और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

सेलिब्रिटी डायटीशियन रुजुता दिवेकर बता रहीं हैं गैस, पेट फूलने और अपच से राहत देने वाले तीन आसान व्यायाम

Published on:21 April 2021, 09:00am IST
लंबे समय तक भूखे रहने, बेवक्‍त खाने और नींद पूरी न होने की वजह से आपको पाचन संबंधी समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है। इनसे निजात पाने के लिए इन योगासनों को जरूर आजमाएं।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 82 Likes
lal mirch ka zyada sewan apko pet ki bimariyan de sakta hai
लाल मिर्च का ज्यादा सेवन आपको पेट की बीमारियां दे सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

माना कि आप खाने की बेहद शौकीन हैं, लेकिन थोड़ा सा भोजन खाते ही अगर आपका पेट फूलने लगता है और आप अपनी इच्छा अनुसार भर पैट भोजन नहीं कर पाती हैं तो कहीं- न- कहीं आपको अपच और गैस की समस्या है।

एक स्वस्थ व्यक्ति ही सुस्वादु भोजन पचा सकता है। कई बार आपने देखा होगा कि आप चाह कर भी अपने मनपसंद व्यंजन नहीं खा पातीं, क्योंकि आपका पाचन तंत्र कमज़ोर होता है। खट्टी डकारें, खाने के बाद बदहजमी, पेट दर्द, कब्ज़ जैसी समस्याएं आपकी दिनचर्या ख़राब कर सकती हैं।

मशहूर डायटीशियन और सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर बताती हैं कि भोजन के बाद अपच माइग्रेन जैसी समस्याओं का भी कारण बन सकती है। इसलिए, खाना सही तरह से पचना बेहद ज़रूरी है। उन्होंने हाल ही में अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो साझा किया। जिसमें वे अपने फॉलोअर्स को पेट फूलने और अपच से राहत देने वाले आसन बता रही हैं।

ये आसन उन लोगों के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकते हैं जो, रोज़ा या नवरात्रि के व्रत रख रहे हैं। अगर वर्क फ्रॉम होम के कारण आपकी दिनचर्या बस एक कमरे तक ही सिमट कर रह गई है, तो आपको भी ये आसन जरूर करने चाहिए।

रुजुता दिवेकर आपको विपरीतकरणी या उर्ध्व पादोत्तानासन के तीन आसन बता रही हैं जो आपको इन समस्याओं से राहत दिलाएंगे:

गैस
ब्लोटिंग
कमर दर्द
माईग्रेन
रात में शरीर में दर्द
और कब्ज़

(नोट : पीरियड्स के दौरान आप यह आसन न करें)

उर्ध्व पादोत्तानासन आसन को आप दीवार के सहारे करें. चित्र : शटरस्टॉक
उर्ध्व पादोत्तानासन आसन को आप दीवार के सहारे करें. चित्र : शटरस्टॉक

विपरीतकरणी या उर्ध्व पादोत्तानासन की पहली मुद्रा करने के लिए:

यह आसन करने के लिए आप फर्श पर एक दीवार के सहारे योगा मैट बिछा लें।
अब दीवार की तरफ मुख करके सीधा लेट जाएं, लेटते समय आपके कूल्हे दीवार से टच होने चाहिए और आपके पैर हवा में दीवार के सहारे सीधे होने चाहिए।
आपका आधा शरीर, फर्श पर सीधा होना चाहिए और दोनों पैर हवा में। ध्यान रहे कि आपके दोनों घुटने सीधे होने चाहिए और पैर एक बराबर।

अब दूसरी मुद्रा में जाएं:

यह आसन आपको सही पोस्चर में बैठने में मदद करेगा और जांघों के एबडक्टर को मजबूती देता है। इस आसन को करने से आप पूजा या रमज़ान के वक़्त सही तरह से बैठ पाएंगे और दर्द भी नहीं होगा। साथ ही, आपकी जांघों की चर्बी भी घटाएगा।

इस आसन को करने के लिए

आपको उर्ध्व पादोत्तानासन की मुद्रा में बने रहना है।
इसके बाद अपने पैरों को धीरे-धीरे खोलना है, आपकी जितनी क्षमता हो उतना ही अपने पैरों को खोलें और स्ट्रेच करें।
ध्यान रहे कि आपके पैर दीवार के सहारे बिल्कुल सीधे, एड़ियां आपकी तरफ झुकी हुई और कूल्हे दीवार से सटे होने चाहिए।
कुछ देर के लिए इस मुद्रा को होल्ड करें और वापस धीरे से पहली वाली मुद्रा में आ जाएं।

तीसरी मुद्रा:

यह आसन आपको रात में अच्छी नींद दिलाएगा और सोने के समय गैस की समस्या भी नहीं होगी। इस आसन को आप सोने से कुछ देर पहले या भोजन करने के एक घंटे बाद कर सकती हैं।

आसन करने का तरीका:

सबसे पहले उर्ध्व पादोत्तानासन की पहली मुद्रा से शुरुआत करें।
अब धीरे से अपने दोनों पंजों को एक साथ मिलाएं और अपने पेल्विक एरिया की और लाएं
जितना हो सके उतना ही अपने पंजों को झुकाएं और अपने दोनों हाथों की मदद से घुटनों को दीवार की ओर पुश करें।
ध्यान रखें कि आपके कंधे और शरीर बिल्कुल सीधा होना चाहिए।

इस आसन से बाहर निकलने ले लिए अपने घुटनों को मोड़ें और अपनी छाती के पास लाएं। फिर अपने शरीर को दीवार से पीछे की ओर धकेलें और एक तरफ मुड़ जाएं। अब धीरे से उठें।

तो, लेडीज इन आसन को ट्राई करें और गैस और अपच से छुटकारा पाएं!

यह भी पढ़ें : कोरोनावायरस से बचने के लिए जानिए क्‍यों जरूरी है बाथरूम में एग्‍जॉस्‍ट फैन का होना

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।