बच्चों को भी प्रभावित कर सकता है आर्थराइटिस, जानिए इसके कारण और उपचार 

जुवेनाइल आर्थराइटिस या बच्चों में होने वाला गठिया उनके बचपन की खुशियों में सेंध लगा सकता है। इसलिए जरूरी है कि इसके लक्षणों के बारे में सतर्क रहना। 

क्या आप जानती हैं कि बच्च्कों को भी हो सकता है गठिया, चित्र: शटरस्टॉक
शालिनी पाण्डेय Published on: 25 August 2022, 13:46 pm IST
  • 111

गठिया की  बीमारी केवल वृद्ध लोगों को ही नहीं,  बल्कि बच्चों या किशोरों को भी हो सकती है। एनसीबीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार 250 में से 1 बच्चा किसी न किसी प्रकार के गठिया से प्रभावित होता है। जुवेनाइल इडियोपैथिक आर्थराइटिस (JIA) 16 साल से कम उम्र के बच्चों में पाया जाने वाला क्रॉनिक आर्थराइटिस का एक रूप है। यह 1000 में से 1 बच्चे को प्रभावित कर सकता है। जेआईए  होने पर प्रतिरक्षा प्रणाली (immunity system) सीधे जोड़ों पर हमला करती है। जिससे किसी भी बच्चे की जीवनशैली बाधित हो सकती है। यह समस्या ऐसी है, कि कई बार इसके लक्षणों को समझना भी मुश्किल हो जाता है। इसलिए जरूरी है कि आप बच्चों में होने वाली आर्थराइटिस की इस समस्या के बारे में सब कुछ जानें। 

क्यों हमलावर हो जाती है प्रतिरक्षा प्रणाली 

अमूमन हमारे शरीर  की प्रतिरक्षा प्रणाली बाहरी संक्रमणों से मुकाबला कर हमें स्वस्थ रहने में मदद करती है। पर दुर्लभ मामलों में  कभी-कभी शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली शरीर के एक सामान्य हिस्से को बाहरी तत्त्व (एक रोगाणु की ही तरह) समझने लगती है। धीरे-धीरे शरीर पर ही हमला करना शुरू कर देती है। जीन इस बीमारी में अपनी भूमिका तो निभाते हैं। यह बीमारी माता-पिता से बच्चे को मिल सकती है। 

मगर बच्चों में आर्थराइटिस विकसित करने के लिए आवश्यक कई कारकों में से यह केवल एक हैं। मिथ है कि जेआईए आसपास बहुत ठंडा होने या ठंडे वातावरण में रहने या कोई विशेष खाद्य पदार्थ खाने से होता है। जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है।

कितना गंभीर है बच्चों में आर्थराइटिस 

लक्षण और गंभीरता में JIA भिन्न हो सकता है। जोड़ों के अलावा, सूजन या दर्द आंखों और आंत को भी प्रभावित कर सकते हैं। लक्षण आमतौर पर 4 सप्ताह या उससे अधिक समय तक रहते हैं। कुछ लक्षणों में जोड़ों में सूजन, दर्द, जकड़न (विशेषकर सुबह के समय) और जोड़ के आसपास जलन होना शामिल है।

fever kaise door karein
कई बार फीवर भी गठिया के लक्षणों में होता है। चित्र : शटरस्टॉक

बुखार, दाने, भूख न लगना और वजन कम होना JIA के ऐसे लक्षण हैं, जो समय के साथ बदलते रहते हैं। कभी-कभी तो दिन-प्रतिदिन भी। बच्चों को कई बार अपनी स्थिति बेहतर महसूस होती हैं, तो कई बार लक्षण अधिक दिखाई देते हैं और वे खुद को अधिक थका हुआ महसूस करते हैं। इसे ‘फ्लेयर’ या ‘फ्लेयर-अप’ कहा जाता है।  कभी-कभी गठिया, संक्रमण की वजह से भी शुरू हो सकता है। 

उपचार से पहले कराने पड़ेंगे परीक्षण

JIA का निदान करना अक्सर कठिन होता है क्योंकि अलग-अलग बच्चों में इसके लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। कुछ लक्षण बचपन की अन्य बीमारियों की तरह ही दिखाई देते हैं। कोई ऐसा इकलौता परीक्षण नहीं है जो जेआईए की पुष्टि करे। अकसर अन्य संभावनाओं को पहले बी स्टेज में खारिज करना पड़ता है। 

मेयो क्लीनिक की रिपोर्ट के अनुसार इस रोग में बाल रोग विशेषज्ञ द्वारा गहन मूल्यांकन की आवश्यकता होती है। आर्ट B की मात्रा को मापने के लिए रक्त परीक्षण, जोड़ों की जांच करने के लिए अल्ट्रासाउंड स्कैन या एक्स रे आवश्यक हो सकते हैं। चूंकि जेआईए आंखों को प्रभावित कर सकता है (जिसे यूवाइटिस कहा जाता है), इसका निदान होने के बाद नियमित रूप से आंखों की जांच महत्वपूर्ण है।

इसके अलावा, बच्चों में आंखों में सूजन हो सकती है। अगर नियमित रूप से आंखों की जांच न कराई जाए तो दृष्टि पूरी तरह से खो सकती है।

क्या हो सकता है बच्चों में आर्थराइटिस का इलाज 

गठिया के इलाज के मुख्य तरीकों में सूजन को नियंत्रित करने के लिए दवाएं, जोड़ों के ठीक तरह से काम करने और मांसपेशियों को मजबूत रखने के लिए व्यायाम,  जोड़ों में सूजन को कम करने के लिए इंजेक्शन और दर्द को कम करने के लिए पेन किलर देना शामिल हैं। 

joint pain 40 ki age ke baad
जोड़ों का दर्द भी इस बीमारी का एक लक्षण है। चित्र : शटरस्टॉक

यदि सूजन का इलाज नहीं किया जाता है, तो यह उपास्थि और आसपास की हड्डी सहित जोड़ को नुकसान पहुंचा सकती है। जोड़ के आसपास की मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं और जोड़ अपनी गति की कुछ सीमा खो सकता है। 

उपचार का मुख्य लक्ष्य बच्चों को उनकी सामान्य गतिविधियों में वापस लाना और गठिया को सक्रिय जीवन शैली में हस्तक्षेप करने से रोकना है। यदि बाल चिकित्सा रुमेटोलॉजी के विशेषज्ञ द्वारा समय पर इलाज किया जाता है, तो जेआईए वाले बच्चे सक्रिय जीवन जी सकते हैं और अधिकांश दीर्घकालिक परिणामों से बचा जा सकता है।

यह भी पढ़ें:क्या कच्चा पपीता पीरियड्स को नियमित कर सकता है? जानिए एक्सपर्ट क्या कहती हैं

  • 111
लेखक के बारे में
शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory