ये लक्षण बताते हैं कि आपकी इम्युनिटी है कमजोर, जानिए क्या करना चाहिए

मजबूत इम्युनिटी होना आज के समय की मांग है, लेकिन इसे हासिल करना उतना ही मुश्किल। इसलिए जानिए कमजोर इम्युनिटी के लक्षण और इसे ठीक करने का तरीका।
जानिए कमजोर इम्युनिटी के संकेत। चित्र:शटरस्टॉक
अदिति तिवारी Published on: 29 December 2021, 11:30 am IST
ऐप खोलें

कोविड-19 महामारी के नए रूप ओमिक्रोन के बीच, कई लोग स्वस्थ रहने के लिए दोबारा अतिरिक्त सावधानी बरत रहे हैं। 20 सेकंड तक हाथ धोना और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए महत्वपूर्ण है। हालांकि, एक मजबूत इम्यून सिस्टम होना भी महत्वपूर्ण है, जो आपके सामने आने वाले कीटाणुओं से लड़ सके।

यह कॉन्सेप्ट केवल कोविड के लिए सटीक नहीं है। यह आपको नुकसान पहुंचाने वाले हर वायरस, बैक्टीरिया और संक्रमण के लिए उपयुक्त है। मजबूत इम्युनिटी मतलब रोगों से बचने के लिए मजबूत सुरक्षा कवच। यदि यह कवच कमजोर पड़ता है, तो आप विभिन्न प्रकार के संक्रमण का शिकार हो सकते हैं। दवाओं, इलाज और बीमारी से ठीक होने की प्रक्रिया से भी महत्वपूर्ण है एक शक्तिशाली इम्यून सिस्टम। 

लेकिन यदि आपने देखा है कि आप अक्सर बीमार रहते हैं, थकान महसूस करते हैं या अन्य परेशान करने वाले लक्षण हैं, जिनका आप पता नहीं लगा सकते हैं, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो गई है। इस गंभीर परिस्थिति को और बेहतर तरह से समझने के लिए जानिए कमजोर इम्युनिटी के लक्षण और इसे मजबूत करने के आसान टिप्स।

लगातार बीमार होना है कमजोर इम्युनिटी की निशानी। चित्र:शटरस्टॉक

ये लक्षण हैं कमजोर इम्युनिटी के संकेत 

1. बहुत ज्यादा तनाव 

यह कोई संयोग नहीं है कि आप काम पर एक बड़ी परियोजना के बाद या घर पर भावनात्मक स्थिति के बाद बीमार हो जाते हैं। अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन की एक रिपोर्ट के अनुसार, लंबे समय तक तनाव आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रियाओं को कमजोर करता है।

डेलेन्सी इंटरनल मेडिसिन के एक चिकित्सक, नादिया हसन बताते हैं, “ऐसा इसलिए है क्योंकि तनाव शरीर के लिम्फोसाइट्स (lymphocytes) यानी सफेद रक्त कोशिकाओं (White blood cells) को कम करता है जो संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं। आपके लिम्फोसाइट का स्तर जितना कम होगा, आपको सामान्य सर्दी जैसे वायरस का खतरा उतना ही अधिक होग।” 

2. हमेशा सर्दी होना 

वयस्कों के लिए हर साल दो या तीन सर्दी के कारण छींकना और नाक बंद होना पूरी तरह से सामान्य हैं। ज्यादातर लोग सात से 10 दिनों में वापस ठीक हो जाते हैं। डॉ हसन कहते हैं, “उस समय के दौरान, एंटीबॉडी विकसित करने और अजीब कीटाणुओं से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को तीन से चार दिन लगते हैं।”

लेकिन अगर आपको लगातार सर्दी-जुकाम हो रहा है, तो यह एक स्पष्ट संकेत है कि आपका इम्यून सिस्टम संघर्ष कर रहा है। 

3. पेट की परेशानियां 

यदि आपको बार-बार दस्त, गैस या कब्ज होती है, तो यह इस बात का संकेत हो सकता है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर हो गई है। शोध से पता चलता है कि आपकी लगभग 70% प्रतिरक्षा प्रणाली आपके पाचन तंत्र में स्थित है। वहां रहने वाले लाभकारी बैक्टीरिया और सूक्ष्मजीव आपकी आंत को संक्रमण से बचाते हैं और प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करते हैं।

बार-बार पेट खराब होना बिगड़ती इम्युनिटी का संकेत है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इन सहायक आंत बैक्टीरिया की कम मात्रा आपको वायरस, पुरानी सूजन और यहां तक ​​कि ऑटोइम्यून विकारों के खतरे में डाल सकती है।

4. देर से घाव ठीक होना 

जलने, कटने या खुरचने के बाद आपकी त्वचा डैमेज कंट्रोल मोड में चली जाती है। आपका शरीर नई त्वचा को पुन: उत्पन्न करने में मदद करने के लिए चोट के लिए पोषक तत्वों से भरपूर रक्त भेजकर घाव की रक्षा करने का काम करता है।

यह उपचार प्रक्रिया हेल्दी सेल्स पर निर्भर करती है। लेकिन अगर आपका इम्यून सिस्टम सुस्त है, तो आपकी त्वचा दोबारा नहीं बन सकती। इसके बजाय, आपके घाव बने रहते हैं और उन्हें ठीक करने में मुश्किल होती है।

5. बार-बार संक्रमण 

यदि आपको लगता है कि आप बार-बार संक्रमण से लड़ते हैं, तो हो सकता है कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपको चेतावनी संकेत भेज रही हो। अमेरिकन एकेडमी ऑफ एलर्जी अस्थमा एंड इम्यूनोलॉजी की रिपोर्ट है कि वयस्कों में संभावित प्रतिरक्षा की कमी के लक्षणों में शामिल हैं:

  • एक वर्ष में चार से अधिक बार कान में संक्रमण होना।
  • एक वर्ष की अवधि के दौरान दो बार निमोनिया होना।
  • क्रोनिक साइनसिसिस से पीड़ित या एक वर्ष में बैक्टीरियल साइनसिसिस से तीन से अधिक बार पीड़ित होना।
  • प्रति वर्ष एंटीबायोटिक दवाओं के दो से अधिक कोर्स की आवश्यकता होना।

6. निरंतर थकान का अनुभव 

आप जानते हैं कि बहुत अधिक काम और कम नींद की वजह से आपको सुस्ती का अहसास होना तय है। लेकिन अगर आप पर्याप्त नींद ले रहे हैं और अभी भी थकावट से पीड़ित हैं, तो यह विचार करने योग्य है कि क्या आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली आपको कुछ बताने की कोशिश कर रही है?

जब आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली संघर्ष करती है, तो आपकी ऊर्जा का स्तर भी प्रभावित होता है। डॉ हसन बताते हैं, “ऐसा इसलिए है क्योंकि आपका शरीर आपकी इम्युनिटी को बढ़ावा देने के लिए ऊर्जा के संरक्षण की कोशिश कर रहा है ताकि यह कीटाणुओं से लड़ सके।” 

हमेशा थके रहना सही संकेत नहीं है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ये दैनिक बदलाव हैं मजबूत इम्युनिटी का राज़ 

यदि आप इन लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो आपको अपनी इम्युनिटी पर कुछ अतिरिक्त ध्यान देने की आवश्यकता है। जीवनशैली में कुछ बदलाव और नई आदतें स्वाभाविक रूप से आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत और स्वस्थ रख सकती हैं। इनमें शामिल हैं:

  • एक संतुलित आहार का सेवन
  • पर्याप्त नींद
  • नियमित रूप से व्यायाम करना
  • खाने से पहले या बाहर से आने के बाद हाथ धोना
  • अपने टीकों को नियमित रूप से लगवाना
  • स्वस्थ वजन बनाए रखना
  • धूम्रपान और नशीली पदार्थों का निषेध 
  • तनाव कम करने की कोशिश करना

तो लेडीज, यदि आपकी इम्युनिटी भी बॉर्डर मार्क पर हैं, तो देर करने के बजाय एक स्वस्थ जीवनशैली को अपनाएं। 

यह भी पढ़ें: इन 5 कारणों से भी सफेद पड़ सकती है आपकी जीभ, सतर्क रहना है जरूरी

लेखक के बारे में
अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story