गले की खराश से परेशान हैं? तो यहां जानिए उसका कारण और देखभाल के उपाय

अगर दिवाली के बाद (post diwali) आपको गले में खराश (throat congestion) और आंखों में जलन महसूस होती है, तो इन घरेलू उपायों को आजमाने का समय आ गया है।
Cold cough ke liye yeh home remedies apnaayein
गले कि खराश खांसी जुकाम में मुंह पर रुमाल जरूर रखें। चित्र:शटरस्टॉक
अदिति तिवारी Updated: 27 Oct 2023, 17:50 pm IST
  • 100

दिवाली के बाद (post diwali) की सुबह आपको आंखों में जलन और गले में परेशानी दे सकती है। हवा में फैले प्रदूषण के कारण आपके सांस की नली में संक्रमण का खतरा भी हो सकता है। प्रदूषण के छोटे कण आपकी रेस्पिरेटरी सिस्टम (respiratory system) में तकलीफ पैदा कर सकते हैं। इन परेशानियों से बचने के लिए आपको इनके पीछे की ठोस वजह और बचाव के उपाय जानने होंगे। तो फिर देर किस बात की, आइए जानते हैं दिवाली के बाद होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में सब कुछ। 

इन कारणों से हो सकती है गले में परेशानी!

गले में जमाव का एक आम कारण पोस्टनासल ड्रिप (postnasal drip) है। पोस्टनासल ड्रिप तब होती है जब आपका शरीर अतिरिक्त म्यूकस (mucus) का उत्पादन करना शुरू कर देता है। आप महसूस कर सकते हैं कि यह आपकी नाक के पीछे से आपके गले से टपक रहा है।

गले में जमाव एक सामान्य सर्दी, साइनसाइटिस एलर्जी, या किसी अन्य स्थिति का एक दुष्प्रभाव है। यह आपके वायुमार्ग को बंद कर देता है। 

Diwali ke baad throat congestion
दिवाली के बाद आपको गले में परेशानी हो सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

डॉक्टरों का कहना हैं कि दिवाली के समय पटाखों के कारण प्रदूषण से गले की परेशानियों में 30% वृद्धि पाई जाती है। ENT विशेषज्ञ डॉ राहुल कुलकर्णी कहते है, “दिवाली के बाद गले की परेशानियों से संबंधित रोगियों का आंकड़ा बढ़ जाता है। मौसमी बदलाव और पटाखों से निकले धुएं का भी गहरा प्रभाव पड़ता है। गंभीर स्थिति में यह अस्थमा और ब्रॉन्काइटिस का भी कारण बन सकता है। इसके अलावा यह दूषित वातावरण अस्थमा के रोगियों के लिए स्थिति बिगाड़ सकता है।“

हमारे पास हैं वे होम रेमेडीज जो आपको गले की खराश से आराम दिला सकती हैं 

1. गरम पानी का उपयोग करें 

गरम पानी से शावर या स्टीम लेने से आपको राहत मिल सकती है। यह मोटी म्यूकस की परत को गलाने में मदद करेगा, जिससे उन्हें बाहर निकालना आसान हो जाएगा।

2. ह्यूमिडिफ़ायर का उपयोग करें

ह्यूमिडिफ़ायर आपके द्वारा सांस लेने वाली हवा को नम करते हैं। यह नमी एक गर्म पानी की भाप के समान प्रभाव डालती है। यह गाढ़े बलगम को पतला करता है, जिसे आप खांसकर आसानी से बाहर निकाल सकते हैं। अधिक राहत पाने के लिए आप ह्यूमिडिफायर में नीलगिरी का तेल मिला सकते हैं। यह तेल हानिकारक बैक्टीरिया को दूर करने में मदद करता है। 

3. हाइड्रेटेड रहें

बहुत सारे तरल पदार्थ पीने से बलगम को अंदर से बाहर निकालने में मदद मिलती है। सुनिश्चित करें कि इनमें कोई कैफीन न हो। डिहाइड्रेशन के कारण बलगम गाढ़ा और चिपचिपा हो जाता है। यह कफ पैदा करके अधिक परेशान करता है। 

Adrak waali chai aaram de sakti hai
अदरक वाली चाय इस दौरान गले को आराम देती है। चित्र : शटरस्टॉक

4. नींबू, अदरक, लहसुन जैसे मसालों का सेवन बढ़ाएं

इन सामग्रियों को श्वसन स्वास्थ्य (respiratory health) से जोड़ा गया है। इस घरेलू नुस्खे के कोई साइड इफेक्ट नहीं है। नींबू अदरक की चाय पीने की कोशिश करें और अपने भोजन में अतिरिक्त लहसुन शामिल करें। मिर्च युक्त मसालेदार भोजन भी बलगम को तोड़ सकते हैं। बस इस बात का ध्यान रखें कि मसाले नियंत्रित मात्रा में ही हों। क्योंकि यह पेट को नुकसान कर सकते हैं। 

5. नमक के गुनगुने पानी से गरारे करें 

30-60 सेकंड के लिए गुनगुने नमक के पानी से गरारे करने की कोशिश करें। यह गले में फंसे किसी भी कफ को दूर करने में मदद करता है। नमक राहत और रिकवरी को बढ़ावा देता है और खराब बैक्टीरिया को मारने में भी मदद करता है। 

Gargle karna bhi ek acha upaay hai
गरारे करना भी एक अच्‍छा उपाय है। चित्र: शटरस्‍टॉक

6. डॉक्टर की सलाह लें 

अगर स्थिति बहुत गंभीर है, तो स्वयं दवा लेने से बचें। इसके लिए आप किसी अच्छे चिकित्सक की सलाह और दवाइयां लें सकते हैं। 

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

तो लेडीज, इस साल दिवाली के बाद की परेशानियों से बचने के लिए इन उपायों को जरूर अपनाएं। 

यह भी पढ़ें: अगर ये आपके बेबी की पहली दिवाली है, तो इन 5 सुरक्षा उपायों को बिल्कुल भी नजरंदाज न करें

  • 100
लेखक के बारे में

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए ! ...और पढ़ें

अगला लेख