फॉलो

गुड न्‍यूज है! अगर पहली बार मां बनने वाली हैं तो जान लें ये 5 जरूरी बातें

Published on:28 August 2020, 20:30pm IST
बेबी प्लान कर रहीं है तो अपने जीवन में चेंजेस के लिए तैयार होना जरूरी है। अपनी और बेबी की सेहत के लिए उठाएं यह 5 कदम।
विदुषी शुक्‍ला
  • 75 Likes
मां बनना आसान नहीं है, लेकिन इन छोटे छोटे बदलाव से आप गर्भावस्था में अपना ख्याल रख सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

मां बनने के बाद जीवन में कई बदलाव आते हैं, और आपको खुद को उस अनुसार ढालना होता है। जहां एक ओर मातृत्व सुख का आनंद उठाने को मिलेगा वहीं दूसरी ओर आपके जीवन में बहुत से बदलाव भी आएंगे। मां बनने के बाद आपकी जीवनशैली पूरी तरह बदल जाती है।
हालांकि हेल्दी लाइफस्टाइल अपनाने का कोई वक्त नहीं होता, जितना जल्दी हो उतना अच्छा। मगर जब बात आती है प्रेगनेंसी की, तो आपका फिट होना आपके लिए ही नहीं बच्चे के लिए भी बेहतर है।

प्रेगनेंसी अपने साथ बहुत सारे बदलाव लेकर आती है, इसमें शारीरिक और मानसिक दोनों शामिल हैं। चित्र : शटरस्टॉक

इन आदतों को जीवन में शामिल कर लें, यह आपके और शिशु दोनों के लिए फायदेमंद है।

1. व्यायाम करना बहुत जरूरी है

गर्भावस्था में आपका फिट होना बहुत जरूरी है। फिटनेस के साथ-साथ वेट कंट्रोल में होना जरूरी है, आपका ओवरवेट या अंडरवेट होना बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है। अगर आपका वेट परफेक्ट नहीं है, तो वर्कऑउट में बदलाव लाएं। ज़रूरत के हिसाब से वेट बढ़ाएं या कम करें।

प्रेगनेंसी के लिए खास व्यायाम होते हैं, खास कर आपके दूसरे और तीसरे ट्राइमेस्टर में। अपनी डॉक्टर से सलाह लें और उस अनुसार अपने रूटीन में व्यायाम शामिल करें। एक्सरसाइज सिर्फ़ फिजिकली ही नहीं मेंटली भी आपको स्वस्थ रखती है। योग प्रेगनेंसी में बहुत फायदेमंद होता है।

2. स्मोकिंग और ड्रिंकिंग छोड़ दें

प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले ही स्मोकिंग छोड़ दें, क्योंकि सिगरेट आपके लिए बहुत खतरनाक है। चित्र: शटरस्टॉक।

यह तो आप जानती होंगी कि प्रेगनेंसी में ड्रिंकिंग और स्मोकिंग बहुत खतरनाक है। अगर आपको सिगरेट की लत है तो प्रेगनेंसी से कम से कम तीन महीने पहले ही आपको स्मोकिंग छोड़ देनी चाहिए। कोई भी बुरी आदत आपके बच्चे पर बुरा प्रभाव डाल सकती है।

3. पूरी नींद लें

नैशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार 8 घण्टे की नींद गर्भवती महिलाओं के लिए अनिवार्य होती है। नींद लेना सिर्फ मां और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए ही नहीं, सुरक्षित प्रसव के लिए भी जरूरी है। प्रेगनेंसी के पहले तीन महीनों में ब्लड प्रेशर काफी कम होता है, जिससे आपको ज्यादा थकान महसूस होगी। ऐसे में आपका आराम लेना महत्वपूर्ण है, खासकर अगर आपका फर्स्ट टाइम है। देर रात तक फोन चलाने के लिए डॉक्टर सख्त मना करते हैं। समय पर सोएं, समय पर उठे और शरीर को थकाएं नहीं।

4. अपनी डाइट का भी रखें खास ख्याल

सबसे पहले अपनी डॉक्‍टर और टेस्‍ट की मदद से यह जानें कि आपकी बॉडी को किन न्यूट्रिएंट्स की ज़रूरत है। जब तक बच्चा आपके गर्भ में है जो आप खा रही हैं वही बच्चा भी खा रहा है।

गर्भावस्था में संतुलित आहार लें, क्योंकिं जो आप खा रही हैं वही बच्चा भी खा रहा है। चित्र: शटरस्टॉक।

यह समझें कि आपकी बॉडी में किसी पोषक तत्व की कमी तो नहीं है, अगर है तो सप्लीमेंट्स लें। आयरन, फॉलिक एसिड और प्रोटीन बच्चे के लिये बहुत जरूरी है। अपनी डाइट हेल्दी रखें, संतुलित आहार लें और जरूरी सप्लीमेंट्स भी लें।

5. अपनी कैफीन पर लगायें लगाम

कैफीन आपके कंसीव करने में बाधा बन सकती है। WHO की स्टडी के अनुसार ज्यादा कैफीन बच्चे की ग्रोथ में समस्या कर सकती है, बच्चे को अनहेल्दी या अंडरवेट बना सकती है, यहां तक कि स्टिलबर्थ का कारण बन सकती है। कैफीन शरीर में कॉर्टिसोल का स्तर बढ़ा देती है, कॉर्टिसोल स्ट्रेस हॉर्मोन होता है। स्ट्रेस आपका और आपके बेबी का सबसे बड़ा दुश्मन है।

अपनी गायनोकॉलोजिस्ट से नियमित रूप से मिलें

अपनी गायनोकॉलोजिस्ट से मिलना हर कपल के लिए जरूरी होता है। जी हां, यह आपके पति के लिये भी उतना ही जरूरी है जितना आपके लिये। डॉक्टर से मिलकर अपनी फैमिली हिस्ट्री, मेडिकल हिस्ट्री और जेनेटिक्स पर बात करें। थायराइड की जरूर जांच कराएं।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विदुषी शुक्‍ला विदुषी शुक्‍ला

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते।