और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

सी-सेक्शन डिलीवरी के बारे में प्रचलित इन मिथ्‍स को आज ही से भूल जाएं, एक्‍सपर्ट बता रहे हैं सच्‍चाई

Published on:10 December 2020, 15:53pm IST
सी-सेक्शन डिलीवरी से जुड़ी बहुत सी गलतफहमियां हैं, लेकिन घबराएं नहीं है, क्योंकि एक विशेषज्ञ आपके लिए इन सभी भ्रामक अवधारणाओं की सच्‍चाई बता रहे हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 76 Likes
सी-सेक्‍शन डिलीवरी के बारे में प्रचलित भ्रामक अवधारणाओं को हम दूर कर रहे हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
सी-सेक्‍शन डिलीवरी के बारे में प्रचलित भ्रामक अवधारणाओं को हम दूर कर रहे हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

सी- सेक्शन या सिजेरियन सेक्शन बच्चे को जन्म देने का एक सर्जिकल तरीका है। आम तौर पर, सिजेरियन या सी-सेक्शन डिलीवरी के लिए जाने के पीछे कई कारण हो सकते हैं: चिकित्सकीय जटिलताएं, शिशु की असामान्य स्थिति और गर्भ के अंदर शिशु की असामान्य हृदय गति आदि। पिछले कुछ वर्षों में सी-सेक्शन डिलीवरी की संख्या में वृद्धि हुई है, लेकिन इन बढ़ी संख्याओं के बावजूद, उनके बारे में कुछ गलत धारणाएं हैं।

आज हम ऐसी ही कुछ गलत अवधारणाओं की सच्‍चाई आपके सामने रखने वाले हैं। हम उनका पर्दाफाश करने वाले हैं, और आपको इसके पीछे की सच्चाई बताते हैं!

मिथ 1 रिकवरी में देरी होती है:

सी-सेक्शन डिलीवरी के आसपास सबसे आम मिथ्‍स में से एक यह है कि माताओं की रिकवरी में बहुत अधिक समय लगता है। इसके पीछे तथ्य यह है कि सी-सेक्शन डिलीवरी के निशान का दर्द बहुत लंबे समय तक नहीं रहता है। महिला लगभग 3 दिनों में अपने पैरों पर खड़ी हो जातीं है।

सी-सेक्‍शन डिलीवरी में भी नॉर्मल डिलीवरी जितना ही समय लगता है रिकवरी में। चित्र: शटरस्‍टॉक
सी-सेक्‍शन डिलीवरी में भी नॉर्मल डिलीवरी जितना ही समय लगता है रिकवरी में। चित्र: शटरस्‍टॉक

योनि प्रसव में भी पेरिनेम पर एक कट होता है, जिसे ठीक होने में लगभग एक सप्ताह लगता है। इसलिए, प्रसव के बाद के दर्द में कोई अंतर नहीं है, चाहे महिला सी-सेक्शन के लिए जाती हो या योनि से प्रसव के लिए।

मिथ 2 स्पाइनल एनेस्थीसिया से भविष्य में पीठ दर्द होता है:

यह सबसे बड़े मिथकों में से एक है। यह पीछे कोई भी चोट नहीं छोड़ती है। तो, पीठ दर्द जो प्रसव के बाद उत्पन्न होता है (चाहे सी-सेक्शन या योनि प्रसव में) खराब मुद्रा के कारण ही होता है।

मिथ 3 एक बार सी-सेक्शन करवा लिया तो हमेशा सी-सेक्शन ही करवाना होगा:

यह बिल्कुल सच नहीं है। यदि सभी स्थितियां अनुकूल हैं और कोई जटिलता नहीं है, तो पहले सी-सेक्शन के बाद भी योनि प्रसव संभव है। इस तरह की डिलीवरी को वीबीएसी (सी-सेक्शन के बाद योनि जन्म) के रूप में जाना जाता है।

मिथ 4 सी-सेक्शन के बाद घी और दूध नहीं खा सकते:

यह भी एक आम मिथक है। लेकिन तथ्य यह है कि टांके बहुत ही सुरक्षित और साफ तरीके से किए जाते हैं। इसलिए, घी, दूध और ऐसी अन्य चीजों के सेवन से टांके में मवाद नहीं आएगा।

आजकल टांकें इतने सुरक्षित होते हैं कि उनमें मवाद का डर नहीं होता। चित्र: शटरस्‍टॉक
आजकल टांकें इतने सुरक्षित होते हैं कि उनमें मवाद का डर नहीं होता। चित्र: शटरस्‍टॉक

मिथ 5 अगर सी-सेक्शन प्लान कर रही हैं तो एक्सरसाइज की कोई जरूरत नहीं है:

व्यायाम खुद को सक्रिय रखने, मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन को कम करने, बीपी और शुगर को नियंत्रित करने और भ्रूण के वजन को बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसलिए, यदि आप सी-सेक्शन के लिए जाने की योजना बना रहे हैं, तब भी व्यायाम करना महत्वपूर्ण है।

मिथ 6 सी-सेक्शन के बाद स्तनपान शुरू नहीं किया जा सकता:

इस बात में कोई सच्चाई नहीं है। आप सी-सेक्शन डिलीवरी के तुरंत बाद स्तनपान शुरू कर सकती हैं।

मिथ 7 प्रसवोत्तर रक्तस्राव सी-सेक्शन के बाद कम होता है:

चाहे आप सी-सेक्शन या योनि प्रसव के लिए जा रहे हों, बर्थिंग का तरीका आपके प्रसवोत्तर योनि रक्तस्राव को प्रभावित नहीं करता है।

मिथ 8 सी-सेक्शन के बाद पोस्टपार्टम समस्या कम होती हैं:

यह सच नहीं है। सी-सेक्शन डिलीवरी में हार्मोन वैसे ही शिफ्ट्स होते हैं, जैसा कि वे योनि डिलीवरी में करते हैं। इसलिए, सी-सेक्शन से गुजरने के बाद भी आप उसी तरह से प्रसवोत्तर ब्लूज से पीड़ित हो सकती हैं।

सी-सेक्‍शन में भी हॉर्मोन वैसे ही होते हैं, जैसे नॉर्मल डिलीवरी में। चित्र: शटरस्‍टॉक
सी-सेक्‍शन में भी हॉर्मोन वैसे ही होते हैं, जैसे नॉर्मल डिलीवरी में। चित्र: शटरस्‍टॉक

मिथ 9 सी-सेक्शन के बाद गतिशीलता सीमित हो जाती है:

इस मिथक के पीछे तथ्य यह है कि जैसे ही आप सहज महसूस करते हैं, आप अपनी दैनिक दिनचर्या को फिर से शुरू कर सकते हैं। दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को थोड़े समय के बाद फिर से शुरू किया जा सकता है, लेकिन सी-सेक्शन के बाद कम से कम 3 महीने तक व्यायाम रोकने की आवश्यकता होती है।

तो लेडीज, अब जब आप सी सेक्शन के बारे में सब जान चुकी हैं, तो सही और सोच समझकर निर्णय लेना महत्वपूर्ण है!

यह भी पढ़ें – क्‍या गर्भधारण के लिए हेल्‍दी सीजन है विंटर सीजन? जानिए क्या कहता है साइंस

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।