वैलनेस
स्टोर

नॉन एल्कोहलिक फैटी लीवर से खुद को सुरक्षित रखना चाहती हैं, तो इन 6 लक्षणों पर ध्यान दें

Published on:9 July 2021, 09:30am IST
नॉन एल्कोहलिक फैटी लिवर की परेशानी लाइफस्टाइल से जुड़ी हुई है। जिसको हम लाइफस्टाइल में बदलाव के साथ ठीक कर सकते हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 99 Likes
नॉन एल्कोहलिक फैटी लिवर लाइफस्टाइल से जुड़ी समस्या है। चित्र: शटरस्टॉक

डायबिटीज (Diabetes), स्ट्रोक (Stroke), हार्ट अटैक (Heart attack) यह सब बीमारियां मानो इस खराब लाइफस्टाइल का नतीजा हैं और ये सभी तेजी से हमारे आसपास के लोगों और हमारी जिंदगी में देखने को मिलने लगे हैं। इनमें अब एक नई बीमारी जुड़ गई है, जिसका नाम है नॉन एल्कोहलिक फैटी लीवर डिज़ीज (Non Alcoholic Fatty Liver Disease)।

पहले लोगों को यह गलत फहमी रहती थी कि यह बीमारी केवल उन लोगों को होती है, जो शराब पीते हैं, लेकिन यह पूरी तरह सच नहीं है। अगर आप शराब नहीं भी पीती, तो भी आपको बहुत से अन्य कारणों से यह बीमारी हो सकती है।

इस स्थिति में फैट आपके एक ऑर्गन (Organ) में जमा हो जाता है। हालांकि थोड़े बहुत फैट से दिक्कत नहीं होती, लेकिन जब यह फैट आपके लीवर के वजन से 10 गुणा अधिक बढ़ जाता है तो यह एक समस्या बन जाता है।

शराब के अलावा निम्न कुछ ऐसे कारण हैं जिनके कारण यह बीमारी आपको हो सकती है :

जानिए फैटी लीवर का उपचार कैसे संभव है। चित्र-शटरस्टॉक।
  1. मोटापा
  2. इन्सुलिन रेजिस्टेंस
  3. टाइप 2 डायबिटीज
  4. खराब लाइफस्टाइल
  5. हृदय से जुड़ी बीमारियां
  6. इंफेक्शन
  7. रिफाइंड कार्ब्स का अधिक सेवन करना
  8. पेट से जुड़ी समस्या
  9. दवाइयों के साइड इफेक्ट

लक्षण जो आपको इस बीमारी के शुरुआत में दिखने लगते हैं

1 शरीर में खुजली होना :

अगर आपको नॉन एल्कोहलिक फैटी लीवर डिज़ीज (Non Alcoholic Fatty Liver Disease) बीमारी होती है तो आपके पूरे शरीर में अधिक खुजली होने लगती है और यह पित्त के घटने या बढ़ने के कारण होता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक आपको अधिक खुजली हथेली में, हाथ और पैरों में अधिक होती है, लेकिन हर व्यक्ति के लिए यह अलग-अलग हो सकता है।

2 पेट के आस पास सूजन आना :

अगर आपको नॉन एल्कोहलिक फैटी लीवर डिज़ीज (Non Alcoholic Fatty Liver Disease) बीमारी होती है तो आपके एब्डोमिनल भाग में एक फ्लूइड इक्कठा हो जाता है जिस कारण आपके पेट के आस पास सूजन आ जाती है।

लिवर की समस्याओं के कई संकेत हो सकते हैं. चित्र : शटरस्टॉक

3 बोलने में दिक्कत होना : 

चक्कर आना और बात करने में दिक्कत होना।

4 भूख न लगना :

आपका लीवर पित्त (बाइल जूस) सीक्रेट करता है जो आपकी भूख को कंट्रोल करती है। अगर इसमें बदलाव होंगे तो आपकी भूख में भी बदलाव हो सकता है।

5 थकान और कमजोरी :

अगर आपको अचानक से थकान और कमजोरी महसूस होने लगती है तो यह केवल आपकी मानसिक समस्या ही नहीं बल्कि नॉन एल्कोहलिक फैटी लीवर डिजीज भी हो सकती है।

6 स्किन का पीला पड़ना :

अगर आप अपनी स्किन के लिए हर चीज कर रहे हैं लेकिन फिर भी वह पीली दिख रही है तो हो सकता है इसका कारण आपका लीवर हो इसलिए इसे चेक जरूर कराएं।

अब जानिए कि आप इस बीमारी से कैसे बच सकती हैं 

आपके लिए एक्टिव रहना और भी ज्यादा जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक

गर्म पानी की बजाए ठंडे पानी में नहाएं।
माइल्ड साबुन या शैंपू का ही प्रयोग करे ।
ठंडी जगह में रहें और ज्यादा धूप में बाहर न निकलें।
हल्के रंग के कपड़े पहने।
इसके साथ ही आपको एक हेल्दी और बैलेंस डाइट खानी होगी, जिसमें नमक और शुगर कम होगी।
रोजना आधे से एक घंटे तक एक्सरसाइज करें।
अगर आप मोटी हैं, तो नियमित रूप से अपना चेकअप करवाती रहें।
रिफाइंड कार्ब्स को जितना हो सके उतना अवॉयड करें।
जो लोग ओबीस होते हैं, उन्हें इस बीमारी का रिस्क सबसे अधिक होता है। इसलिए अब अपने वजन को गंभीरता से लें और इसके लिए एक्शन लेना शुरू कर दें।

यह भी पढ़ें – कमजोर पाचन तंत्र से जूझ रहीं हैं, तो हम बता रहे हैं पेट की गड़बड़ से निपटने के 5 आसान घरेलू उपाय

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।