क्या आपका पेट भी आजकल अजीब आवाजें करता है? तो जानिए इनका कारण और बचाव के उपाय

Published on: 12 January 2022, 11:00 am IST

गुड़गुड़ाता पेट आपको पब्लिक प्लेस या 4 लोगों के बीच शर्मिंदा कर सकता है। अगर आप इससे बचना चाहते हैं, तो जानिए आपका पेट क्या कहना चाहता है!

Growling stomach aapko embarrass kar sakta hai
गुड़गुड़ाता पेट शर्मिंदा कर सकता है। चित्र:शटरस्टॉक

पेट का आवाज करना एक सामान्य घटना है, जो आप में से कोई भी अनुभव कर सकता है। यह भूख, धीमे या अपूर्ण पाचन या कुछ खाद्य पदार्थों के न पचने से जुड़ा हुआ है। लेकिन यह गुर्राने और गड़गड़ाहट की आवाजें हमेशा पेट से नहीं निकलती हैं। हालांकि ये पाचन तंत्र के साथ आपके स्मॉल इंटेस्टाइन से भी आ सकती है। पर जहां से भी आएं, ये आवाजें आपको सबके सामने “ऊप्स! मेरा पेट” वाली भावना जरूर देती हैं। सब आपकी और देखें और आप नजरें चुराने पर मजबूर हो जाएं, इससे पहले जानिए इन गुड़ गुड़ की आवाजों का कारण और इन्हें रोकने का तरीका।

क्यों करता है आपका पेट गुड़ गुड़?

पेट गुड़गुड़ाने के कई कारण हैं, जिनमें से कुछ के बारे में हम आपको बता रहें हैं:

1. पाचन में मदद करने के लिए

जब भोजन छोटी आंत में पहुंचता है, तो शरीर खाद्य पदार्थों को तोड़ने और पोषक तत्वों के अवशोषण की सुविधा के लिए एंजाइम जारी करता है।

ये गतिविधियां, जिनमें गैस की गति और आंशिक रूप से पचने वाले खाद्य पदार्थ शामिल हैं, पेट की गड़गड़ाहट में योगदान करती हैं।

2. भूख का संकेत

यहां तक ​​​​कि अगर पिछले कुछ घंटों में कोई भोजन नहीं खाया गया है, तो शरीर नियमित रूप से क्रमाकुंचन की प्रक्रिया शुरू करेगा। भोजन के अंतर्ग्रहण की तैयारी के लिए पेट और आंतें भी एसिड और एंजाइम छोड़ती हैं। शोर एक बार में 20 मिनट तक बना रह सकता है और खाना खाने तक हर घंटे फिर से शुरू हो सकता है।

Yah bhookh ka sanket ho sakta hai
यह भूख का संकेत हो सकता है। चित्र:शटरस्टॉक

3. अंतर्निहित मुद्दों के लिए

कभी-कभी, पेट की आवाज को एक अंतर्निहित चिकित्सा समस्या से जोड़ा जा सकता है। खासकर अगर दर्द, कब्ज या दस्त जैसे अन्य लक्षणों से पीड़ित हो।

इस मुद्दे के कारणों में शामिल हैं:

  • फूड एलर्जी
  • फूड इनटोलरेंस
  • गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल इन्फेक्शन
  • इंटेस्टिनल ब्लॉकेज
  • इरिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS)

गुड़गुड़ाहट बंद करना है, तो इन आसान टिप्स को फॉलो करें

जहां पेट की गुड़गुड़ाहट सामान्य पाचन का एक हिस्सा है, वहीं कई बार ये आवाजें शर्मिंदगी का कारण बन सकती हैं। इसे रोकने के लिए आप इन घरेलू और आसान तरीकों को अपना सकते हैं:

1. पानी पिएं

पानी पीने से आपको मदद मिल सकती है। एक गिलास पानी पीना पेट की गुड़गुड़ाहट को रोकने का एक प्रभावी उपाय हो सकता है। खासकर अगर समय पर कुछ खाना संभव न हो। पानी पेट भरने के साथ-साथ पाचन क्रिया में भी मदद करता है।

Paani peene se aapko madad mil sakti hai
पानी पीने से आपको मदद मिल सकती है।चित्र:शटरस्टॉक

ये दोनों क्रियाएं आवाज को रोकने या उसे कम करने में मदद करती हैं। सर्वोत्तम परिणामों के लिए, पूरे दिन में धीरे-धीरे पानी पीना चाहिए। कम समय में बड़ी मात्रा में सेवन करने से पेट से गड़गड़ाहट की आवाज आ सकती है।

2. कुछ खाएं

एक बार जब पेट थोड़ी देर के लिए खाली हो जाता है, तो गुर्राने की आवाजें संकेत कर सकती हैं कि यह फिर से खाने का समय है। एक छोटा भोजन या नाश्ता खाने से अस्थायी रूप से आवाज़ें शांत हो सकती हैं।

यदि पेट में गुर्राना नियमित रूप से होता है या हर दिन एक ही समय पर होता है, तो यह संकेत हो सकता है कि अधिक नियमित भोजन की आवश्यकता है। कुछ लोग भूख और पेट की आवाज को रोकने के लिए मानक 3 बड़े भोजन के बजाय एक दिन में 4 से 6 छोटे भोजन खाने की कोशिश कर सकते हैं।

3. धीरे-धीरे चबाएं

भोजन को चबाने की शारीरिक क्रिया के माध्यम से, मुंह में पाचन शुरू होता है। पेट की आवाजें जो अपच से जुड़ी होती है, भोजन को अधिक अच्छी तरह से चबाने और अधिक धीरे-धीरे खाने से रोका जा सकता है।

NCBI का अध्ययन कहता है कि भोजन को ठीक से चबाने से निगलने वाली हवा की मात्रा भी कम हो जाती है, जिससे गैस और पाचन संबंधी परेशानी से बचाव होता है।

4. चीनी, शराब और एसिडिक खाद्य पदार्थों को सीमित करें

शराब, शर्करा युक्त खाद्य पदार्थ और एसिडिक खाद्य पदार्थ सभी पेट की आवाज को ट्रिगर कर सकते हैं। शुगर, जैसे फ्रुक्टोज और सोर्बिटोल, विशेष रूप से समस्याग्रस्त हैं। खट्टे फल और कॉफी सहित एसिडिक खाद्य पदार्थ भी पेट की गुड़-गुड़ का कारण है।

Khane ko ache se chabane ki aadat daale
खाने को अच्छे से चबाने की आदत डालें। चित्र : शटरस्टॉक

शराब पाचन तंत्र को परेशान करती है और पेट में शोर पैदा कर सकती है। यह एसिड उत्पादन को भी बढ़ाता है और पेट की परत में सूजन का कारण बनता है। शराब की उच्च खुराक गैस्ट्रिक खाली करने में देरी कर सकती है और पेट दर्द का कारण बन सकती है।

5. गैस का कारण बनने वाली चीजों को खाने-पीने से परहेज करें

कुछ खाद्य और पेय पदार्थ दूसरों की तुलना में अधिक गैस उत्पन्न करते हैं। अगर पाचन तंत्र से बड़ी मात्रा में गैस निकलने के कारण पेट फूलता है, तो इन खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों से परहेज करने से आपको समस्या का समाधान मिल सकता है।

6. भाग नियंत्रण का अभ्यास करें

बड़े भोजन, विशेष रूप से वसा, शर्करा, रेड मीट, और अन्य खाद्य पदार्थों से भरपूर भोजन खाने के बाद पेट में गुर्राना और अन्य शोर अधिक ध्यान देने योग्य हो सकते हैं जिन्हें पचाना मुश्किल हो सकता है।

भोजन के दौरान उसे अच्छी तरह से चबाने के साथ-साथ अधिक नियमित अंतराल पर छोटे हिस्से खाने से अधिक खाने का खतरा कम हो जाता है।

Bhojan ki matra niyantrit kare
भोजन की मात्रा नियंत्रित करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

7. सक्रिय रहें

भोजन के बाद टहलने जाना पेट के खाली होने की दर को तेज करके पाचन प्रक्रिया में मदद करने के लिए सिद्ध हुआ है। यह तेजी से खाली करने से पेट की गड़गड़ाहट कम हो सकती है।

भोजन के बाद टहलना अन्य तरीकों से भी पाचन को लाभ पहुंचा सकता है। शोध से संकेत मिलता है कि टाइप 2 मधुमेह (Type 2 diabetes) वाले लोगों में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने के लिए15 से 20 मिनट की पैदल दूरी तय करना जरूरी है। हालांकि, खाने के तुरंत बाद उच्च तीव्रता वाली गतिविधियों से बचना चाहिए।

यह भी पढ़ें: इम्युनिटी बढ़ाने के लिए कर रहीं हैं काढ़े का सेवन, तो ये जरूरी बातें भी जान लें

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें