पेट में तेज़ दर्द हो सकता है अल्सर का संकेत, आहार में बदलाव से किया जा सकता है इसे काबू

Published on: 3 February 2022, 22:00 pm IST

क्या आपके भी अचानक पेट में तेज़ दर्द होता है? तो यह अल्सर का संकेत हो सकता है। जानिए इस समस्या के बारे में और इससे बचाव के उपाय।

Oats pachan shakti ko badhane me madad karta hai.
ओट्स पाचन शक्ति को बढ़ाने में मदद करता हैं। चित्र: शटरस्टॉक

क्या आपके कभी पेट में अचानक तेज़ दर्द हुआ है? क्या आपको खाना खाने के बाद घबराहट महसूस होती है और उल्टी जैसे लगता है? तो लेडीज… इन लक्षणों को नज़रअंदाज़ न करें। यह सभी लक्षण अल्सर का संकेत हो सकते हैं।

आप सभी नें अल्सर के बारे में सुना होगा, लेकिन इसे नज़रअंदाज़ करना आपकी बहुत बड़ी भूल हो सकती है। इस समस्या में पेट या आंतों में घाव हो जाते हैं, जो आगे चलकर कैंसर का रूप भी ले सकते हैं, तो चलिये जानते हैं अल्सर के बारे में।

क्या है अल्सर?

अल्सर आपके पेट या छोटी आंत की परत पर घाव होते हैं। यह घाव आपके अन्नप्रणाली (esophagus) पर भी हो सकते हैं। अधिकांश अल्सर छोटी आंत में स्थित होते हैं। गले में अल्सर को एसोफैगल अल्सर कहा जाता है और पेट के अल्सर को गैस्ट्रिक अल्सर।

pet mein ulcer ke karan
आपके पेट या छोटी आंत की परत पर घाव होते हैं, तो उन्हें अल्सर कहा जाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

अब जानिए क्या हैं अल्सर के कारण

भोजन के बीच या रात के दौरान बेचैनी
खाने या पीने में बेचैनी (गैस्ट्रिक अल्सर)
पेट दर्द जो आपको रात में जगा देता है
आपके पेट में सूजन, जलन या दर्द
बेचैनी जो घंटों तक रहती है

यदि आपका अल्सर फट जाता है, तो यह रक्तस्रावी अल्सर (bleeding ulcer) बन जाता है। यह निम्नलिखित लक्षण पैदा कर सकता है:

घबराहट
उल्टी में खून
वजन घटना
आपके मल में रक्त
पीठ में दर्द

अल्सर का क्या कारण है?

अधिकांश अल्सर हेलिओकोबैक्टर पाइलोरी (H. पाइलोरी) के कारण होते हैं। यह एक जीवाणु संक्रमण है। हमारे द्वारा खाए जाने वाले खाद्य पदार्थों के एसिड, दर्द और परेशानी को और भी बदतर बना सकते हैं। एस्पिरिन या सूजन-रोधी दवाओं (इबुप्रोफेन) का लंबे समय तक इस्तेमाल भी अल्सर का एक सामान्य कारण है। इसके अलावा, मसालेदार भोजन अल्सर को बदतर बना सकते हैं।

क्या अल्सर को रोका जा सकता है?

आप एच. पाइलोरी संक्रमण के कारण होने वाले अल्सर को नहीं रोक सकते। हालांकि, आप एस्पिरिन और सूजन-रोधी दवाओं को सीमित करके अपने जोखिम को कम कर सकते हैं। असुविधा को कम करने के लिए एसिडिक (संतरे का रस) और मसालेदार खाद्य पदार्थों से बचें। कैफीन और शराब से बचें।

यदि आपको भी इन लक्षणों का सामना करना पड़ रहा तो जानिए बचाव के कुछ उपाय –

1. प्रोबायोटिक्स

प्रोबायोटिक्स बैक्टीरिया हैं जो पाचन तंत्र में बैक्टीरिया को संतुलन बनाए रखने में मदद करते हैं। साथ ही गट हेल्थ को दुरुस्त रखने में मदद करते हैं और अल्सर के इलाज में मदद कर सकते हैं। इसलिए अपने आहार में दही और दही से बनी चीज़ें शामिल करें, यह पेट को शांत करने में मदद करता है।

dahi ke fayde
दही आपके पेट के लिए फायदेमंद है। चित्र: शटरस्टॉक

2. अदरक

बहुत से लोग सोचते हैं कि अदरक का गैस्ट्रोप्रोटेक्टिव प्रभाव होता है। कुछ लोग इसका उपयोग पेट और पाचन की स्थिति, जैसे कब्ज, सूजन और गैस्ट्राइटिस के इलाज के लिए करते हैं। 2013 की एक समीक्षा से पता चलता है कि अदरक। पाइलोरी बैक्टीरिया के कारण होने वाले गैस्ट्रिक अल्सर में मदद कर सकता है। अदरक खाने से अल्सर को भी रोका जा सकता है।

3. फल

कई फलों में फ्लेवोनोइड्स नामक यौगिक होते हैं, जो पॉलीफेनोल्स होते हैं। 2011 की समीक्षा के अनुसार, पॉलीफेनोल्स पेट के अल्सर में मदद कर सकते हैं। वे ऐंठन और दस्त सहित कई अन्य पाचन समस्याओं में भी मदद कर सकते हैं। फ्लेवोनोइड्स (Flavonoids) पेट में अलसर की परत को विकसित होने से बचाते हैं। कुछ फलों में फ्लेवोनोइड्स मौजूद होते हैं जैसे:

सेब
ब्लू बैरीज़
चेरी
नींबू और संतरे

4. केला

2011 के शोध से पता चलता है कि कच्चे पौधे पेप्टिक अल्सर पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। कच्चे केले में ल्यूकोसायनिडिन नामक फ्लेवोनॉयड होता है। ल्यूकोसाइनाइडिन पेट में बलगम की मात्रा को बढ़ाता है। यह फल एसिड को भी कम कर सकता है, जो अल्सर के लक्षणों को रोकने और राहत देने में मदद कर सकता है।

यह भी पढ़ें : World Cancer Day 2022 : विशेषज्ञ से जानिए बोन कैंसर के बार में 5 महत्वपूर्ण तथ्य

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें