पीठ दर्द से परेशान हैं? तो ये आयुर्वेदिक तेल आपको दिला सकते हैं राहत

आयुर्वेदिक तेल आपको पुराने पीठ दर्द से राहत दिला सकते हैं। दर्द को कम करने के लिए इन्हें आजमाएं।
ayurveda aur backpain
अरोमा का तेल आपको मांसपेशियों के दर्द से राहत दिला सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published: 29 Oct 2021, 11:00 am IST
  • 122

कभी बुजुर्गों से जुड़ा पीठ दर्द अब युवा पीढ़ी के लिए भी एक समस्या बन गया है। ऑफिस में लंबे समय तक बैठे रहने के साथ-साथ गलत पॉस्चर में सोने के कारण, यह समस्या हो सकती है। ओवर-द-काउंटर पेन किलर लेने के बजाय, इस पर अच्छे से ध्यान दें। इस स्थिति से निपटने में आपकी मदद करने के लिए इसमें आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों की भूमिका है।

आयुर्वेद के महत्व को युवा पीढ़ी को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यदि अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो पीठ दर्द कई शारीरिक कार्यों को खराब कर सकता है।

यहां पीठ दर्द को कटि शूल या कटि ग्राहम के रूप में संदर्भित किया गया है। इसका अर्थ है वात दोष (वायु और ईथर का ऊर्जा सिद्धांत) का असंतुलन। यह मांसपेशियों, हड्डी और मज्जा के ऊतकों को प्रभावित करता है।

peeth dard se pareshan hain
पीठ दर्द से परेशान हैं?. चित्र : शटरस्टॉक

आयुर्वेद किस तरह से इस समस्या को संबोधित करता है?

यह आहार, जीवन शैली और हर्बल दवाओं के दृष्टिकोण से पुरानी पीठ दर्द की समस्या को देखता है। जबकि यह स्वच्छ और हरे खाद्य पदार्थों की खपत को बढ़ावा देता है, जीवनशैली उपचार में सही मुद्रा बनाए रखने पर जोर दिया जाता है, विशेष रूप से बैठने की मुद्रा।

आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां नरम ऊतकों की सूजन को कम करने पर ध्यान केंद्रित करती हैं।

पीठ दर्द के आयुर्वेदिक उपाय

कुछ आयुर्वेदिक हर्बल तेल हैं, जिनमें कार्बनिक तत्व भी शामिल हैं जो पीठ दर्द से राहत दे सकते हैं। इनमें से कुछ हैं:

1. महानारायण तेल: इसमें एनाल्जेसिक गुण होते हैं, जो रक्त प्रवाह में सुधार करने में मदद करते हैं। यह विषाक्त पदार्थों को कम करता है और दर्द से राहत दिलाता है।

2. धनवंतरम तेल: यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। साथ ही पीठ की मांसपेशियों में सुन्नता को भी दूर करता है।

3. अश्वगंधा तेल: यह पूरे पेशी तंत्र को पोषण प्रदान करता है, और मांसपेशियों की ऐंठन को कम करते हुए नसों और मांसपेशियों के दर्द से निपटता है।

मसल्‍स और जोड़ों में दर्द से राहत प्रदान कर सकते हैं आयुर्वेदिक तेल। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. वातसमानाथैलम: यह लहसुन, नीम और तिल के तेल और सौंफ के मिश्रण से बनता है। यह मांसपेशियों को गर्मी प्रदान करता है, और कठोरता और संबंधित दर्द को कम करता है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

5. कर्पूरादि तेल: इस तेल में प्राथमिक घटक कपूर है, जिसे मांसपेशियों के उपचार में बहुत अच्छा माना जाता है। यह रक्त प्रवाह को बढ़ाता है और सुन्नता से छुटकारा पाने में मदद करता है। जिससे पीठ की मांसपेशियों में दर्द और जकड़न से राहत मिलती है।

और भी हैं…

कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों जैसे गुग्गुलु, निर्गुंडी, शलाकी, चिंगती सत्व, हरिद्रा और अदरक भी पीठ दर्द को ठीक करने में उपयोग किया जाता है।

पीठ दर्द के लिए आयुर्वेद में गोक्षुरा, महारसनदि क्वाथ, पंचसकार चूर्ण, रसपंचकम क्वाथ और धनवंतरम क्वाथ जैसी कुछ अन्य जड़ी-बूटियों और योगों का भी उपयोग किया जाता है।

जड़ी-बूटियों जो विशेष रूप से मांसपेशियों और ऊतक सूजन को कम करने पर ध्यान केंद्रित करती हैं। उनमें कर्कुमा लोंगा (हल्दी राइज़ोम), हार्पागोफाइटम प्रोकुम्बेन्स (लोकप्रिय रूप से डेविल्स क्लॉ कहा जाता है। तिल परिवार का एक फूल वाला पौधा), ग्लाइसीराइज़ा ग्लबरा (लाइसोरिस राइज़ोम), और यूरोपीय गोल्डनरोड (सॉलिडैगो विरगौरिया) शामिल हैं। .

यह भी पढ़ें : दिवाली सफाई के दौरान अकसर बीमार पड़ जाती हैं, तो ये हो सकते हैं डस्ट एलर्जी के संकेत

  • 122
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख