चेचक का टीका हो सकता है मंकीपॉक्स में प्रभावी, एक्सपर्ट से जानिए मंकीपॉक्स के बारे में सब कुछ

जुलाई के अंत तक दुनिया भर में मंकीपॉक्स के 16,800 से अधिक मामलों की पुष्टि की जा चुकी थी। अगस्त बीतते ये आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। हालांकि अभी तक इसका कोई टीका नहीं बनाया जा सका है।

monkeypox ek zoonotic disease hai , jis se bachna zaruri hai
मंकीपॉक्स एक जूनोटिक बीमारी है, जिससे बचना जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक
Dr. S.S. Moudgil Published on: 22 August 2022, 23:35 pm IST
  • 114

मंकीपॉक्स व चेचक वायरस परिवार की एक वायरल बीमारी है। हालांकि इसके लक्षण आमतौर पर गंभीर नहीं होते। वैज्ञानिकों को इसके बारे में 1958 से पता है, जब यह प्रयोगशाला में शोध के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले बंदरों में पाया गया था। मंकीपॉक्स मध्य और पश्चिम अफ्रीका में सबसे आम है। लेकिन मई 2022 में, स्वास्थ्य अधिकारियों ने अफ्रीका के बाहर कई क्षेत्रों में वायरस के प्रकोप की सूचना देना शुरू किया।

जानिए कब से फैलना शुरू हुए मंकीपॉक्स के मामले  

23 जुलाई, 2022 को, डब्ल्यूएचओ (WHO) के महानिदेशक टेड्रोस अदनोम घेबियस ने तेजी से फैलने वाले प्रकोप को “अंतर्राष्ट्रीय चिंता का एक सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल” घोषित किया। जून की शुरुआत में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को रिपोर्ट किए गए 1,000 से अधिक मामलों से जुलाई के अंत तक दुनिया भर में मंकीपॉक्स के 16,800 से अधिक मामलों की पुष्टि की थी।

क्या है मंकीपॉक्स 

मंकीपॉक्स एक जूनोटिक वायरस है, जिसका अर्थ है कि यह जानवरों से मनुष्यों में फैलता है। बंदरों के अलावा, यह अफ्रीका में अन्य प्राइमेट में पाया गया है।

मनुष्य भी इसे एक-दूसरे तक भी पहुंचा सकते हैं। पहला ज्ञात मानव संक्रमण 1970 में कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में हुआ था।

जानिए ये कैसे फैलता है 

यह निकट संपर्क से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है। कोई व्यक्ति जो इससे संक्रमित है, वह इसे दूसरों तक पहुंचा सकता है:

  1. शरीर के तरल पदार्थ जैसे रक्त या वीर्य के संपर्क में आना
  2. मरीज की त्वचा पर (नाक और मुंह के अंदर सहित) मंकीपॉक्स के घावों के संपर्क में आना सांस की बूंदों के माध्यम से।
  3. उन संक्रमित वस्तुओं से जो शरीर के तरल पदार्थ के सम्पर्क में आती हैं, जैसे बिस्तर या कपड़े।
  4. मंकीपॉक्स जानवरों से इंसानों में भी फैल सकता है। वायरस संक्रमित जानवर से मनुष्य तक पहुंच सकते हैं, यदि वे काटते या खरोंचते हैं। सीडीसी के अनुसार कोई स्तनपायी मंकीपॉक्स से संक्रमित हो सकता है।
MONKEYPOX
लोगो के संपर्क में आने से बचें। चित्र शटरस्टॉक।

संक्रमित लोग अपने पालतू जानवरों में मंकीपॉक्स फैला सकते हैं जैसे:

  1. थपथपाने सहलाने से, लिपटना, गले लगना, चुंबन, चाटना, सोने के बिस्तर को साझा करने, भोजन साझा करना।
  2. यदि आपको मंकीपॉक्स है, तो वन्यजीवों और पालतू जानवरों से दूर रहें। ताकि उनमें यह फैलने से बचा जा सके।
  3. कच्चा दूषित मांस खाने से भी आपको मंकीपॉक्स हो सकता है।
  4. वायरस आपके शरीर में त्वचा के टूटने (जिसके बारे में आपको पता भी नहीं होगा) या आपके मुंह, नाक या आंखों के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश कर सकता है।
  5. काफी लंबे समय तक निकट संपर्क से छोटी बूंद के संक्रमण से। ऐसा इसलिए है क्योंकि अधिकांश बूंदें बहुत दूर तक नहीं जाती हैं।

सामान्य लक्षणों के अलावा, नए मंकीपॉक्स के लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

दर्दनाक फुंसियां फफोले जो जांघ क्षेत्र, जननांगों या गुदा के आसपास शुरू हो सकते हैं
फफोले, मवाद से भरे फुंसियां या खुले घावों की तरह दिखने वाले फफोले
अलग-अलग आकार के फफोले या जख्म , भले ही वे एक ही क्षेत्र के आसपास हों
कुछ लोगों को फफोलों से पहले बुखार या फ्लू जैसे लक्षण नहीं हो सकते। कुछ लोगों को बिल्कुल भी बुखार नहीं होता है।
कुछ मामलों में, अन्य लक्षण देखे जा सकते हैं जैसे कि गुदा के आसपास दर्द, मल त्याग के बाद भी शौच करने की आवश्यकता (टेनेसमस) महसूस करना, बड़ी आंत (मलाशय) के निचले हिस्से में रक्तस्राव और गुदा और मलाशय की दर्दनाक सूजन।
अस्तर (प्रोक्टाइटिस)। जिनका कारण फफोलों का भीतरी स्थानों में होना हो सकता है

कुछ अन्य लक्ष्ण

  1. बुखार
  2. थकान
  3. सिरदर्द
  4. मांसपेशियों में दर्द
  5. ठंड लगना
  6. पीठ दर्द
  7. गला खराब होना
  8. सूखी खांसी
  9. सूजी हुई लसीका ग्रंथियां
  10. सांस लेने में तकलीफ (गंभीर मामलों में)।
monkeypox
इन मिथ्स को जल्द से जल्द दूर करना है जरूरी। चित्र शटरस्टॉक।

समझिए मंकीपॉक्स कितना गंभीर है?

बीमारी आमतौर पर 2 से 4 सप्ताह में अपना कोर्स चलाती है। यह काफी गंभीर हो सकता है, खासकर उन बच्चों में जो बहुत अधिक वायरस के संपर्क में थे या अन्य स्वास्थ्य स्थितियों या कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोगों में।
एन्सेफलाइटिस
पूति
ब्रोन्कोपमोनिया
संभावित दृष्टि हानि के साथ कॉर्निया का संक्रमण

इसका निदान कैसे किया जा सकता है 

हिस्ट्री व जांच

डॉक्टर घावों को देखेगा और लक्षणों के बारे में विस्तार से पूछेगा, जैसे कि कब वायरस के संपर्क में आए थे। वे समान रोगों से इन्हें अलग समझने की कोशिश करेगे , मंकीपॉक्स से मिलते-जुलते संक्रमित रोग ये हो सकते हैं .

  1. खसरा
  2. छोटी माता
  3. उपदंश
  4. एलर्जी
  5. खुजली
  6. जीवाणु त्वचा संक्रमण- बैक्टीरियल फफोले फुन्सियां आदि। लैब टेस्ट बता सकता है कि मंकीपॉक्स है या नहीं।

क्या इसका कोई उपचार संभव है? 

मंकीपॉक्स का कोई विशिष्ट उपचार नहीं है। केवल symptom की दवा दी जाती है। एक प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए, डॉक्टर एंटीवायरल और वैक्सीनिया गामा ग्लोब्युलिन (हाल ही में चेचक के खिलाफ टीका लगाए गए लोगों के खून से बने) के साथ-साथ चेचक के टीके लगा सकते हैं। यदि चेचक का टीका लगाया है (पिछले 3-5 वर्षों में), तो आपको मंकीपॉक्स से कुछ सुरक्षा मिल सकती है। अध्ययनों से पता चलता है कि चेचक का टीका मंकीपॉक्स को रोकने में 85% प्रभावी है।

गर्भावस्था में जटिलता बढ़ा सकता है मंकीपाॅक्स 

इससे जटिलताओं की संभावना बढ़ सकती है, जैसे: गर्भपात या मृत जन्म।

क्या आपको मास्क पहनना चाहिए?

सीडीसी के अनुसार, सर्जिकल मास्क पहनना चाहिए, खासकर अगर आपको खांसी, सांस लेने में तकलीफ या गले में खराश जैसी सांस की समस्या है। इससे संक्रमण के खतरे को कम किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें – संक्रमित व्यक्ति के जननांगों को छूने से भी फैल सकता है मंकीपॉक्स, डरने से बेहतर है इससे बचाव करना

  • 114
लेखक के बारे में
Dr. S.S. Moudgil Dr. S.S. Moudgil

Dr. S.S. Moudgil is senior physician M.B;B.S. FCGP. DTD. Former president Indian Medical Association Haryana State.

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें