ये योगासन आपके लिवर को रखेंगे स्वस्थ और मजबूत, योग गुरु अक्षर बता रहें हैं इनके फायदे

लिवर आपके शरीर से अपशिष्ट और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। इसलिए, यह जरूरी है कि आप अपने लिवर का ध्‍यान रखें। योग इसमें आपकी मदद कर सकता है।
ये आसन मुद्रा में सुधार करता है और मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है। चित्र-शटरस्टॉक.
ये आसन मुद्रा में सुधार करता है और मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है। चित्र-शटरस्टॉक.
Grand Master Akshar Updated: 10 Dec 2020, 12:58 pm IST
  • 88

लिवर हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, जो शरीर से अपशिष्ट, विषाक्त पदार्थ और कैंसरजन अवयवों को बाहर करता है। योग की कुछ विशिष्‍ट मुद्राओं के माध्यम से अपने लिवर को डिटॉक्स और उत्तेजित करना एक शानदार तरीका है। आसन जैसे बालासन और टिड्डी इस महत्वपूर्ण अंग को मसाज करते हैं, जिससे आपके पूरे शरीर का सिस्टम में स्‍वस्‍थ होता है और आप लंबी आयु जीते हैं।

फैटी लिवर रोग से पीड़ित लोगों के लिए योग बहुत उपयोगी हो सकता है। योग मुद्राओं के साथ, आप लिवर को हेल्‍दी रखते हैं, उसमें लचीलापन लाते हैं और उसे मजबूत बनाते हैं। वे शरीर के लिए ऊर्जा के रूप में उनका उपयोग करके यकृत में जमा वसा से छुटकारा दिलाते हैं।

इस बीच, प्राणायाम के रूप में जाना जाने वाला श्वास अभ्यास आपके लिवर के स्वास्थ्य को बेहतर बना सकता है। आप इस तरह अनुलोम-विलोम, कपालभाति प्राणायाम आदि के नियमित अभ्‍यास से लिवर सिरोसिस, पीलिया, हेपेटाइटिस और अन्य रोगों से बचा सकते हैं। इससे न केवल वे लिवर स्वस्थ्य रहता है, बल्कि विभिन्न प्रकार की यकृत समस्याओं का प्रभावी ढंग से इलाज करते हैं।

यकृत और प्लीहा (liver and the spleen) की कार्यक्षमता में सुधार करने के लिए आसन, प्राणायाम और मेडिटेशन को अपनी दिनचर्या में शामिल करने के साथ निम्नलिखित योग तकनीकों का पालन करें:

1 अधोमुखी स्वानासन

  • हाथों और पैरों के बल खड़े हों। यह सुनिश्चित करें कि हथेलियां कंधे के नीचे हैं और कूल्हों के नीचे घुटनों हैं।
  • कूल्हों को ऊपर उठाएं, घुटनों और कोहनी को सीधा करें, और एक उल्टे ‘वी’ का आकार बनाएं।
  • अब हाथों को कंधे की चौड़ाई के अनुसार रखें। फिंगर्स को आगे की ओर रखें।
  • अपने हथेलियों पर दबाव डालें और अपने कंधे के ब्लेड खोलें।
  • अपनी एड़ी को फर्श पर पुश करें।
  • अपनी आंखों को पंजों पर फोकस करें।
  • आठ से दस बार सांस लेने तक इसी मुद्रा में रहें।

इसके अलावा, देखें:

2 शलभासन

  • अपनी हथेलियों को जांघों के नीचे रखकर पेट के बल लेट जाएं।
  • भरपूर श्‍वास लें, उसे होल्‍ड करें और अपने दोनों पैरों को एक साथ उठाने की कोशिश करें।
  • सुनिश्चित करें कि आपके घुटने सीधे रहें और दोनों पैर साथ में हों।
  • अपनी ठोड़ी या माथे को जमीन पर रखें।
  • 10 सेकंड के लिए इसी आसन में रहें और धीरे-धीरे अपने पैरों को नीचे लाएं। फिर सांस छोड़ें।

3 बालासान

  • चटाई पर घुटने टेक कर अपनी एड़ी पर बैठ जाएं।
  • हाथों को सिर के ऊपर उठाएं और आगे बढ़ाएं।
  • अपने ऊपरी शरीर को आगे बढ़ाएं और मोड़ें।
  • अपने माथे को फर्श पर रखें।
  • श्रोणि एड़ी पर रहे और आराम की मुद्रा में आएं।
  • सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ पर दबाव न पड़े।
lower back pain
बालासन लिवर को स्‍वस्‍थ रखने में मदद करता है। चित्र : शटरस्टॉक

यहां हेल्‍दी लिवर के लिए कुछ प्राणायाम तकनीकों के बारे में बताया गया है, जिनका आपको अभ्‍यास करना चाहिए:

1 अनुलोम विलोम

  • सुखासन, अर्धपद्मसाना, वज्रासन या पूर्ण पद्मासन की आरामदायक स्थिति में बैठें।
  • अपनी पीठ को सीधे रखें, कंधों को आराम से रखें और अपनी सांस पर ध्यान केंद्रित करने के लिए अपनी आंखें बंद करें।
  • अपने हथेलियों को अपने घुटनों पर ऊपर की ओर रखें।

तकनीक:

धीरे-धीरे अपने अंगूठे के साथ अपने दाहिने नाक को बंद करें, अपने बाएं नाक में श्वास लें और इसे बंद करें, अब दायें नथुने के माध्यम से सांस बाहर छोड़ें। फिर अपने दाएं से श्वास लें, और बाएं नथुने से छोड़ें। यह एक चक्र बनाता है।

yoga for migraine
चित्र : शटरस्टॉक

2 कपालभाति

संस्कृत में, कपाल का अर्थ है खोपड़ी और भाति का मतलब चमक/रोशन करना है। इसलिए, कपालभाति प्राणायाम को खोपड़ी चमकाने वाली श्‍वास तकनीक के रूप में भी जाना जाता है।

  • किसी भी आरामदायक मुद्रा में बैठो
  • अपनी पीठ को सीधा करें और अपनी आंखें बंद करें।
  • अपने हाथों को अपने घुटनों पर रखें, हथेलियों सामने होनी चाहिए।
  • सामान्य रूप से श्वास लें और एक छोटी, लयबद्ध, और जबरदस्त सांस के साथ निकालने पर ध्यान केंद्रित करें।
  • आप अपने पेट का उपयोग डायाफ्राम और फेफड़ों से सभी हवा को मजबूती से निकालने के लिए कर सकते हैं।
  • जब आप अपने पेट को कम करते हैं, तो इनहेलेशन स्वचालित रूप से होना चाहिए।

फाइबर में उच्च खाद्य पदार्थों का उपभोग करके आप अपने लिवर स्वास्थ्य का ख्याल रख सकती हैं। ग्रीन टी पियें  हल्दी, नट्स और पत्तेदार हरी सब्जियों के साथ पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी को शामिल करें। इन चरणों के साथ, आप स्वस्थ रह सकते हैं और अपने लिवर को भी हेल्‍दी रख सकते हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 88
लेखक के बारे में

Grand Master Akshar is an internationally acclaimed Spiritual yogic master. He is the founder, chairman and course director of Akshar Yoga and president of World Yoga Organisation. He is also the President of the International Siddha Foundation. ...और पढ़ें

अगला लेख