मानसून है स्किन एलर्जी का मौसम, यहां हैं वे 5 कारण जिनके बारे में आपको जानना चाहिए

अगर आपको भी बारिश में भीगना बहुत पसंद है तो इन स्किन इन्फेक्शन्स को जानना आपके लिए ज़रूरी है। एक्‍सपर्ट बता रहीं हैं आपको इनसे बचने के उपाय।
skin ki itching door karein
इचिंग से मुक्त रहने के लिए नियमित रूप से करें ब्लड शुगर की जांच। चित्र- शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 10 Dec 2020, 01:02 pm IST
  • 82

मानसून अपने साथ सिर्फ बारिश की मस्ती ही नहीं लाता, ढेर सारे इन्फेक्शन्स भी लाता है। इस मौसम में सबसे आम समस्या होती है स्किन एलर्जी। स्किन एलर्जी का मुख्य कारण होता है हवा में मौजूद डस्ट और जर्म्स, और नमी। ये सभी मिल कर इस मौसम को स्किन के लिए ज्‍यादा संवेदनशील बना देते हैं।

मानसून में होने वाली एलर्जिक रिएक्शन में यह 5 प्रमुख हैं।

1. एक्जिमा

बदलते मौसम और तापमान में बदलाव के चलते मानसून में एक्जिमा बहुत आम समस्या है। अधिकतर एक्जिमा पैरों और हाथों पर होता है। नहाने के बाद अच्छा मॉइस्चराइजर या नारियल तेल लगाएं। त्वचा को हाइड्रेट रख कर इस समस्या से निजात पाया जा सकता है।

स्किन एलर्जी एक व्यक्ति से परिवार भर में फैल सकती है, डर्मेटोलॉजिस्ट से लें सलाह। चित्र : शटरस्टॉक

2. स्कैबीज़

स्कैबीज़ एक प्रकार के घुन से होती है, जो रात में जबरदस्त खुजली करता है। अक्सर यह इंफेक्शन बच्चों में होता है। बच्चे इसे पूरे परिवार में फैला देते हैं, और यह स्थिति भयानक हो सकती है। स्कैबीज़ हुआ है तो डर्मेटोलॉजिस्ट को दिखाएं। इसके लिए स्पेशल लोशन आते हैं जिनमें पेरमेथ्रिन मौजूद होता है। अगर सही इलाज नहीं किया गया तो यह फ़िर फैल जाएगा। इसलिए डॉक्टर को ज़रूर दिखाना चाहिए।

3. पैर की दाद

मानसून की बड़ी आम समस्या है दाद। इसे एथलीट फुट भी कहते हैं। गीले मोज़े पहनने से, ज्यादा पसीना आने से या बारिश में जूते भीग जाने से यह इंफेक्शन हो जाता है। सबसे मुख्य लक्षण होता है तलवों में सफ़ेद दाद और खाल निकलना।
इससे बचने के लिए जूतों के बजाय सैंडल या चप्पल पहनें। बाहर से आने पर पैरों को साबुन से अच्छी तरह धोएं और तौलिये से सुखाएं। पसीना बहुत आता है तो एन्टी फंगल पाउडर का इस्तेमाल करें।

4. रिंगवॉर्म

रिंगवॉर्म यानी दाद एक फंगल इंफेक्शन होता है। यह दाद लाल रिंग के रूप में शरीर पर नज़र आते हैं। अगर आपके दाद है तो खुद से इलाज करने की कोशिश ना करें, डॉक्टर के पास जाएं। अपने कपड़ों को गर्म पानी से धोएं ताकि फंगस कपड़ों से निकल जाए। दाद पर खुजली न करें, कॉटन के कपड़े पहनें, अपनी टॉवल और शीट्स अलग रखें। डॉक्टर से बिना सलाह कोई दवा न लगाएं।

5. रैशेज़

नमी और उमस के कारण रैशेज़ बहुत ही कॉमन है। अगर आपको रायनाइटिस या एलर्जी है, तो आपको रैशेज़ ज्यादा हो सकते हैं।

 

मानसून में स्किन एलर्जी से ख़ुद को कैसे बचाएं-

1. घर के अंदर पोटेड प्लांट न रखें, इससे एलर्जी का ख़तरा बढ़ जाता है।
2. अपने पेट्स से थोड़ी दूरी बनाएं रखें।
3. घर को साफ रखें। डस्ट से एलर्जी है तो वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल करें।
4. कार्पेट अगर घर पर है तो इस बीच हटा लें। क्योंकि कार्पेट्स इंफेक्शन के लिए ब्रीडिंग ग्राउंड बन सकता है।
5. मास्क पहनें, यह आपको डस्ट और पोलन ग्रेन्स से बचाएगा।
6. नहाने से पहले नारियल तेल से मसाज कर लें, और अच्छे लोशन का इस्तेमाल करें।
7. कोई भी समस्या हो, तो डॉक्टर को ज़रूर दिखाएं।

  • 82
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख