वैलनेस
स्टोर

सूजन भी हो सकती है जोड़ों में दर्द का कारण, एक्सपर्ट से जानिए इससे राहत पाने के 5 उपाय

Published on:29 August 2021, 14:00pm IST
जोड़ों की सूजन से जोड़ों में दर्द होता है, लेकिन सही कदम उठाए जाने पर इसे कम किया जा सकता है। जानिए जोड़ों की सूजन से राहत पाने के 5 तरीके।
Dr Barira Ahmad
  • 111 Likes
ketchup ke sewan e hoga jodo mein dard
केचप के सेवन से होगा जोड़ों में दर्द। चित्र : शटरस्टॉक

जोड़ों की सूजन, जो जोड़ों के दर्द का कारण बनती है, जोड़ों और कोमल ऊतकों में चोट, ज्यादा प्रयोग या घर्षण के प्रति आपके शरीर की प्रतिक्रिया है। यह दर्शाता है कि आपका शरीर किसी गड़बड़ से खुद की मरम्मत कर रहा है। इसलिए, प्रभावित क्षेत्र में रक्त वाहिकाएं आकार में फैल जाती हैं। ताकि सफेद रक्त कोशिकाओं के साथ उपचार के लिए अधिक रक्त मिल सके।

सूजन के कई कारण हो सकते हैं जैसे: एक जॉइंट में चोट लगना या गठिया जैसे रोग या ऑस्टियोआर्थराइटिस। इससे सूजन के लक्षण हो सकते हैं जैसे – उस क्षेत्र में लालिमा, गर्मी, सूजन, दर्द और उस जगह का काम न करना। इन संकेतों का सही समय पर ध्यान रखना बेहद जरूरी है अन्यथा यह संरचनाओं को स्थायी रूप से नुकसान पहुंचाते हैं और दर्द का कारण बनते हैं।

यहां जोड़ों की सूजन का प्रभावी ढंग से इलाज करने के 5 तरीके दिए गए हैं:

1. क्रायोथेरेपी (Cryotherapy):

दर्द और सूजन के लिए बर्फ के उपयोग करना सबसे कारगर बताया जाता है। आमतौर पर, पारंपरिक आइस पैक का उपयोग उसी उद्देश्य के लिए किया जाता है। यह एक अच्छा चिकित्सीय विकल्प है, जो प्रभावी है और इसमें तरल नाइट्रोजन का उपयोग किया जाता है।

लक्षित क्षेत्र के संपर्क में आने वाले -160 डिग्री के बेहद ठंडे तापमान के साथ, यह केवल 10 मिनट के समय में आइस पैक की तुलना में छह गुना अधिक कुशलता से काम करता है।

गैस के रूप में होने के कारण यह उन परतों में गहराई से प्रवेश करता है, जिनमें आइस पैक नहीं कर पाता है। क्रायोथेरेपी का उद्देश्य ठंड के संपर्क में आने वाले क्षेत्रों में रक्त के फैलाव को बढ़ावा देना है। इस प्रकार, यह रक्त प्रवाह को बढ़ाता है और कोशिकाओं को अधिक कुशल तरीके से काम करता है।

joint inflammation
घुटनों में सूजन के कई कारण हो सकते हैं. चित्र : शटरस्टॉक

2. लेजर थेरेपी (Laser therapy):

यह एक और ट्रीटमेंट है, जिसका उपयोग वर्षों से सूजन को कम करने के लिए किया जाता रहा है। पहले, यह एक समय लेने वाली प्रक्रिया हुआ करती थी, क्योंकि अनुशंसित खुराक देने में लगभग एक घंटे का समय लगता था। अब उन्नत तकनीक के साथ हाई क्लास 4 लेजर या हाई पॉवर लेजर आता है जो केवल 10 मिनट में समान कार्य करता है। यह प्रक्रिया दर्द रहित और नॉन-इंवेसिव है।

लेजर थेरेपी फोटो-बायोमोड्यूलेशन नामक एक प्रक्रिया का उपयोग करती है, जिसमें लक्षित क्षेत्र लाल और निकट अवरक्त प्रकाश के संपर्क में आता है। यह एटीपी (एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट) उत्पादन में वृद्धि का कारण बनता है और सेलुलर मैटाबोलिज्म को बढ़ाकर सेल की मरम्मत को तेज करती है।

यह रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करके दर्द और सूजन को प्रभावी ढंग से कम करती है, जिससे पोषक तत्वों और ऑक्सीजन में वृद्धि के साथ-साथ सफेद रक्त कोशिका और तेजी से मरम्मत प्रक्रिया के लिए एंटीऑक्सिडेंट संख्या में वृद्धि होती है।

3. ज्यादा प्रयोग से बचें (Avoid overuse):

जोड़ों में सूजन होने पर रोगी जॉइंट्स का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, जबकि यही वह समय है जब जोड़ों के दर्द से बचने के लिए इसे थोड़ा आराम दिया जाना चाहिए। उदाहरण के लिए, सूजन के साथ ज्यादा दर्द होने पर चलना सही नहीं है।

इसी तरह, अपने जोड़ों को चरम सीमा तक ले जाने या बहुत ज्यादा मालिश करने से उस समय सूजन बढ़ सकती है। यह जोड़ों की सूजन को बढ़ा देता है और इसलिए आराम की आवश्यकता होती है। यह वह समय है जब आपको अत्यधिक व्यायाम और स्ट्रेचिंग छोड़कर जोड़ों को आराम देना चाहिए।

joint inflammation
संतुलित आहार लें। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. आहार (Diet):

आप जैसा खाते हैं ठीक वैसा ही आपका शरीर बन जाता है। ऐसा ही जॉइंट हेल्थ के मामले में है। इसलिए, जोड़ों की सूजन के इलाज के लिए पौष्टिक आहार बनाए रखना बेहद जरूरी है। ऐसे कई खाद्य पदार्थ हैं जो सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं और गठिया से जुड़े जोड़ों के दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं।

कई अध्ययनों से पता चलता है कि ऑस्टियोआर्थराइटिस और रुमेटाइड गठिया के रोगी रिपोर्ट करते हैं कि उनका आहार सीधे उनके लक्षणों की गंभीरता को प्रभावित करता है।

आहार में बदलाव करने से लक्षण में सुधार हो सकता है जैसे: मांस, चीनी, डेयरी और सोडा से परहेज। ओमेगा -3 के लिए पत्तेदार साग, नट्स, मछली का सेवन, एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर फल जैसे जामुन और साबुत अनाज। मांसपेशियों के निर्माण के लिए प्रोटीन एक और महत्वपूर्ण पहलू है, जिसे विशेष रूप से व्यायाम करते समय नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।

5. वजन घटाने और व्यायाम (Weight loss and exercises):

जोड़ों की सूजन जोड़ों पर बार-बार होने वाले कम्प्रेशन का परिणाम हो सकती है, विशेष रूप से घुटनों पर। अधिक वजन होने से निचले शरीर के जोड़ों पर उनकी सीमा से अधिक भार पड़ता है और इसलिए, ऊतक संरचनाओं में जलन होती है, जिससे दर्द और सूजन होती है। इसलिए वजन कम करना महत्वपूर्ण हो जाता है।

एक योग्य फिजियोथेरेपिस्ट द्वारा बताये गये व्यायाम का पालन करना, जो आपकी ताकत और लचीलेपन का ख्याल रखता है, आवश्यक है। यह आपको जोड़ों से भार को दूर करने में मदद करता है। अच्छी तरह से टोंड और लचीली मांसपेशियां आपको एक अच्छी मुद्रा बनाए रखने और अपना वजन समान रूप से वितरित करने में मदद करती हैं।

यह भी पढ़ें : फैंसी फूड्स के पीछे भागने की बजाए खुद तैयार करें अपना एंटी डायबिटीज आटा

Dr Barira Ahmad Dr Barira Ahmad

Dr Barira Ahmad, Physiotherapist at Potenza Advanced Wellness Center, New Delhi