जीवन शैली और चिंता, खराब नींद की आदतों के कारण हाइपनिक जर्क हो सकते हैं।

क्या हर रात हाइपनिक जर्क होना सामान्य है?

ये झटके अचानक और अनैच्छिक होते हैं, जिसका अर्थ है कि आपका उन पर कोई नियंत्रण नहीं है। कुछ लोग चौंक सकते हैं और कुछ गिरते हुए महसूस कर सकते हैं। लेकिन जो भी हो, नींद के दौरान हाइपनिक जर्क का अनुभव होना बिल्कुल सामान्य माना जाता है।

डॉ रुस्तगी कहते हैं, “यह शरीर के लिए एक तरह का संकेत है, जो स्लीप मोड में जा रहा है। यह कोई विकार नहीं है। वास्तव में, यह एक प्राकृतिक घटना है।”

हालांकि यह कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकता है। यह एक अनैच्छिक संकुचन है जो आमतौर पर तब होता है जब आप नींद में होते हैं। इससे आपकी नींद में खलल पड़ सकता है। तो आप इसे किसी तरह रोकना चाहेंगे। क्या हाइपनिक जर्क को कम करने या रोकने का कोई तरीका है? जी हां, इसके कुछ तरीके हैं।

सोते समय हाइपनिक जर्क कैसे रोकें?

उपचार की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह कोई विकार नहीं है। इसके बजाय, आपकी दैनिक जीवन शैली में कुछ बदलाव आपको सोते समय हाइपनिक जर्क को रोकने में मदद कर सकते हैं। डॉ रुस्तगी द्वारा सुझाए गए कुछ उपाय हैं: 

Sone se pehle phone use na kareसोने से पहले फोन का इस्तेमाल न करें। चित्र : शटस्टॉक
  • कैफीन के सेवन से बचें, विशेष रूप से शाम और दोपहर के समय। 
  • दोपहर में व्यायाम करने से बचें। 
  • आप सोने से पहले आराम कर सकते हैं और नियमित रूप से सांस लेने के व्यायाम का अभ्यास कर सकते हैं। 
  • सोने से कम से कम एक घंटे पहले इलेक्ट्रॉनिक्स का इस्तेमाल बंद कर दें।  
  • अपने तनाव को कम करने की कोशिश करें। 
  • इस तरह आप हाइपनिक जर्क की घटना को कम कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: सर्दियों के मौसम में इन 7 गलतियों से बचना है जरूरी, वरना बढ़ सकता है ब्लड शुगर लेवल

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें