अनियमित मल त्याग से परेशान है? तो राहत पाने के लिए आजमाएं 3 प्रभावी योगासन

Published on: 18 March 2022, 18:00 pm IST

वर्तमान लाइफस्टाइल को देखें तो कब्ज की समस्या काफी आम हो गई है। इसके लिए आप दवा या अन्य सप्लीमेंट ले सकते हैं। लेकिन स्थायी समाधान के लिए कुछ प्रभावी योगासनों का अभ्यास करना जरूरी है।

kabj se raahat paane ke liye yogasan
कुछ योगासन आपको कब्ज से राहत दे सकते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

कई लोगों में कब्ज एक साधारण शिकायत है। जबकि दवाएं और ट्रीटमेंट मदद कर सकते हैं, कुछ लोगों को वैकल्पिक उपचारों में रुचि हो सकती है, जैसे कि योग। हम जानते हैं कि जब कब्ज की बात आती है, तो योग पहला निदान नहीं हो सकता है। लेकिन कुछ सबूत हैं जो बताते हैं कि योग इसे कम करने में मदद कर सकता है।

उदाहरण के लिए, 2015 में इरिटेबल बावल सिंड्रोम (IBS) वाले लोगों के NCBI के एक अध्ययन ने निर्धारित किया कि योग स्थिति के प्रमुख लक्षणों के लिए एक प्रभावी वैकल्पिक चिकित्सा हो सकता है। यह कब्ज और दस्त से लड़ने में मदद कर सकता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि योग अन्य लक्षणों को दूर करने में भी मदद कर सकता है जो आईबीएस का कारण होते हैं, जैसे चिंता और थकान।

कुछ योग मुद्राएं किसी व्यक्ति के पाचन तंत्र में हेरफेर कर सकती हैं और पाचन तंत्र को मल या गैस पास करने के लिए प्रोत्साहित करके कब्ज को दूर करने में मदद कर सकती हैं।

Constipation aaj ke samay ki samanya pareshai hai
कब्ज आज के समय की सामान्य परेशानी है। चित्र:शटरस्टॉक

यहां हैं वे योगासन जो आपके पाचन को दुरुस्त कर कब्ज से राहत दिलाते हैं

1. अर्ध मत्स्येन्द्रासन (Half Spinal Twist)

लोग इस आसन को योगा मैट या अन्य नरम सतह पर बैठकर कर सकते हैं।

ट्विस्ट करने के लिए:

  1. पैरों को शरीर के सामने सीधा करके बैठें
  2. दाहिने पैर को मोड़ें और दाहिने पैर को बाएं पैर के बाहर जमीन पर रखें, आदर्श रूप से घुटने के पास
  3. बाएं पैर को मोड़ें और उसे हिप्स के नीचे या पास रखें
  4. बाएं हाथ या कोहनी को दाहिने घुटने पर या उसके ऊपर रखें और धीरे से दाहिने कंधे के ऊपर की ओर मोड़ें
  5. कुछ सांसों के लिए मुद्रा को पकड़ें, फिर बाजू बदलें

2. भुजंगासन (Cobra Pose)

भुजंगासन में किसी घुमाव की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन यह गैस जैसे अन्य लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।

आसन करने के लिए:

  1. पेट के बल लेट जाएं और पंजों की उंगलियां बाहर की ओर इशारा करनी चाहिए
  2. हथेलियों को कंधों के बगल में फर्श पर रखें
  3. पेट की मांसपेशियों और पैरों को संलग्न करें
  4. सिर को थोड़ा ऊपर उठाएं, और धीरे से गर्दन को पीछे की ओर मोड़ें
  5. हथेलियों को फर्श में दबाएं, धीरे से कंधों और ऊपरी शरीर को ऊपर उठाएं
  6. कई सांसों के लिए इस मुद्रा में बने रहें
  7. शरीर को वापस फर्श पर छोड़ें और नीचे करें
Bhujangasan is paeshani ko kam karne me helpful hai
भुजंगासन इस पार्शनी को कम करने में मददगार है। चित्र: शटरस्टॉक

3. पवनमुक्तासन (Wind Relieving Pose)

यह पोज़ शुरुआती लोगों के लिए एक आसान मुद्रा है जो कब्ज से जुड़ी गैस को कम करने में मदद कर सकता है।

इसे करने के लिए:

  1. पीठ के बल लेट जाएं और घुटनों को छाती की ओर खींचे
  2. हाथों को पिंडली पर या उसके आसपास रखें
  3. ठुड्डी को अंदर खींचे और धीरे से पीठ को फर्श पर दबाएं
  4. घुटनों को छाती की ओर धीरे से खींचे
  5. कुछ सांसों के लिए मुद्रा में रहें, फिर छोड़ें

यह भी पढ़ें: एक गुजिया में कितनी कैलोरीज होती है? जानिए होली के उत्सव में आपकी फिटनेस पर कितना बोझ पड़ने वाला है

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें