फॉलो

क्या आप बर्थ कंट्रोल पिल्‍स के बिना पीसीओडी को कंट्रोल कर सकती हैं? हां, ये वेलनेस कोच मानती हैंं कि ये संभव है

Updated on: 8 June 2020, 20:48pm IST
लेडीज, अगर आप पीसीओडी से ग्रस्‍त हैं और आपको इसे कंट्रोल करने के लिए बर्थ कंट्रोल पिल्‍स लेने की सिफारिश की गई है तो आपको इस आर्टिकल को ध्‍यान से पढ़ना चाहिए।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 89 Likes

पितृसत्ता और स्त्रियों के प्रति भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाने के अलावा अगर किसी मुद्दे पर  21 वीं सदी की महिलाओं इन दिनों ज्‍यादा मुखर हो रहीं हैं, तो वह है पॉलीसिस्टिक ओवेरियन  सिंड्रोम/रोग (PCOS/PCOD)।

पीसीओएस सोसायटी ऑफ इंडिया द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, हमारे देश की पांच में एक महिला इससे ग्रस्त है। हालांकि, सबसे ज्‍यादा दुर्भाग्‍यपूर्ण यह है कि इनमें से अधिकांश अपनी स्थिति से अनजान हैं। वास्तव में, उन्‍हें इस बात का पता तभी चलता है जब वे गर्भ धारण करने में सक्षम नहीं हो पातीं और डॉक्टर से परामर्श करती हैं।

अब जब हम जानते हैं कि पीसीओडी पर बात करना कितना जरूरी है, तो इसके समाधान पर आने से पहले हमें यह जान लेना जरूरी है कि वास्‍तव में यह है क्‍या।

पीसीओडी क्या है?

“ पीसीओडी किशोरियों (15 से 45 वर्ष) और महिलाओं में हार्मोनल असंतुलन का परिणाम है। दिल्ली बेस्‍ड पोषण विशेषज्ञ और वेलनेस कोच रशीम मल्होत्रा कहते हैं, यह स्थिति सीधे एक महिला के मुख्य प्रजनन अंग को प्रभावित करती है- जिसमें ओवरी में अल्सर का विकास होने लगता है।”

वह आगे बताती हैं कि एक महिला जो पीसीओडी से पीड़ित नहीं है, आम तौर पर ओव्यूलेशन की प्रक्रिया में हर महीने शुक्राणु द्वारा निषेचन के लिए अंडे (अंडाशय से) जारी करती है। हालांकि, पीसीओडी से पीड़ित महिला के मामले में, तरल पदार्थ से भरे बैग्‍स (Sacks) होते हैं जिनमें अपरिपक्व अंडे होते हैं जो आमतौर पर अंडाशय रिलीज नहीं कर पाता।

अब, ये छोटे बैग्‍स समय के साथ अंडाशय के अंदर अल्सर में बदल जाते हैं, जो पीसीओडी रोगी में अंडाशय की प्रक्रिया में बाधा डालते हैं। प्रतिक्रिया स्‍वरूप फीमेल सेक्स हार्मोन-एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का स्तर डिस्‍टर्ब हो जाता है। जबकि पुरुष सेक्स हार्मोन-एंड्रोजन-बढ़ने लगते हैं।

वह चेतावनी देते हैं, “इससे चेहरे पर अत्यधिक बाल, मूडस्विंग, आवाज में भारीपन, गंजापन, अवसाद, अनियमित माहवारी, और यहां तक कि बांझपन का भी खतरा हो जाता है। अगर इसका ठीक से उपचार न किया जाए तो पीसीओडी महिलाओं में अन्‍य स्वास्थ्य जटिलताओं को जन्म दे सकता है, जैसे इंसुलिन प्रतिरोध, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल की समस्याएं, हृदय स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं और मोटापा।” 

तो, पीसीओडी का इलाज कैसे किया जा सकता है?

अधिकतर, पीसीओडी के उपचार के रूप में स्त्री रोग विशेषज्ञाेें द्वारा शरीर में होने वालेे हार्मोनल असंतुलन को संतुलित करने के लिए हार्मोनल ओरल कॉन्‍ट्रासेप्टिव पिल्‍स (ओसीपी) दी जाती हैं। 

PCOD
पीसीओडी के लिए उपचार के रूप में अभी तक बर्थ कंट्रोल पिल्‍स ही दी जाती हैं। चित्र : शटरस्टॉक

मल्होत्रा कहती हैं, “ओसीपी को पीसीओडी के लिए उपचार के पहले विकल्‍प के रूप में उपयोग किया जाता है क्योंकि वे शरीर को सिंथेटिक हार्मोन (एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन) प्रदान करते हैं। ताकि मासिक धर्म चक्र को विनियमित किया जा सके। वे डिम्बग्रंथि (Ovary) के अल्सर को समय के साथ कैंसरजन्य ट्यूमर में बदलने से भी रोक सकते हैं।” हालांकि इनके कुछ दुष्प्रभावों के बारे में भी वे बताती हैं।

“ ओसीपी कुछ महिलाओं में मूडस्विंग अवसाद, इंटर मेंस्‍ट्रुअल स्‍पॉटिंग, योनि स्राव (Vaginal discharge), वजन बढ़ना, थकान, स्तनाेें में तनाव, माइग्रेन, और मतली भी हो सकती है।”

इसके अलावा, ओसीपी  केवल पीसीओडी के लक्षणों पर फोकस करती हैं, न कि वास्तविक समस्या पर। कई मामलों में यह भी देखा गया कि पिल्‍स लेना बंद करने के बाद महिलाओं में वह समस्‍या वापस और तीव्रता से लौट आई। 

लेकिन, मल्होत्रा बताती  हैं कि भले ही पीसीओडी आनुवंशिक हो, पर इसका मुख्‍य कारण खराब जीवनशैली है। इसलिए, बेहतर लाइफस्‍टाइल इसके मुख्‍य कारणों का उपचार करता है। जरूरी है कि अपने शरीर की बाकी एक्टिविटीज का भी ख्‍याल रखें।

  1. अपने शरीर की नेचुरल क्‍लाॅॅक को महसूस करें

मल्होत्रा ​​कहती हैं, “इन दिनों, लोग देर से सोते हैं, देर से उठते हैं, रात को देर से खाते हैं, समय की कमी के कारण कभी-कभी खाना स्किप कर देते हैं।  और पर्याप्त नींद नहीं लेते। उनके जीवन में इन आवश्यक गतिविधियों के लिए कोई निश्चित समय निर्धारित नहीं है। यह सर्कैडियन लय (आपके शरीर का प्राकृतिक नींद-जागरण चक्र जो सूर्य के उगने और अस्त होने के अनुसार काम करता है) को डिस्‍टर्ब परेशान करता है। ”

“जब आप अपने शरीर की प्राकृतिक घड़ी को बंद कर देते हैं, तो यह शॉक पॉजीशन में आ जाता है। इसके परिणामस्वरूप, आप में हार्मोनल असंतुलन होने लगता है।” वह इस गड़बड़ी को ठीक करने और पहले चरण के रूप में अनुशासित जीवनशैली में वापस लौटने के लिए कहती हैं। ताकि हार्मोनल संतुलन बहाल हो सके।

  1. अपने स्क्रीन टाइम को सीमित करें

लैपटॉप, फोन और टीवी जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की स्क्रीन से निकलने वाले विकिरण आपके शरीर के सर्कैडियन लय को भी प्रभावित कर सकते हैं।

PCOD:  क्या आप जानती हैं कि स्क्रीन पर बिताया गया समय वास्तव में PCOD का कारण बन सकता है? चित्र : शटरस्टॉक

मल्होत्रा ​​सुझाव देती हैं कि सोने से पहले इन उपकरणों को बंद रखने के साथ-साथ सुबह उठने के तुरंत बाद गैजेट्स को देखना अवॉइड करें।

  1. ध्‍यान से खाएं

“आजकल जो भोजन मिलता है, वह वैसे भी मिलावटी होता है। इसके अलावा, ज्यादातर लोग अपने व्यस्त कार्यक्रम के कारण चलते-फिरते कुछ भी खा लेते हैं। उन्हें एहसास नहीं है कि वे अपने पाचन तंत्र को प्रोसेस्‍ड शुगर और तेलों से खराब कर रहे हैं। यह बेहद हानिकारक साबित हो सकता हैं। पाचन तंत्र पर लगातार पड़ने वाला यह भार अंततः शरीर को एक शॉकिंग पॉजीशन में ले जाता है। जिससे हार्मोनल असंतुलन के साथ-साथ और भी कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। “

प्राकृतिक फूड ऑप्‍शन वास्‍तव में शरीर को स्‍वस्‍थ रखने में मददगार को सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

वह परिष्कृत शुगर, तेल, पैकेज्ड और प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों से दूर रहने का निरंतर प्रयास करते हुए स्वच्छ, घर का बना भोजन खाने पर ध्यान केंद्रित करने का सुझाव देती है। वह इस समस्या को ठीक करने के लिए अपने आहार में बहुत सारे ताजे फल, सब्जियां और नट्स शामिल करने का सुझाव देती है।

इसके अतिरिक्त, वह ​लोगों से अपील करती हैं कि वे पशु प्रोटीन के सेवन से बचें या कम करें (यदि यह आपको पसंद नहीं है) और जंक फूड का सेवन करने से आपके शरीर में सूजन हो सकती है। जो हार्मोनल असंतुलन में योगदान कर सकती है।

4 हेल्‍दी गट की दिशा में कोशिश करें

मल्होत्रा ​​के अनुसार, एक अस्वास्थ्यकर आंत बहुत सारी बीमारियों और स्वास्थ्य के मुद्दों का प्रमुख कारण है। क्योंकि हमारे शरीर की सभी प्रक्रियाएं परस्पर जुड़ी हुई हैं।

आपकी आंत को ठीक करने के लिए, वह आपके आहार में बहुत सारे फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ (जैसे साबुत अनाज, ताजे फल और सब्जियां, दालें, आदि) शामिल करने का सुझाव देती हैं। उन खाद्य पदार्थों से परहेज करें जो आपके ब्‍लड शुगर के स्तर में वृद्धि का कारण बन सकते हैं। जैसे परिष्कृत कार्बोहाइड्रेट और शुगर वाले खाद्य पदार्थ।

5. तनाव को मैनेज करें

“जब आप हमेशा तनाव में रहती हैं, तो आपका शरीर ‘फ्लाइट-एंड-फाइट’ मोड में खुद को डाल देता है और परिणामस्वरूप, पिट्यूटरी ग्रंथि (जो शरीर में सभी प्रमुख अंतःस्रावी गतिविधियों का प्रबंधन करता है) तनाव से मुकाबला करने में शामिल हो जाता है। इसका मतलब है कि यह आपके शरीर की अन्य महत्वपूर्ण चयापचय गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम नहीं कर पाएगा।

व्यायाम, ध्यान, किसी हॉबी को फॉलो करना, इस समस्‍या में आराम दिला सकता है। असल में इस समस्‍या में आपके लिए सबसे ज्‍यादा जरूरी अपने तनाव को बेहतर तरीके से मैनेज करना है। 

6. अच्छी नींद लें 

मल्होत्रा हर रात पर्याप्त, अच्छी गुणवत्ता वाली नींद के महत्व पर जोर देती है और 7-8 घंटे-नींद  की सिफारिश करती है। ऐसा करने से आपकी कोशिकाओं को फिर से जीवंत होने में मदद मिल सकती है। साथ ही यह आपके शरीर को सही समय पर सही मात्रा में सही हार्मोन का उत्पादन करने में मददगार होगा।

7 पूरे दिन एक्टिव रहें 

यदि आप आसन्न जीवनशैली में  है,  जिसमें कोई शारीरिक गतिविधि नहीं है, हर समय फोन पर रहना, और ज्यादा खाना, तो शायद आपके पास पहले से ही इस बीमारी के कारण मौजूद हैं।

PCOD
पीसीओडी को अलविदा कहने के लिए जरूरी है कि आप नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत डालें। चित्र : शटरस्टॉक

वह दिन भर एक्टिव रहने की सिफारिश करती है। अपने वजन को कंट्रोल करने के लिए आपको  कम से कम हर रोज एक घंटे  और सप्ताह में कम से कम 4-5 बार वर्कआउट करना है।

इसलिए, लेडीज, आपको पीसीओडी से लड़ने के लिए हार्मोनल बर्थ कंट्रोल पिल्‍स लेने के बारे में आपको एक बार दोबारा सोच लेना चाहिए, क्‍योंकि कुछ बदलाव करके आप निश्चित रूप से इस समस्‍या से बची रह सकती हैं।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

संबंधि‍त सामग्री