फॉलो

दर्द मिटाने के फायदे से लेकर स्‍वास्‍थ्‍य जोखिम तक, यहां है CBD ऑयल से जुड़ी सारी जानकारी

Published on:24 September 2020, 14:30pm IST
आजकल सीबीडी ऑयल सुर्खियों में है, पर यह भी सच्‍चाई है कि इसका इस्‍तेमाल कुछ दवाओं में भी होता है। हमने पता लगाया कि आखिर CBD ऑयल के फायदे और जोखिम क्‍या हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 91 Likes
सीबीडी के कुछ रिस्‍क भी हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

अगर आप न्यूज देखती हैं तो पिछले कुछ दिनों से कैनाबिस यानी गांजे को लेकर न्यूज चैनलों पर बहस छिड़ी हुई है। ऐसे में गांजे के पेड़ से ही बना CBD ऑयल आपके लिए कितना सुरक्षित है, यह सवाल आपके मन में आना स्वाभाविक है।

कैनाबिस यानी गांजे का पौधा कई प्रकार से प्रयोग होता आया है। कैनाबिस के पौधे से मिलने वाले उत्पादों को कैनाबिनोइड कहते हैं। ऐसा ही एक कैनाबिनोइड है CBD तेल, जिसे दुनिया भर में इसकी चिकित्सीय खूबियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

जहां एक ओर THC, जो कि खुद एक कैनाबिनोइड है, एक जाना माना साइको एक्टिव कम्पाउंड है जो मनुष्य के दिमाग को हाई करने में सक्षम है। इसका धूम्रपान करने या पका के खाने से व्यक्ति की मनोस्थिति पूरी तरह बदल जाती है। वहीं दूसरी ओर CBD तेल का ऐसा कोई प्रभाव नहीं होता है। हालांकि CBD तेल शरीर में कई महत्वपूर्ण बदलाव करता है। यह बदलाव सुरक्षित होते हैं और इलाज की दृष्टि से ही होते हैं।

गांजे की खेती करने वाले लोग इसे THC के लिए ही उगाते हैं। मगर भांग की खेती मूलतः CBD तेल के लिए ही होती है।

सीबीडी ऑयल आजकल सुर्खियों में है। चित्र: शटरस्‍टॉक
सीबीडी ऑयल आजकल सुर्खियों में है। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्या हैं CBD तेल के फायदे?

‘कैनाबिनोइड यूजर्स की क्रोस सेक्शनल स्टडी’ नामक 2018 के अध्ययन में यह पाया गया कि यह तेल अर्थराइटिस के कारण होने वाले जोड़ों के दर्द में राहत देता है। यही नहीं, यह एंग्जायटी, डिप्रेशन, तनाव, माइग्रेन, नींद सम्बंधी समस्या, सामान्य सर दर्द, पोस्ट ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसॉर्डर, नोजिया, अस्थमा, एलर्जी और मिर्गी के दौरों का इलाज करने के लिए इस्तेमाल होते हैं।

इतना ही नहीं, दौरे पड़ने की समस्या, पार्किंसन डिजीज, अल्जाइमर और यहां तक कि कैंसर के लिए भी CBD ऑयल बहुत फायदेमंद होता है।

1. दर्द से राहत और एन्टी इन्फ्लामेट्री गुणों के लिए इस्तेमाल होता है

CBD तेल एक बेहतरीन प्राकृतिक पेन-किलर है। गांजे के पौधे के वह कम्पाउंड जो साइको एक्टिव नहीं होते, जैसे CBD तेल, किसी भी गंभीर दर्द के लिए बहुत कारगर इलाज होता है। यह शरीर में इंफ्लामेशन खत्म करने में सहायक होता है। त्वचा पर इस्तेमाल करने पर यह इंफ्लामेशन और दाग धब्बे खत्म कर सकता है।

2. धूम्रपान छोड़ने में मदद करता है सीबीडी ऑयल 

कई स्टडी में यह पाया गया है कि जो स्मोकर्स CBD तेल के इनहेलर प्रयोग करते हैं, वे कम सिगरेट पीते हैं और निकोटिन की लत छोड़ देते हैं। माना जाता है कि cbd ऑयल मन को शांत और रिलैक्स करता है जिसके कारण सिगरेट की लत छोड़ने में यह सहायक है।

कुछ लोग स्‍मोकिंग की लत छोड़ने के लिए सीबीडी ऑयल का इस्‍तेमूाल करते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
कुछ लोग स्‍मोकिंग की लत छोड़ने के लिए सीबीडी ऑयल का इस्‍तेमूाल करते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

यही नहीं, अगर ओपीओइड की लत है, तो भी CBD तेल बहुत फायदेमंद होता है। यह सब्सटेंस एब्यूज या एडिक्शन के लक्षणों को कम करता है और एंग्जायटी, दर्द और अनिद्रा की समस्या से राहत दिलाता है।

3. मिर्गी के दौरे का इलाज है

FDA द्वारा प्रमाणित दवा एपीडिओलेक्स, जिसे मिर्गी के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जाता है, CBD तेल से ही बनती है। मिर्गी के साथ-साथ यह लेनॉक्स-गस्टऑट सिंड्रोम और ड्रावेट सिंड्रोम के इलाज में भी इस्तेमाल होता है। बिना साइड इफेक्ट वाली यह प्राकृतिक दवा किसी भी अन्य सिंथेटिक दवा से कई गुना बेहतर मानी जाती है।

4. एंग्जायटी के इलाज के लिए इस्तेमाल होता है

गांजा यानी THC एंग्जायटी और बेचैनी की स्थिति को और बदतर बना सकता है इसलिए डॉक्टर एंग्जायटी के मरीजों को गांजे से दूर रहने की सलाह देते हैं। लेकिन CBD तेल एंग्जायटी को कम करता है। यही नहीं यह PTSD यानी पोस्ट ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसॉर्डर, पैनिक डिसॉर्डर, सोशल एंग्जायटी और ऑब्सेसिव कम्पलसिव डिसॉर्डर में भी बहुत फायदा करता है।

सीबीडी ऑयल के इस्‍तेमाल के कुछ दुष्‍प्रभाव भी हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
सीबीडी ऑयल के इस्‍तेमाल के कुछ दुष्‍प्रभाव भी हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

5. टाइप 1 डायबिटीज का जोखिम कम करता है

इम्यून सिस्टम के सेल्स जब पैंक्रियास को अटैक कर देते हैं और इसके कारण इंफ्लामेशन होता है जिससे टाइप 1 डायबिटीज होती है। CBD तेल में एन्टी इंफ्लामेशन गुण होते हैं जो टाइप 1 डायबिटीज के जोखिम को कम करता है।

हालांकि CBD ऑयल के कुछ रिस्क भी हैं…

अगर आप कोई अन्य दवा या सप्‍लीमेंट लेते हैं तो CBD ऑयल उससे रियेक्ट कर सकता है। और यह जानना संभव नहीं है कि यह किस दवा से किस तरह रियेक्ट करेगा।

CBD ऑयल मूड स्विंग्स को और बद्तर करता है। यही नहीं, यह लिवर सम्बंधी समस्या को गम्भीर बना सकता है, भूख कम करता है और पेट की समस्या भी हो सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान इसका इस्तेमाल खतरनाक हो सकता है।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।