वैलनेस
स्टोर

आपके पेरेंट्स हड्डियों और जोड़ों के दर्द से परेशान हैं, तो ये 5 हर्ब्स दे सकती हैं उन्‍हें राहत 

Published on:30 January 2021, 13:30pm IST
सर्दियों के मौसम में हड्डियों में अकड़न और जोड़ों में दर्द होना बहुत आम बात है। खासतौर से आपके एजिंग पेरेंट्स के लिए। परेशान न हों, क्‍योंकि ये जड़ी-बूटियां कर सकती हैं उनकी मदद।
विनीत
  • 88 Likes
ये हर्ब्‍स जोड़ों में दर्द से निजात दिलाने में मदद करते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

जीवन को ठीक से चलाने के लिए बोन्‍स और जॉइंट का सही से काम करना बहुत जरूरी है। खासतौर से तब जब उम्र 50 के पार होने लगती है। आपने भी अकसर सर्दियों में अपने एजिंग पेरेंट्स को इस तरह की समस्‍याओं की शिकायत करते देखा होगा। असल में वे इस मौसम में पूरी तरह लाचार हो जाते हैं। फि‍र बचते हैं कुछ जैल और दवाएं। मगर ये सिर्फ इंस्‍टेंट रिलीफ देते हैं, समस्‍या का समाधान नहीं करते। इसलिए हम आपको बता रहे हैं ऐसी 5 आयुर्वेदिक हर्ब्‍स के बारे में जो उन्‍हें इस समस्‍या से राहत दिला सकती हैं।

ये 5 जड़ी-बूटियां दिलाएंगी आपकी हड्डियों और जोड़ों के दर्द से राहत

हल्दी (Turmeric)

इस खास भारतीय मसाले को अपनी प्राकृतिक औषधीय क्षमता के लिए जाना जाता है। इसके लिए मुख्य रूप से इसमें मौजूद कर्क्यूमिन की समृद्ध मात्रा को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। हल्दी सूजन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मदद करती है। अंततः जोड़ों का दर्द कम करने और जोड़ों की मूवमेंट को दुरुस्‍त करने में मदद करता है।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

यह भी पढ़ें: वजन कम कर रही हैं, तो अपने लाइफस्‍टाइल में शामिल करें ये 5 हेल्‍दी हेबिट्स

इस अद्भुत जड़ी- बूटी के नियमित उपयोग का प्रभाव संपूर्ण हड्डियों के स्वास्थ्य पर पड़ता है। साथ ही यह आने वाले वर्षों तक फिट और सक्रिय रहने में सक्षम बनाता है।

त्वचा के लिए भी हल्दी बहुत फायदेमंद है। ।चित्र- शटरस्टॉक।

रेड क्लोवर (Red clover)

लाल तिपतिया घास या रेड क्लोवर में फार्मोनोनेटिन नामक एस्ट्रोजेन जैसे यौगिक हड्डियों के लिए फायदेमंद होते हैं। ये बोन्‍स पर हार्मोनल असंतुलन के नकारात्मक प्रभाव को कम करने में मदद करते हैं। यह बोन मिनरल डेंसिटी (bone mineral density) में सुधार करने और ऑस्टियोपोरोसिस की प्रगति को बाधित करने में भी मदद कर सकता है।

काली मिर्च (Black Pepper)

काली मिर्च ने टूटने-फूटने के खिलाफ, हड्डियों और जोड़ों की रक्षा करने की अपार क्षमता को दर्शाया है। इस जड़ी बूटी के प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इन्फ्लेमेट्री गुण चिकित्सा को तेज करके आपकी हड्डियों को मजबूत रखने में मदद कर सकते हैं।

काली मिर्च जोड़ों के दर्द से भी राहत दिलाती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
काली मिर्च जोड़ों के दर्द से भी राहत दिलाती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

काली मिर्च अध: पतन (degeneration) की प्रक्रिया को धीमा कर सकती है। साथ ही सूजन, ऑक्सीडेटिव तनाव, हड्डियों और जोड़ों के टूटने-फूटने के जोखिम को कम कर सकती है।

ब्लैक कोहोश (Black cohosh)

शोध अध्ययनों से पता चला है कि ब्लैक कोहोश में हड्डी निर्माण प्रक्रिया को बढ़ावा देने की क्षमता होती है। साथ ही ऑस्टियोपोरोसिस और गठिया जैसे अन्य ज्वाइंट डिसऑर्डर के जोखिम को कम करने के लिए प्राकृतिक औषधीय क्षमता भी मौजूद होती है।

यह भी पढ़ें: जब आप वर्काउट करती हैं और पर्याप्त पानी नहीं पीती, तो आपके स्वास्थ्य पर पड़ते हैं ये 6 प्रभाव

अर्निका मोंटाना (Arnica montana)

यह एक प्राकृतिक हर्बल उपचार है जिसका उपयोग आमतौर पर हड्डियों की चोट, यहां तक ​​कि फ्रैक्चर लिए भी किया जाता है। यह प्रभावित ऊतकों में नई कोशिकाओं के पुर्ननिर्माण को तेज करके हड्डियों की चिकित्सा को तेजी से बढ़ावा देने में मदद करता है। अर्निका बाजार में कई रूपों में उपलब्ध है। होम्योपैथिक उपचार के रूप में, क्रीम, जैल और बाम में एक अतिरिक्त अर्क के रूप में भी।

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।