40 वर्ष बाद ‘पीटोसिस’ से ठीक हुईं ऐक्ट्रेस जीनत अमान, एक्सपर्ट बता रहे हैं ब्लर विज़न का कारण बनने वाली इस बीमारी के बारे में

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के अनुसार, पीटोसिस एक ऐसी समस्या है जिसमें, ऊपरी पलक समय के साथ झुकने लगती है। इससे पीड़ित व्यक्ति को आमतौर पर देखने में समस्या होने लगती है। यह समस्या जन्मजात या बाद में किन्हीं कारणों के चलते हो सकती है।
सभी चित्र देखे zeenat aman cured ptosis
ज़ीनत अमान को 40 वर्ष बाद पीटोसिस नामक आंखों की समस्या से मुक्ति मिली है। चित्र- अडॉबीस्टॉक

अपने समय की शानदार एक्ट्रेस रहीं ज़ीनत अमान ने हाल ही में अपने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर की हैं, जिसमें उन्होंने बताया की लगभग 40 वर्ष पहले लगी एक चोट के कारण उनको ‘पीटोसिस’ (Ptosis) नामक समस्या से जूझना पड़ा, जिसके इलाज के बाद अब वे पूरी तरह से ठीक है ।

70 वर्षीय एक्ट्रेस ने अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट पर लिखा कि, पिछले 40 वर्ष से इस समस्या के कारण उन्हें देखने में काफी कठिनाई होने लगी थी। इसके कारण पिछले कई वर्षों से उनकी पलकें और अधिक झुकने लगीं, जिससे उन्हें ‘ब्लर्ड विजन’ सहित कई अन्य समस्याओं का सामना भी करना पड़ रहा था।

पीटोसिस के बारे में क्या कहते हैं शोध (Ptosis)

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के अनुसार, पीटोसिस एक ऐसी समस्या है जिसमें, ऊपरी पलक समय के साथ झुकने लगती है। इससे पीड़ित व्यक्ति को आमतौर पर देखने में समस्या होने लगती है। यह समस्या जन्मजात या बाद में किन्हीं कारणों के चलते हो सकती है।

अमेरिकन एकेडमी ऑफ ऑप्थल्मोलॉजी की एक रिपोर्ट में इसके कारणों के बारे में बताया गया। रिपोर्ट के मुताबिक यह समस्या अलग-अलग कारकों की वजह से हो सकती है, जिनमें बढ़ती उम्र, कमजोर मांसपेशियां, और नर्व डैमेज भी शामिल है।

पिटोसिस पर और अधिक जानकारी लेने के लिए हेल्थशॉट्स ने हैदराबाद स्थित कामिनेनी हॉस्पिटल के सीनियर कंसल्टेंट ऑप्थल्मोलॉजिस्ट डॉ.जयपाल रेड्डी से संपर्क किया। डॉ. रेड्डी ने बताया कि पीटोसिस की समस्या अधिकतर बुज़ुर्गों या बच्चों में देखी जाती है। किसी शारीरिक चोट के कारण यह समस्या किसी भी उम्र में हो सकती है।

पीटोसिस यानी पलकों का झुक जाना

डॉ रेड्डी पीटोसिस के बारे में बताते हैं कि, पीटोसिस को आमतौर पर झुकी हुई पलक के रूप में जाना जाता है और आम भाषा में इसे ‘ड्रूपी आईलिड’ (Droopy Eyelid) कहा जाता है। डॉ.रेड्डी बताते हैं कि ‘पीटोसिस’ एक मेडिकल टर्म है, जिसका उपयोग ऊपरी पलक के झुकने या लटकने का वर्णन करने के लिए किया जाता है।

पीटोसिस एक या दोनों आंखों को प्रभावित करता है और इसकी गंभीरता अलग-अलग हो सकती है, जिसमें पलकें हल्की सी भी झुक सकती है और समस्या के अधिक बढ़ जाने की स्थिति में पलकें आंखों को पूरा ढंक लेती हैं, जिसके कारण व्यक्ति का विजन ब्लॉक हो जाता है और उसे देखने में समस्या हो सकती है ।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

किन कारणों की वजह से हो सकती है पीटोसिस की समस्या? (Causes of Ptosis)

डॉ. जयपाल रेड्डी बतातें हैं कि पीटोसिस होने में कई कारण होते हैं।

1 बढ़ती उम्र: डॉ रेड्डी बढ़ती उम्र को पीटोसिस का सबसे आम कारण मानते है। उनके अनुसार, बढ़ती उम्र के साथ पलकों की मांसपेशियां भी कमजोर होने लगती हैं, जिसेक कारण यह समस्या पैदा होती है ।

2 जन्मजात भी होती है यह समस्या: कुछ मामलों में पीटोसिस जन्मजात भी होती है। डॉ.रेड्डी सलाह देते हैं कि अगर यह बचपन से ही दृष्टि में बाधा डालता है, तो जल्द से जल्द इसके उपचार की आवश्यकता होती है।

3 न्यूरोलॉजिकल कारण भी जिम्मेदार: डॉ.रेड्डी के अनुसार कुछ न्यूरोलॉजिकल कारण जैसे मायस्थेनिया ग्रेविस या हॉर्नर सिंड्रोम जैसी स्थितियों में पलक की मांसपेशियों का नियंत्रण प्रभावित होता है, जिससे पीटोसिस होने का खतरा बढ़ जाता है ।

4 किसी चोट की वजह से भी हो सकती है समस्या: आंख या उसके उसके आसपास के क्षेत्र में लगने वाली किसी तेज़ चोट के कारण आंखों के आसपास की मांसपेशियां प्रभावित हो जाती हैं, जिससे मांसपेशियों का पलकों पर नियंत्रण नहीं रहता और पीटोसिस की समस्या उत्पन्न होने लगती है।

5 आंखों या पलकों के पास ट्यूमर: डॉ. रेड्डी बताते हैं कि पलक या आंखों के आसपास के क्षेत्र में होने वाला ट्यूमर पीटोसिस का एक अन्य कारण हो सकता है। लेकिन उनके अनुसार यह कारण बहुत ही दुर्लभ होता है।

palko ki jhukne ki samaya ptosis hoti hai
पलकों के झुकने की समस्या को पीटोसिस कहा जाता है। चित्र- अडोबीस्टॉक

बुज़ुर्गों और बच्चों को होता है सबसे ज्यादा खतरा

डॉ. रेड्डी बताते हैं कि पीटोसिस शिशुओं और बुजुर्गों को अधिक प्रभावित कर सकता है। साथ ही वे यह भी कहते है कि यह समस्या किसी भी आयु वर्ग के व्यक्तियों को हो सकती है। जन्मजात पीटोसिस आमतौर पर बचपन में देखा जाता है, जबकि उम्र से संबंधित पीटोसिस 40 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों में अधिक प्रचलित हो जाता है। पीटोसिस के न्यूरोलॉजिकल और दर्दनाक कारण विभिन्न उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकते हैं।

क्या है पीटोसिस का उपचार (Ptosis treatment)

पीटोसिस के उपचार के बारे में बताते हुए डॉ. जयपाल रेड्डी बताते है कि उपचार के विकल्पों में पीटोसिस के कारकों के बारे में अवलोकन किया जाता है। जिसके बाद, गंभीर मामलों में पलकों की मांसपेशियों को सर्जरी के जरिये व्यवस्थित किया जाता है। साथ ही यदि पीटोसिस का कारण कोई न्यूरोलॉजिकल परेशानी होती है तो विजन को अच्छा करने के लिए आईलिड क्रचेज़ या पीटोसिस क्रचेज़ का इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही कुछ मामलों में अस्थायी राहत के लिए बोटॉक्स इंजेक्शन भी दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: क्या आपका बच्चा ड्राई आईज से जूझ रहा है? जानिए इसके कारण और बचाव के उपाय

  • 135
लेखक के बारे में

पिछले कई वर्षों से मीडिया में सक्रिय कार्तिकेय हेल्थ और वेलनेस पर गहन रिसर्च के साथ स्पेशल स्टोरीज करना पसंद करते हैं। इसके अलावा उन्हें घूमना, पढ़ना-लिखना और कुकिंग में नए एक्सपेरिमेंट करना पसंद है। जिंदगी में ये तीनों चीजें हैं, तो फिजिकल और मेंटल हेल्थ हमेशा बूस्ट रहती है, ऐसा उनका मानना है। ...और पढ़ें

अगला लेख