महाशिवरात्रि 2022 : इन 5 टिप्स के साथ हेल्दी तरीके से करें उपवास और खुद को रखें स्वस्थ

Published on: 1 March 2022, 11:00 am IST

व्रत रखने का भी एक सही तरीका होता है और ज़रा सी लापरवाही आपकी सेहत पर भारी पड़ सकती है। जानिए व्रत से जुड़ी 5 टिप्स जो आपको हेलथी तरीके से उपवास रखने में मदद करेंगी।

janiye fasting tips
जानिए आपको नवरात्रि व्रत के दौरान क्या करना चाहिए और क्या नहीं। चित्र : शटरस्टॉक

महाशिवरात्रि सबसे प्रतिष्ठित भारतीय त्योहारों में से एक है और भगवान शिव के सम्मान में हिंदुओं द्वारा भक्ति और उत्साह के साथ मनाया जाता है। शिवरात्रि, का शाब्दिक अर्थ है शिव की महान रात। यह उस दिन को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है, जिस दिन भगवान शिव ने देवी पार्वती से विवाह किया था।

महाशिवरात्रि के अवसर पर, भक्त एक दिन का उपवास रखते हैं और बड़े उत्साह के साथ भगवान शिव की पूजा करते हैं। महाशिवरात्रि व्रत उत्सव की सुबह शुरू होता है और अगले दिन सुबह समाप्त होता है। मगर व्रत के दौरान अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना भी बहुत ज़रूरी है।

व्रत करने का भी एक सही तरीका होता है, नहीं तो यह आपकी सेहत पर भारी पड़ सकता है। तो चलिये जानते हैं हमारी एक्सपर्ट डाइटीशियन अंशिका श्रीवास्तव से कुछ टिप्स। अंशिका न्यूट्री हब की फाउंडर हैं और सर्टीफाइड न्यूट्रिशनइस्ट एंड वेलनेस कोच हैं।

1. खुद को मानसिक रूप से तैयार करें

चूंकि आप एक पवित्र और शुद्ध कारण के लिए उपवास कर रही हैं, खुश, शांत और प्रार्थनापूर्ण रहने से आपको दिन के दौरान सुचारू रूप से चलने में मदद मिलेगी। तनाव मुक्त और खुश रहें, ताकि आप ऊर्जावान महसूस कर सकें और अपनी प्रकृति को संतुलन में रख सकें – इससे आपको अपना उपवास अधिक आसानी से बनाए रखने में मदद मिलेगी।

2. खुद को अच्छी तरह से हाइड्रेट रखें

अपने शरीर को शुद्ध करने के लिए उपवास के दौरान कम से कम आठ गिलास पानी पिएं – यह विषाक्त पदार्थों को शरीर से हटाने में मदद करेगा। यदि आप सिर्फ पानी पर उपवास कर रही हैं, तो अपने शरीर की आवश्यकताओं के अनुरूप पानी की मात्रा बढ़ा दें।

paryapt pani pien
खुद को हाइड्रेट रखें। चित्र : शटरस्टॉक

यह आपको ऊर्जावान रहने और भूख से बचने में मदद करेगा। हालांकि यदि आपके पित्त का स्तर बहुत अधिक है, तो पानी के साथ हल्का आहार लेना बेहतर होगा क्योंकि यह प्रकार विषाक्त पदार्थों को बहुत जल्दी छोड़ देता है।

अंशिका बताती हैं कि – ”व्रत के दौरान खुद को हाइड्रेटेड रखना बहुत ज़रूरी है, जिससे आपकी ऊर्जा बनी रहे और आपको कमजोरी महसूस न हो।”

3. भारी या ज़ोरदार शारीरिक गतिविधि से बचें

जब आप उपवास कर रही हों, तो अपने चयापचय की दर को बनाए रखने और पूरे दिन सक्रिय रहने के लिए भारी कसरत या किसी भी शारीरिक रूप से चुनौतीपूर्ण कार्य / गतिविधि से बचना सबसे अच्छा होगा। इसके बजाय, अपने डेस्क पर काम करने, आध्यात्मिक किताबें पढ़ने, भक्ति संगीत सुनने या, अपने शरीर और दिमाग को आराम देने के लिए ध्यान करना चुनें।

अंशिका का मानना है कि – ”व्रत के दौरान एक्सरसाइज़ कम ही करनी चाहिए, क्योंकि इसके बाद आप अपनी प्रोटीन की जरूरतों को पूरा नहीं कर पाएंगे।”

4. डिटॉक्स करने के लिए लिक्विड चुनें

विभिन्न प्रकार के तरल खाद्य पदार्थों के साथ उपवास करना उन लोगों के लिए एक स्वस्थ विकल्प है, जिन्हें भूखा रहना कठिन लगता है। उदाहरण के लिए, गर्भवती महिलाएं, और मधुमेह वाले लोग, पाचन संबंधी समस्याएं और कमजोरी महसूस कर सकते हैं।

अंशिका के अनुसार – आप अपने आहार में जूस, दूध, मिल्कशेक, हर्बल चाय, दही, या छाछ को शामिल कर सकते हैं ताकि आप अपने उपवास को सफलतापूर्वक पूरा कर सकें। साथ ही, यदि आपको कुछ मीठा खाने का मन है तो लौकी या गाजर की खीर खाएं।

detox karein
डिटॉक्स करने के लिए अच्छी ड्रिंक्स बनाएं।चित्र:शटरस्टॉक

5. हल्का खाएं

यदि आप अपने उपवास में फल और हल्का भोजन शामिल कर रही हैं, तो सुनिश्चित करें कि भोजन हल्का और सीमित मात्रा में हो। यह बहुत अधिक भोजन या फलों से बचने में मदद करेगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि चबाने का शारीरिक कार्य पाचन तंत्र को सक्रिय करने के लिए पेट को एक संकेत भेजता है और भूख के दर्द को शुरू करने वाले पाचक रसों को छोड़ता है।

अंशिका के अनुसार आप इन चीजों का कर सकते हैं सेवन

आपके शिवरात्रि व्रत में दालें, चावल, गेहूं और नमक को, आलू, रतालू, केले, पपीता और खरबूजे जैसे फलों से बदला जा सकता है।

अपने आहार में स्वाद बनाए रखने के लिए सेंधा नमक का प्रयोग करें।

कुछ हल्का खाना है तो आप कुट्टू की रोटी और आलू भी खा सकती हैं। मगर भारी भोजन से बचें।

स्नेक्स में मखाने और मूंगफली लिया जा सकता है। इससे प्रोटीन भी मिलेगा औए एनर्जी भी।

यह भी पढ़ें : व्रत में खाया जाने वाला मखाना, वेट लॉस में भी कर सकता है आपकी मदद, यहां जानिए कैसे

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें