और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

महामारी के दौरान बढ़ रहा है ऑस्टियोपोरोसिस का जोखिम, जानिए आप इसे कैसे रोक सकती हैं

Published on:3 June 2021, 15:30pm IST
ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या बढ़ रही है, खासकर महामारी के दौरान। क्या इसका कोई कारण है और क्या हम नुकसान को कम कर सकते हैं? आपके सभी सवालों के जवाब इस लेख में हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 78 Likes
Kamar dard ko najarandaaj naa kare
कमर या हड्डियों के दर्द को नजरंदाज ना करें। चित्र : शटरस्टॉक

एक लोकप्रिय कहावत है, ‘स्वास्थ्य ही धन है’, लेकिन यह कभी भी उतना महत्वपूर्ण नहीं लगा जितना आज के दौर में लग रहा है। कोविड -19 जैसे वैश्विक स्वास्थ्य संकट ने न केवल शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के प्रति हमारी धारणा को बदल दिया है, बल्कि इसने हमें अधिक क्रिया-उन्मुख भी बना दिया है। यकीनन हम अपने रास्ते में आने वाली किसी भी अन्य स्वास्थ्य समस्या को रोकने के लिए जितना हो सके उतना प्रयास कर रहे हैं।

पिछले एक साल में सीमित गतिशीलता के कारण, हमारा शरीर कई बीमारियों को आमंत्रित कर रहा है। दिन का ज्‍यादातर समय स्क्रीन के सामने बिताने से हमारा जीवन अस्त-व्यस्त हो रहा है। इसलिए बहुत देर होने से पहले हमें खुद कुछ करना चाहिए!

यहीं पर हम महामारी के दौरान ऑस्टियोपोरोसिस के बढ़ने के बारे में भी बात करना चाहते हैं। हम में से अधिकांश लोग जानते हैं कि हड्डी से संबंधित यह रोग कमज़ोर हड्डियों और जोड़ों से जुड़ा होता है। लेकिन महामारी के दौरान यह इतना आम क्यों हो गया है? एशियन गेम्स 2014-2018, और रियो ओलंपिक 2016, के हेड फिजियो डॉ अरविंद यादव, बताते हैं-

“मूवमेंट की कमी के कारण, शरीर में जोड़ कमजोर हो जाते हैं। यह विशेष रूप से महानगरीय शहरों में रहने वाले लोगों के बीच प्रचलित है। जहां सूरज की रोशनी के संपर्क में न आने या बहुत कम आने की समस्या बढ़ गई है। शरीर में विटामिन डी का उत्पादन नहीं होने से हड्डियों का पतन होता है, जिससे उन्हें ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा बढ़ जाता है।

इस समस्‍या को ‘छिद्रपूर्ण हड्डी’ के रूप में भी जाना जाता है। ऑस्टियोपोरोसिस में हड्डियों से ऊतक का नुकसान होता है, जिससे वे नाजुक हो जाते हैं। इससे कैल्शियम और विटामिन डी की कमी के कारण वे आसानी से टूट जाती हैं।

क्या यह केवल उम्रदराज लोगों को प्रभावित करता है?

नहीं! ऑस्टियोपोरोसिस एक डीजनरेटिव बोन कंडीशन है, जिसमें आपकी हड्डियां तेजी से टूटना या झड़ना शुरू कर देती है। अभी तक हम मानते थे कि यह रोग उम्रदराज लोगों की समस्‍या है। मगर यह पूरी तरह सच नहीं है। ऐसे कई मामले हैं जब इस महामारी के दौरान युवा लोग इससे प्रभावित हुए।

डॉ यादव कहते हैं – “कोविड -19 के डर के कारण, सभी आयु वर्ग के लोगों ने बड़े पैमाने पर घर के अंदर समय बिताया है, और एक गतिहीन जीवन जी रहे हैं। नियमित शारीरिक गतिविधि की कमी और अनुचित आहार के कारण लोगों को बीमारियों का खतरा अधिक होता है।

यदि वे अभी कदम नहीं उठाते हैं, तो वे लंबे समय में दीर्घकालिक प्रभाव भुगतने वाले हैं। दुर्भाग्य से, ऑस्टियोपोरोसिस का जल्दी निदान नहीं किया जा सकता है, क्योंकि यह प्रारंभिक अवस्था में कोई लक्षण नहीं दिखाता है।”

ऑस्टियोपोरोसिस का जोखिम महिलाओं में अधिक होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
ऑस्टियोपोरोसिस का जोखिम महिलाओं में अधिक होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

लेकिन क्या नुकसान को कम करना संभव है?

डॉ. यादव हमें आश्वस्त करते हैं कि हम नुकसान को कम कर सकते हैं। उनका मानना ​​​​है कि ऐसी कई रिपोर्ट आई हैं जो सही मात्रा में कैल्शियम, विटामिन और अन्य पोषक तत्वों के साथ शरीर को पोषण देने और पोषण पर ध्यान केंद्रित करती हैं, कुछ अन्य बातों को भी ध्यान में रखना चाहिए।

उन्होंने आगे कहा “मैं एक सुरक्षित व्यायाम आहार और एक स्वस्थ जीवनशैली के महत्व पर जोर देना चाहता हूं। व्यायाम जोड़ों के दर्द, सूजन, जकड़न को कम करने के साथ-साथ जोड़ों के कार्य में सुधार करने में मदद कर सकता है। यह जरूरी नहीं है कि उन्हें बाहर कदम रखने की जरूरत ही पड़े। व्यायाम घर के अंदर भी किया जा सकता है!”

यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो इस खतरे को कम कर सकते हैं

1. हाइड्रेशन कुंजी है

 

डॉ यादव बताते हैं “बोन मैरो लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए जिम्मेदार है, और यह ऐसी कोशिकाएं हैं जो ऑक्सीजन ले जाती हैं। पानी हड्डियों में कैल्शियम और अन्य पोषक तत्व लाता है, इसलिए कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर आहार खाने से पानी के बिना काम नहीं चलेगा। पानी शरीर के विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने में भी मदद करता है, जो अन्यथा हड्डियों में सूजन और टूटने का कारण बन सकते हैं।”

2. श्वास व्यायाम

महामारी ने हमें सांस लेने के महत्व का एहसास कराया है। शुरुआती लोगों के लिए, सही सांस लेने से ऑस्टियोपोरोसिस का जोखिम कम करने में मदद मिलती है।

वे बताते हैं ”सांस लेने से छाती की मांसपेशियों का विस्तार और संकुचन होता है, जिससे वे मजबूत होती हैं: गहरी सांस लेने और अपनी सांस को रोककर रखने से आइसोमेट्रिक संकुचन होता है। जो मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद करता है। इससे आपकी रीढ़ और पसलियों पर दबाव और काम का बोझ कम होता है।”

3. बढ़ी हुई गति

हालांकि बाहर निकलना सही निर्णय नहीं है, लेकिन घर के अंदर कुछ बुनियादी व्यायाम कर सकती हैं।

डॉ यादव ने निष्कर्ष निकाला “40-45 मिनट के लिए घर के एक कोने से दूसरे कोने तक चलें। वजन उठाकर कूल्हे और घुटने की मांसपेशियों को मजबूत करने का प्रयास करें, न कि भार वहन करने वाले व्यायामों के माध्यम से। जब भी संभव हो, सीढ़ियां चढ़ने का प्रयास भी कर सकती हैं। सुनिश्चित करें कि आप अपनी कसरत की तीव्रता को धीरे-धीरे और लगातार बढ़ाती रहें। आप चाहें तो रेजिस्टेंस बैंड एक्सरसाइज भी इसमें शामिल कर सकती हैं।”

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।