आपकी ये 9 आदतें बना सकती हैं आपको डायबिटीज का शिकार, बचना है तो आज ही से कर लें इनसे तौबा

हमारी जीवनशैली में कई चीजें ऐसी हैं, जो हानिरहित लगती हैं पर असल में होती नहीं हैं। यही वजह है कि डायबिटीज के आंकड़ें दिन ब दिन बढ़ते जा रहे हैं। इनके लिए कोई और नहीं, बल्कि आपकी कुछ आदतें जिम्मेदार हैं।

ये आदतें बन सकती हैं डायबिटीज़ का कारण, चित्र: शटरस्टॉक
शालिनी पाण्डेय Updated on: 23 September 2022, 13:23 pm IST
  • 111

भारत में मधुमेह एक आम समस्या बन गई है और रोगियों की संख्या भी पिछले कुछ सालों में तेजी से बढ़ी है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण खराब लाइफस्टाइल और खानपान है। टाइप 1 मधुमेह (Type 1 diabetes) विरासत में मिलता है, जबकि टाइप 2 मधुमेह (Type 2 diabetes) खराब जीवनशैली और आहार के कारण हो सकता है। हम टाइप 1 मधुमेह को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, लेकिन टाइप 2 मधुमेह को नियंत्रित किया जा सकता है। बस अपनी कुछ आदतों में बदलाव लाकर। यहां हम ऐसी ही 9 खराब आदतों (habits that cause diabetes) के बारे में बता रहे हैं जो डायबिटीज का कारण बन सकती हैं।
हमारी जीवनशैली में कई चीजें ऐसी हैं जो हानिरहित लगती हैं फिर भी मधुमेह जैसी कई समस्याएं पैदा करती हैं। आइए नजर डालते हैं ऐसी हानिरहित दिखने वाली ऐसी 9 खराब आदतों पर।

1 नाश्ता छोड़ना

एनसीबीआई में 2017 में डायबिटीज़ पर हुए एक शोध के मुताबिक़ नाश्ता दिन का पहला भोजन होता है और यदि आप इसे छोड़ देते हैं, तो आपके दिन की शुरुआत थकान के साथ होगी। अगर आप भी नाश्ता नहीं करते हैं तो आप डायबिटीज के शिकार हो सकते हैं। नाश्ता स्किप करना पूरे दिन अनहेल्दी ईटिंग को प्रेरित करता है। अगर आप जल्दी में हैं और ठीक से नाश्ता करने का समय नहीं है, तो भी आप कुछ अखरोट और फलों के साथ नाश्ता कर सकती हैं।

2 एक्सरसाइज न करना

हम में से ज़्यादातर कॉर्पोरेट नौकरियों में हैं, जहां लंबे समय तक बैठे रहना सामान्य माना जाता है। हालांकि, यह मधुमेह का कारण बन सकता है। विभिन्न शोधों में यह बात सामने आई है एक्सरसाइज न करना और 30 मिनट से अधिक समय तक बैठने से शरीर में टाइप 2 मधुमेह जैसी कई समस्याएं हो जाती हैं। अमेरिकन डायबिटीज एसोसिएशन (एडीए) सलाह देता कि आप नियमित एक्सरसाइज को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं और काम के दौरान बीच-बीच में ब्रेक लेती रहें।

3 देर से सोना

आजकल लोगों को विभिन्न कारणों से देर से सोने की आदत होती है। और यह कई समस्याओं को जन्म दे सकता है। अच्छी सेहत के लिए रात में एक निश्चित समय पर सोना जरूरी है। डायबिटीज की समस्या ज्यादातर उन लोगों में पाई जाती है जो देर रात तक काम करते हैं। इससे शरीर का मेटाबॉलिज्म प्रभावित होता है और डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है।

आधी रात को उठ क्र खाना पड़ सकता है भारी, चित्र:शटरस्टॉक

2020 में डायबेटोलोजिया में प्रकाशित एक अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने लगभग 900,000 लोगों के डीएनए का अध्ययन किया और पाया कि अनिद्रा वाले लोगों में टाइप 2 मधुमेह होने की संभावना 17 प्रतिशत अधिक थी। नींद की कमी भी शरीर में हार्मोन के संतुलन को बिगाड़ देती है।

4 प्रोसेस्ड फूड खाना

प्रसंस्कृत भोजन अस्वास्थ्यकर है और यह एक जाना-माना तथ्य है। आंकड़े बताते हैं कि भारत में प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों की खपत बहुत अधिक है, और इससे कई समस्याएं होती हैं। एक स्टडी के मुताबिक प्रोसेस्ड फूड से डायबिटीज का खतरा 15 फीसदी तक बढ़ जाता है। रेड मीट मधुमेह को भी आमंत्रित करता है, इसलिए आपको इसके सेवन से बचने की जरूरत है।

5 धूम्रपान और शराब

धूम्रपान और शराब से भी मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है। रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों में मधुमेह होने की संभावना 30 से 40 प्रतिशत अधिक होती है। धूम्रपान और शराब से भी हृदय संबंधी समस्याएं और उच्च कोलेस्ट्रॉल होता है।

6 ज्यादा चीनी का सेवन

अगर आप मधुमेह की समस्या से बचना चाहते हैं तो आपको जितना हो सके चीनी से दूर रहना होगा। अगर आप डायबिटीज से पीड़ित हैं तो आपको लो-कार्बन शुगर-फ्री चीजें खानी चाहिए।

Paryapta matra me paani peena heart failure ke jokhim ko kam karta hai
पर्याप्त मात्रा में पानी पीना डायबिटीज के जोखिम को कम करता है। चित्र: शटरस्टॉक

मधुमेह से पीड़ित लोग डार्क चॉकलेट खा सकते हैं क्योंकि इसमें अन्य चॉकलेट की तुलना में बहुत कम चीनी होती है।

7 पर्याप्त पानी नहीं पीना

पानी हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी और फायदेमंद है। डॉक्टर दिन में 5-6 लीटर पानी पीने की सलाह देते हैं। यह कई बीमारियों को ठीक कर सकता है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि जो लोग कम पानी पीते हैं उनमें ब्लड शुगर लेवल बढ़ने का खतरा कम होता है। लीवर और किडनी में पानी की कमी के कारण ब्लड शुगर लेवल बढ़ने लगता है। पर्याप्त पानी का सेवन मधुमेह के खतरे को कम कर सकता है।

8 मिड नाईट क्रेविंग

आधी रात की स्नैकिंग निश्चित तौर पर अन्हेल्दी है और जितना हो सके इससे बचना चाहिए। आधी रात को उठना और खाना मधुमेह का कारण बन सकता है। रात के खाने के बाद अगर आप देर रात को कोई ऐसी चीज खाते हैं जिसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक हो तो इससे आपके रक्त में शर्करा की मात्रा बढ़ सकती है और आप मधुमेह से पीड़ित हो सकते हैं। दिन भर में संतुलित आहार लें और आधी रात को नाश्ता करने से बचें।

9 अपनों या प्रियजनों के साथ कनेक्शन न होना

शोध से पता चलता है कि लंबे समय तक अकेलापन भी टाइप 2 मधुमेह के जोखिम को बढ़ा सकता है। डायबेटोलोजिया  नामक पत्रिका  में 2020 में प्रकाशित एक अध्ययन में , शोधकर्ताओं ने पाया कि लोगों के साथ गुणवत्तापूर्ण संबंधों की अनुपस्थिति,अकेले रहने या दूसरों के साथ संपर्क की कमी के विपरीत, जीवन में बाद में टाइप 2 विकसित करने में एक भूमिका निभा सकती है। हालांकि वे निश्चित नहीं हैं कि क्यों, वे कहते हैं कि सामाजिक संबंधों की गुणवत्ता पर अधिक ध्यान केंद्रित करने से टाइप 2 के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

किम्बर्ली गोड न्यूयॉर्क स्थित पत्रकार हैं, जिन्होंने देश के कुछ शीर्ष उपभोक्ता प्रकाशनों के लिए स्वास्थ्य को कवर किया है। उनका काम महिलाओं के स्वास्थ्य, पुरुषों का स्वास्थ्य और रीडर्स डाइजेस्ट में दिखाई दिया है।

यह भी पढ़ें: टैनिंग से गहरा हो गया है गर्दन का रंग, तो इन 7 टिप्स से लाएं उसमें निखार

  • 111
लेखक के बारे में
शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory