वैलनेस
स्टोर

समझिए क्‍या है कोविड-19, स्‍टेरॉयड और ब्‍लैक फंगस का कनैक्‍शन

Published on:24 May 2021, 09:00am IST
जरूरी नहीं है कि हर मधुमेह रोगी इसकी गिरफ्त में आए। उपचार में सावधानी और सतर्कता स्थिति को घातक होने से बचा सकती है।
Dr. S.S. Moudgil
  • 84 Likes
कोविड में ब्‍लड शुगर का बढ़ना खतरनाक हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कोविड में ब्‍लड शुगर का बढ़ना खतरनाक हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

भारत में हाल ही में म्यूकोर्मिकोसिस नामक एक दुर्लभ फंगल संक्रमण बढ़ गया है, जो मुख्य रूप से COVID-19 से उबरने वाले लोगों को प्रभावित कर रहा है।

म्यूकोर्मिकोसिस एक बहुत ही दुर्लभ संक्रमण है। यह म्यूकर मोल्ड के संपर्क में आने के कारण होता है, जो आमतौर पर मिट्टी, पौधों, खाद और सड़ने वाले फलों और सब्जियों में पाया जाता है। डॉ. नायर कहते हैं, “यह सर्वव्यापी है और मिट्टी और हवा में और यहां तक कि स्वस्थ लोगों की नाक और बलगम में भी पाया जाता है।”

यह साइनस, मस्तिष्क और फेफड़ों को प्रभावित करता है और मधुमेह या गंभीर रूप से प्रतिरक्षित व्यक्तियों, जैसे कि कैंसर रोगियों या एचआईवी/एड्स वाले लोगों में जीवन के लिए खतरा हो सकता है।

म्यूकोर्मिकोसिस, एक दुर्लभ लेकिन खतरनाक कवक संक्रमण है। यह आक्रामक संक्रमण नाक, आंख और कभी-कभी मस्तिष्क को भी प्रभावित करता है।

विशेषज्ञों का कहना है कि इस प्रकार का फंगल संक्रमण अत्यंत दुर्लभ है और यह उन लोगों को प्रभावित कर सकता है, जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कोरोनावायरस से क्षतिग्रस्त हो गई है।
विशेषज्ञों का कहना है कि इन रोगियों में स्टेरॉयड दवाओं का उपयोग आंशिक रूप से कुछ उछाल की व्याख्या कर सकता है। जबकि COVID-19 रोगियों की प्रतिरक्षा-समझौता दूसरी स्थिति में समझा सकता है।

ब्‍लैक फंगस से जानिए कैसे करना है खुद का बचाव, चित्र-शटरस्टॉक.
ब्‍लैक फंगस से जानिए कैसे करना है खुद का बचाव, चित्र-शटरस्टॉक.

भारत में म्यूकोर्मिकोसिस

म्यूकोर्मिकोसिस या काले कवक की संख्या में वृद्धि COVID-19 महामारी के खिलाफ भारत की लड़ाई को और भी कठिन बना रही है।

ऐसे समय में जब देश पहले से ही COVID-19 महामारी से प्रतिकूल रूप से प्रभावित है, ब्लैक फंगस या म्यूकोर्मिकोसिस नामक कठिन फंगल संक्रमण के मामले एक अतिरिक्त चिंता का विषय है। कई भारतीय राज्यों ने इस दुर्लभ फंगल संक्रमण के रोगियों की संख्या में वृद्धि की सूचना दी है।

क्‍या हो सकते हैं इसके संभावित कारण

मुंबई के एक डायबेटोलॉजिस्ट डॉ राहुल बख्‍शी कहते हैं, फंगल संक्रमण की संभावना को रोकने का एक तरीका यह सुनिश्चित करना था कि कोविड -19 रोगियों के उपचार में और ठीक होने के बाद स्टेरॉयड की सही खुराक और अवधि दी जा रही है या नहीं।

स्टेरॉयड के अधिक इस्‍तेमाल से भी ब्‍लैक फंगस हो सकता है। चित्र : शटरस्टॉक
स्टेरॉयड के अधिक इस्‍तेमाल से भी ब्‍लैक फंगस हो सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

जरूरी नहीं है हर डायबिटीज रोगी को खतरा हो

डॉ. बख्‍शी यह भी कहते हैं कि उन्होंने पिछले एक साल में लगभग 800 मधुमेह के कोविड -19 रोगियों का इलाज किया। उनमें से किसी ने भी फंगल संक्रमण का अनुबंध नहीं किया। मरीजों को छुट्टी मिलने के बाद डॉक्टरों को शुगर लेवल का ध्यान रखना बहुत जरूरी है।

इसी संदर्भ में एक और डॉक्‍टर, डॉ. हेगड़े कहते हैं, “वायरस का स्ट्रेन काफी खतरनाक लगता है, जिससे ब्लड शुगर बहुत ऊंचे स्तर पर पहुंच जाता है। और अजीब तरह से, फंगल संक्रमण बहुत सारे युवाओं को प्रभावित कर रहा है।”

बिना मधुमेह के भी हो सकता है खतरा

पिछले महीने उनका सबसे छोटा रोगी 27 वर्षीय व्यक्ति था, जिसे मधुमेह भी नहीं था। “हमें कोविड-19 के दूसरे सप्ताह के दौरान उसका ऑपरेशन करना पड़ा और उसकी आंख निकालनी पड़ी। यह बहुत विनाशकारी है।”

डॉक्टरों का मानना है कि म्यूकोर्मिकोसिस, जिसकी कुल मृत्यु दर 50% है, स्टेरॉयड के उपयोग से शुरू हो सकती है। जो गंभीर रूप से बीमार कोविड -19 रोगियों के लिए एक जीवन रक्षक उपचार है।

स्टेरॉयड कोविड -19 के लिए फेफड़ों में सूजन को कम करते हैं और कुछ नुकसान को रोकने में मदद करते हैं। जो तब हो सकते हैं जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कोरोनोवायरस से लड़ने के लिए तेज हो जाती है।

वे प्रतिरक्षा को भी कम करते हैं और मधुमेह और गैर-मधुमेह कोविड -19 रोगियों दोनों में रक्त शर्करा के स्तर को बढ़ाते हैं।

ऐसा माना जाता है कि प्रतिरक्षा में यह गिरावट म्यूकोर्मिकोसिस के इन मामलों को ट्रिगर कर सकती है।

क्‍या है कोविड, स्‍टेरॉयड और ब्‍लैक फंगस का कनैक्‍शन

डॉ नायर कहते हैं, “मधुमेह शरीर की प्रतिरक्षा सुरक्षा को कम करता है, कोरोनावायरस इसे बढ़ा देता है और फिर स्टेरॉयड जो कोविड -19 से लड़ने में मदद करते हैं, आग में ईंधन की तरह काम करते हैं।”

यह फेफड़ों को भी नुकसान पहुंचा सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
यह फेफड़ों को भी नुकसान पहुंचा सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

डॉ नायर, जो मुंबई के तीन अस्पतालों में काम करते हैं, जो दूसरी लहर में सबसे अधिक प्रभावित शहरों में से एक है, कहते हैं कि उन्होंने अप्रैल में लगभग 40 रोगियों को फंगल संक्रमण से पीड़ित देखा है।

उनमें से कई मधुमेह रोगी थे जो घर पर ही कोविड-19 से ठीक हो गए थे। उनमें से 11 को शल्य चिकित्सा द्वारा एक आंख निकालनी पड़ी।

मुंबई में खतरनाक है स्थिति

दिसंबर और फरवरी के बीच, पांच शहरों – मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, दिल्ली और पुणे में उनके केवल छह सहयोगियों ने संक्रमण के 58 मामले दर्ज किए। अधिकांश रोगियों ने कोविड -19 से ठीक होने के बाद 12 से 15 दिनों के बीच इसके लक्षण देखे।

अस्पताल के कान, नाक और गले के विंग की प्रमुख डॉ रेणुका ब्रैडू के अनुसार, मुंबई के व्यस्त सायन अस्पताल में पिछले दो महीनों में फंगल संक्रमण के 24 मामले सामने आए हैं, जो साल में छह मामलों से अधिक है।

उनमें से ग्यारह को एक आंख गंवानी पड़ी और उनमें से छह की मृत्यु हो गई। उसके अधिकांश रोगी मध्यम आयु वर्ग के मधुमेह रोगी हैं, जिन्हें कोविड -19 से ठीक होने के दो सप्ताह बाद कवक द्वारा मारा गया था। “हम पहले से ही यहां एक सप्ताह में दो से तीन मामले देख रहे हैं। यह एक महामारी के अंदर एक बुरा सपना है।”

बैंगलोर में, एक नेत्र सर्जन डॉ रघुराज हेगड़े एक ऐसी ही कहानी बताते हैं। उन्होंने पिछले दो हफ्तों में म्यूकोर्मिकोसिस के 19 मामले देखे हैं, जिनमें से ज्यादातर युवा रोगी हैं। “कुछ इतने बीमार थे कि हम उनका ऑपरेशन भी नहीं कर सकते थे।”

ब्‍लैक फंगस से कुछ लोगों को अपनी आंख गंवानी पड़ी। चित्र-शटरस्टॉक.
ब्‍लैक फंगस से कुछ लोगों को अपनी आंख गंवानी पड़ी। चित्र-शटरस्टॉक.

डॉक्टरों का कहना है कि वे पिछले साल पहली लहर के दौरान कुछ मामलों की तुलना में दूसरी लहर के दौरान इस फंगल संक्रमण की गंभीरता और आवृत्ति से हैरान हैं।

यह भी पढ़ें – कोविड उपचार में लापरवाही का नतीजा हो सकता है ब्‍लैक फंगस, जानिए कैसे करना है खुद का बचाव

Dr. S.S. Moudgil Dr. S.S. Moudgil

Dr. S.S. Moudgil is senior physician M.B;B.S. FCGP. DTD. Former president Indian Medical Association Haryana State.