वैलनेस
स्टोर

हार्ट अटैक पड़ने के बाद का पहला घंटा है गोल्डन आवर, आप बचा सकते हैं किसी की जान

Published on:8 September 2021, 09:30am IST
हार्ट अटैक पड़ने के बाद पहले घंटे या 'गोल्डन ऑवर' के भीतर दिया गया उपचार दिल के दौरे के रोगियों के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे उनकी जान बच सकती है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 111 Likes
heart health
हार्ट अटैक पड़ने के बाद पहले घंटे या 'गोल्डन ऑवर' के भीतर दिया गया उपचार दिल के दौरे के रोगियों के लिए महत्वपूर्ण है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हर साल हृदय रोग से भारत में कई जानें जाती हैं। रिपोर्ट और आंकड़े बताते हैं कि खराब जीवनशैली के कारण भारतीय लोग अन्य लोगों की तुलना में लगभग 10 साल पहले दिल के दौरे के शिकार हो जाते हैं।

हार्ट अटैक या कार्डिएक अरेस्ट एक गंभीर मामला है – यह अचानक नहीं होता है, जैसा कि आज के समय में आम धारणा है। दरअसल हमारे शरीर का तंत्र हमें विभिन्न तरीकों से बताता रहता है कि हमारा दिल बीमार है और इस पर ध्यान देने की जरूरत है। इसलिए हमें ध्यान से सुनना चाहिए कि हमारा शरीर क्या बता रहा है।

स्थिति तब और भी बिगड़ जाती है जब मरीज को कई घंटे बीत जाने के बाद ही अस्पताल लाया जाता है। इसलिए, उनका इलाज करना बहुत मुश्किल हो जाता है। क्योंकि वे गोल्डन आवर उपचार से चूक जाते हैं – जो कि दिल का दौरा पड़ने के बाद पहला एक घंटा है। यह पहला घंटा, जटिलताओं को कम करने और मृत्यु दर में कमी लाने के लिए आदर्श है।

यहां जानिए दिल का दौरा पड़ने के बाद का पहला घंटा सबसे महत्वपूर्ण क्यों होता है

दिल का दौरा पड़ने के बाद, हृदय की मांसपेशियां एक घंटे से 90 मिनट के बाद मरने लगती हैं, क्योंकि उन्हें रक्त मिलना बंद हो जाता है। छह घंटे के बाद, हृदय के विभिन्न हिस्से गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो सकते हैं और ज्यादातर रोगियों को दूसरा मौका नहीं मिलता।

लोग समय पर दिल के दौरे के लक्षणों की पहचान करने या उचित चिकित्सा सहायता लेने में विफल रहते हैं। दिल के दौरे के रोगियों का समय पर इलाज करना बहुत महत्वपूर्ण है। यह जरूरी है कि कमर के स्तर से ऊपर किसी भी सीने में दर्द के लिए ईसीजी करवाया जाए और बिना किसी देरी के चिकित्सक द्वारा परामर्श किया जाए।

heart health
हार्ट अटैक की स्थिति में हर पल कीमती होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

अत्यंत महत्वपूर्ण है तत्काल उपचार और समय पर देखभाल

अक्सर लोग सीने में दर्द को अपच या एसिडिटी की समस्या का कारण बता कर नजरअंदाज कर देते हैं। किसी भी प्रकार के तेज सीने में दर्द की तुरंत चिकित्सक द्वारा जांच की जानी चाहिए। विशेष रूप से उन लोगों में जिनका पारिवारिक इतिहास है और जेनेटिक रूप से हृदय की समस्याओं से ग्रस्त हैं।

गोल्डन आवर के भीतर अस्पताल पहुंचना, जिसमें एक इन-हाउस कैथ लैब हो, चिकित्सकों को दिल का दौरा पड़ने का पता लगाने के लिए टेस्ट और स्कैन करने के लिए पर्याप्त समय प्रदान करता है। साथ ही, रक्त प्रवाह को बनाए रखने के लिए सही कदम उठाने का मौका देता है।

बिना दर्द के भी हो सकता है हार्ट अटैक

दर्द की तीव्रता निर्णायक कारक नहीं है। कई बार दिल का दौरा पूरी तरह से दर्द रहित हो सकता है। इसमें छाती में अचानक जलन, सांस फूलना, चक्कर आना, बेचैनी, थकावट, उल्टी या पसीना आना जैसे लक्षण नजर आते हैं। अगर कोई व्यक्ति ऐसे लक्षणों से जूझ रहा है, जिनके बारे में वह बता नहीं पा रहा, तो उसे तुरंत अस्पताल ले जाना चाहिए।

माइनर हार्ट अटैक को भी न करें नजरंदाज

समय पर उपचार से हृदय की मांसपेशियों को होने वाले नुकसान को कम किया जा सकता है। अगर मामूली दिल का दौरे को नजरअंदाज किया जाता है, तो बड़ा दिल का दौरा पड़ सकता जो अचानक मौत का कारण हो सकता है।
कुछ मामलों में सीने में दर्द सांस लेने में कठिनाई के साथ जोड़ा जाता है। यहां दिल के मरीजों के लिए पैसे से ज्यादा कीमती समय है। जितनी जल्दी आप कार्रवाई करेंगे, उतनी ही जल्दी आप ठीक हो जाएंगे।

ये टिप्स दिल के दौरे को रोकने में मदद कर सकते हैं

असामान्य स्थानों पर दर्द, लगातार उल्टी आदि को कभी भी नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए क्योंकि यह दिल का दौरा हो सकता है।

पहले ही निवारण करना हमेशा इलाज से बेहतर है। इसलिए, स्वस्थ जीवनशैली अपनाएं, स्वस्थ आहार लें और नियमित व्यायाम करें। धूम्रपान, शराब और तंबाकू के सेवन से सख्ती से परहेज करें। अपने शरीर के वजन को नियंत्रित रखें और मोटापे को दूर रखें।

जांच के लिए डॉक्टर से मिलें। अपने बीपी, ब्लड शुगर, कोलेस्ट्रॉल के स्तर की जांच करें और उन्हें नियंत्रित करें- और अपने डॉक्टर की सलाह का पालन करें।

यह भी पढ़ें : हर समय की थकान हो सकती है लिवर डैमेज का संकेत, जानिए इसे कैसे बचाना है

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।