वैलनेस
स्टोर

खर्राटे लेने वाले बच्चों के मस्तिष्क में बढ़ जाती है ग्रे मैटर की संभावना : अध्ययन

Published on:31 May 2021, 12:00pm IST
खर्राटे लेना एक स्वास्थ्य समस्या है और अक्सर हम इसे सिर्फ वयस्कों से ही जोड़कर देखते हैं। मगर नए शोध से पता चला है कि खर्राटे लेने वाले बच्चों को कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 78 Likes
क्या आपके बच्चे में भी है खर्राटे लेने की आदत? चित्र : शटरस्टॉक
क्या आपके बच्चे में भी है खर्राटे लेने की आदत? चित्र : शटरस्टॉक

खर्राटे लेने की समस्‍या अमूमन बड़ी उम्र के लोगों में देखी जाती है। पर कई बार बच्‍चे भी इसके शिकार हो जाते हैं। ज्‍यादातर मोटापे से ग्रस्‍त बच्‍चों में यह समस्‍या देखी जाती है। पर शायद आप नहीं जानती कि खर्राटे लेना बच्‍चे के मस्तिष्‍क पर भी असर डाल सकता है। हाल ही में हुए एक शोध में यह बात सामने आई है कि खर्राटे लेने की आदत बच्‍चों के मानसिक विकास को भी प्रभावित करती है।

जो बच्चे नियमित रूप से खर्राटे लेते हैं, उनके मस्तिष्क में संरचनात्मक परिवर्तनों के लक्षण दिखाई देते हैं, जिससे व्यवहार संबंधी परेशानियां हो सकती हैं, जैसे कि ध्यान की कमी, सक्रियता और संज्ञानात्मक चुनौतियां – जो उनकी शिक्षा को नुकसान पहुंचा सकता है।

नेचर कम्युनिकेशंस नामक पत्रिका में प्रकाशित नए अध्ययन में पहली बार देखा गया कि जो बच्चे सप्ताह में तीन या अधिक बार खर्राटे लेते हैं, उनके मस्तिष्क में अन्य बच्चों की तुलना में ग्रे पदार्थ पतला हो जाता है। खराब नींद की वजह से, मस्तिष्क में ग्रे मैटर कम होने लगता है।

अब जानिये अध्ययन में क्या सामने आया:

ये ग्रे मैटर न्यूरॉन्स के रूप में हमारे मस्तिष्क में मौजूद होते हैं, जो दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, विशेष रूप से इम्पल्स कंट्रोल और तर्क कौशल के मामले में। क्योंकि खर्राटों से नींद में खलल पड़ता है और मस्तिष्क में ऑक्सीजन का प्रवाह कम हो जाता है, यह मस्तिष्क में ग्रे पदार्थ को पतला कर सकता है।

बच्चों में हो सकती है खर्राटे लेने की आदत. चित्र : शटरस्टॉक
बच्चों में हो सकती है खर्राटे लेने की आदत. चित्र : शटरस्टॉक

यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड स्कूल ऑफ मेडिसिन (University of Maryland School of Medicine) के शोधकर्ताओं ने 9 से 10 साल की उम्र के 10,000 से अधिक बच्चों की एमआरआई छवियों का प्रयोग किया। सबसे अधिक लगातार खर्राटों के साथ प्रतिभागियों ने आमतौर पर बदतर व्यवहार का प्रदर्शन किया।

जटिल हो सकती है नींद की प्रक्रिया

शोधकर्ताओं के अनुसार खर्राटे, मुंह से सांस लेने और नींद के दौरान सांस लेने में रुकावट सहित नींद संबंधी विकार 10% अमेरिकी बच्चों को प्रभावित करते हैं। उन्होंने कहा कि उन मामलों के एक “महत्वपूर्ण” भाग को ADHD होने के रूप में गलत समझा जा सकता है और उत्तेजक के साथ इलाज किया जा सकता है – इस प्रकार संभवतः नींद को और भी जटिल कर देता है।

“ये मस्तिष्क परिवर्तन वैसा ही है जैसा आप ध्यान घाटे की सक्रियता विकार वाले बच्चों में देखेंगे,” प्रमुख लेखक डॉ अमाल इसायाह ने कहा। “बच्चों को संज्ञानात्मक नियंत्रण का नुकसान होता है, जो अतिरिक्त रूप से विघटनकारी व्यवहार से जुड़ा होता है।”

जरूरी है बच्‍चों की इस आदत को गंभीरता से लेना

अध्ययन के प्रमुख लेखक, अमल यशायाह, एमडी ने जेनेटिक इंजीनियरिंग और बायोटेक्नोलॉजी न्यूज़ को बताया कि यह अध्ययन सोते समय और मस्तिष्क की असामान्यताओं के बीच बच्चे के खर्राटों के बीच के मूल्यांकन का अपनी तरह का सबसे बड़ा अध्ययन है। वह यह भी कहते हैं कि ”माता-पिता को अपने बच्चे के खर्राटों का मूल्यांकन बिल्कुल करना चाहिए अगर यह प्रति सप्ताह दो बार से अधिक होता है।”

अपने बच्चों की हर छोटी आदत पर ध्यान दें. चित्र : शटरस्टॉक
अपने बच्चों की हर छोटी आदत पर ध्यान दें. चित्र : शटरस्टॉक

अध्ययन के सह-लेखकों में से एक, डॉ. लिंडा चांग का कहना है कि समय पर मान्यता और उपचार से खर्राटों के दीर्घकालिक प्रभावों को उलटने में बहुत फर्क पड़ सकता है क्योंकि मस्तिष्क बचपन के दौरान ही सबसे अच्छी तरह से रिपेयर होता है।

हालांकि यह अध्ययन डॉक्टरों के लिए खर्राटों और मस्तिष्क में परिवर्तन के बीच संबंध को समझने की शुरुआत है, डेटा निश्चित रूप से आंख खोलने वाला है। वास्तव में, यह समझना महत्वपूर्ण होगा कि निरंतर खर्राटे बच्चों और व्यस्क के मस्तिष्क और व्यवहार को कैसे प्रभावित करते हैं।

यह भी पढ़ें : स्तनपान कराने वाली मां को कोविड -19 वैक्सीन लेनी चाहिये या नहीं, एक्‍सपर्ट दे रहीं हैं इन सभी सवालों के जवाब

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।