एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित हैं? इस पीठ दर्द को नजरअंदाज़ करना पड़ सकता है भारी

वर्क फ्रॉम होम और गतिहीन जीवन शैली की वजह से, एंकिलोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस नामक एक इंफ्लेमेटरी समस्या तेजी से आम होती जा रही है। जानिए इसके बारे में सबकुछ।

backbone aur mind ka connection
रीढ़ की हड्डी का दिमाग से है गहरा नाता। चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published on: 6 November 2021, 18:00 pm IST
  • 124

एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस (Ankylosing Spondylitis) एक ऐसी स्थिति है जिसे अक्सर “एक मामूली पीठ दर्द” के रूप में गलत तरीके से प्रस्तुत किया जाता है। हालांकि, यह एक इंफ्लेमेटरी स्थिति है जो रीढ़ के जोइंट्स को प्रभावित करती है, जिससे लचीलापन कम हो जाता है, मुद्रा को नुकसान पहुंचता है और गतिशीलता कम होने का खतरा होता है। जब से ‘वर्क फ्रॉम होम’ और स्क्रीन के सामने लगातार बैठना सामान्य हो गया है, एंकिलोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस बढ़ता ही जा रहा है। इस स्पॉन्डिलाइटिस को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है।

आपको बता दें कि यह पुरुषों में ज़्यादा आम है, जिससे उनकी जीवन की गुणवत्ता बेहद खराब हो सकती है। एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस के युवा व्यक्तियों पर पड़ने वाले दुर्बल प्रभावों पर ध्यान देना समय की आवश्यकता है।

बायोलॉजिक्स – एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस का पसंदीदा ट्रीटमेंट

हाल के दिनों में, बायोलॉजिक्स, जो एक तरह का उपचार है, रुमेटोलॉजिस्ट के लिए एक पसंदीदा विकल्प बन गया है। एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस (AS) के रोगियों में प्रतिरक्षा प्रणाली होती है जो जोड़ों में अतिरिक्त सूजन का कारण बनती है। यह उन्हें नुकसान पहुंचा सकती है, और जोइंट्स में दर्द और कठोरता का कारण बन सकती है।

यह एक इंफ्लेमेटरी स्थिति है जो रीढ़ के जोइंट्स को प्रभावित करती है। चित्र : शटरस्टॉक

बायोलॉजिक्स को विशिष्ट प्रोटीन और पदार्थों को लक्षित करने और प्रभावित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। जो कि एक इंफ्लेमेटरी प्रक्रिया है। यह न केवल सूजन दर्द को कम करने में मदद करता है, बल्कि एंकिलोज़िंग स्पोंडिलिटिस से संबंधित अन्य स्वास्थ्य स्थितियों जैसे आंखों की सूजन, कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों और यहां तक ​​​​कि अवसाद के जोखिम को भी कम करता है। आपको बता दें कि बायोलॉजिक्स लंबे समय में नई हड्डियों के निर्माण को भी रोक सकते हैं।

सर गंगा राम अस्पताल, दिल्ली के कंसल्टिंग रुमेटोलॉजिस्ट, डॉ वेद चतुर्वेदी, बताते हैं:

“एंकिलोसिंग स्पॉन्डिलाइटिस सबसे कमजोर समूह यानी युवा आबादी को प्रभावित करता है। और यह ज्यादातर महिलाओं की तुलना में पुरुषों को प्रभावित करता है, जिसका वर्तमान अनुपात 3: 1 है। यदि इसका ठीक से और समय पर इलाज नहीं किया जाता है, तो यह पूरी रीढ़ को प्रभावित कर सकता है, जिससे कार्यात्मक अक्षमता हो सकती है। वर्तमान में एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस उपचार की पहचान जीवविज्ञान और जीवनशैली में संशोधन है।”

सही प्रकार के उपचार की तलाश के लिए इस स्थिति के बारे में जागरूकता आवश्यक है।

एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस के लिए डॉक्टर को देखने का सही समय कब है?

यदि किसी को पीठ के निचले हिस्से या नितंब में दर्द होता है जो धीरे-धीरे बढ़ता है और सुबह ज़्यादा होता है या आपको सोने नहीं देता, तो चिकित्सा सहायता लेना अनिवार्य है। आंखों में दर्द होना, आंखें लाल होना, लाइट सेंसटिविटी या धुंधली दृष्टि जैसे लक्षणों में तुरंत एक नेत्र विशेषज्ञ को भी देखना चाहिए।

peeth dard se pareshan hain
पीठ दर्द से परेशान हैं?. चित्र : शटरस्टॉक

डॉ चतुर्वेदी कहते हैं “जागरूकता की कमी और बीमारी का निदान एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस रोगियों का सामना करने वाली प्रमुख चुनौतियां हैं। अधिकांश रोगियों का निदान बहुत बाद में किया जाता है; उनमें से कुछ का निदान शुरू होने के 7 साल बाद भी किया जाता है।”

प्रारंभिक चरण में निदान महत्वपूर्ण है

डॉ चतुर्वेदी कहते हैं, “जबकि एंकिलोज़िंग स्पॉन्डिलाइटिस अपरिवर्तनीय बीमारी है, तब भी इसका उपचार, जीवन शैली में बदलाव के माध्यम से किया जा सकता है।”

सही करवाने के लिए डॉक्टर के साथ मिलकर काम करना महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, यह आपको बेहतर जीवन जीने में मदद कर सकता है।

यह भी पढ़ें : Winter Care Tips : सर्दियों में खांसी और जुकाम से रहना है दूर, तो अपनाएं ये कुछ घरेलु उपाय

  • 124
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory