फॉलो

क्या कुछ आहार भी होते हैं गर्भपात के लिए जिम्‍मेदार? न्‍यूट्रिशनिस्‍ट का जवाब है, ‘बिल्कुल नहीं’

Published on:25 June 2020, 16:50pm IST
आपको उन सभी मिथ्‍स की सच्‍चाई जाननी चाहिए जो प्रेगनेंसी में कुछ खास तरह के आहार को आपके लिए वर्जित बताते हैं। क्‍योंकि संतुलित मात्रा में लिया गया आहार कभी भी नुकसान नहीं पहुंचाता।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 89 Likes

जैसे ही आप गर्भवती होती हैं, क्‍या करना है और क्‍या नहीं की हिदायतें आपको मिलनी शुरू हो जाती हैं। हर एक की नजर आप पर होती है – चाहे वह आपके खाने का तरीका हो, आहार हो, व्‍यायाम हो या फि‍र नींद। हालांकि, इस सबका सबसे ज्‍यादा असर आपके खाने की आदतों पर पड़ने लगता है। पर इस बात का ध्यान रखें, कि इस समय पोषण के मामले में सबकी अपनी अलग-अलग जरूरतेें और सिद्धांत हैं।

आपने अकसर सुना होगा कि “दूध पीने से बच्चा गोरा पैदा होता है” या “ आप कॉफी या चाय पिएंगी तो होने वाले बच्चे का रंग गहरा होगा।”, और सबसे ज्‍यादा यह कि “ इसे मत खाओ वरना गर्भपात होने का चांस बढ़ जाएगा।” तो आइए हम इसी पर बात करते हैं। यह पूरी तरह एक भ्रम है, क्योंकि भोजन कभी भी गर्भपात का कारण नहीं हो सकता।

लवनीत बत्‍तरा, जो एक क्लिनिकल न्‍यूट्रीशनिस्‍ट हैं, कहती हैं, कई तरह के मिथकों में लोगों का काफी दृढ़ विश्वास है। खासतौर से जब प्रेगनेंसी में पोषण की बात आती है। मैंने इस दौरान  महिलाओं को बहुत सारे जंक फूड खाते देखा है, क्‍योंकि वे इसके लिए तरस रही होती हैं। उस समय उनके पास यह समझ नहीं होती कि यह उनके गर्भस्‍थ शिशु पर कैसा असर डालेगा।”

pregnancy foods
प्रेगनेंसी के दौरान आपको स्‍वस्‍थ आहार लेना चाहि‍ए। चित्र : शटरस्टॉक

अब उस सबसे बड़े मिथक को तोड़ें जो कहता है कि आहार से गर्भपात हो सकता है! 

बत्‍तरा बताती हैं, “संयम से खाया गया भोजन कभी भी किसी को नुकसान नहीं पहुंचा सकता।” “हमें यह समझने की जरूरत है कि इससे गर्भपात नहीं होता है, लेकिन यह बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। और हां जब भोजन से बचने की बात आती है तो उस मछली को खाने सेे परहेज करना चाहिए जिसमें मर्करी का लेवल हाई है। इसके अलावा कच्‍चा मांस, कच्चे अंडे, कच्चे अंकुरित और अनपेस्टराइज्ड डेयरी प्रोडक्‍ट जैसे खाद्य पदार्थों से बचना चाहिए।”

वह कहती है, “कम मात्रा में चाय पीना ठीक है और यदि आप कॉफी प्रेमी हैं तो रोजाना दो कप पीने की बजाए आप इसे सप्‍ताह में तीन कप तक सीमित कर सकती हैं। ”

पपीता और अनानास जैसे फलाेें को गर्भपात के लिए दोषी क्‍यों ठहराया जाता है?

“मैं नहीं जानता कि इन दो मासूम से फलों पर इतना दोषारोपण क्यों किया जा रहा है। जबकि इसमें इनका कोई दोष नहीं है।” वह बताती है कि कच्चा पपीता और डिब्बाबंद अनानास खाना आपके लिए वैसे भी सेफ नहीं है, भले ही आप गर्भवती न हों।

papaya
आप टेंशन फ्री होकर पपीता खाएं। चित्र : शटरस्टॉक

“पके पपीतेे के कुछ स्‍लाइस खाने से आपको कभी नुकसान नहीं हो सकता। वास्तव में, यह बेहतर आंत और बाउल मूवमेंट का कारण बन सकता है। लेकिन डिब्बाबंद भोजन से दूर रहना आपके लिए अच्‍छा है।  क्‍योंकि इन्‍हें प्रीजर्व रखने के लिए कुछ रसायनों का इस्‍तेमाल किया जाता है, वेे संदिग्ध हैं।”

गर्भवती महिलाओं के लिए कैसा होगा पौष्टिक आहार ?

वह सिफारिश करती हैंं, “इसका सीधा सा फॉर्मूला है, कि वहीं खाएं, जिसके बारे में आप पहले से जानती हैं, फि‍र चाहें वह  फल हों या सब्जियां। दालें गर्भावस्था के दौरान एक जरूरी आहार है क्योंकि वे कैल्शियम, प्रोटीन, पोटेशियम, आदि पोषक तत्वों से भरपूर हैं।” 

वह कहती हैंं, “ गर्भपात का मुख्य कारण प्रोजेस्टेरोन के स्तर में आई कमी होती है। इसे बढ़ावा देने के लिए आपको अपने आहार में कच्‍चा नारियल, अनार और अंजीर को शामिल करना चाहिए।” 

बत्‍तरा अंत में कहती हैं, “ इसलिए टेंशन मत लो। जो भी आपको पसंद है, उसे मजे से खाओ। लेकिन हां संयम का पालन करें।” 

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

संबंधि‍त सामग्री